शनिवार, फ़रवरी 29, 2020

रोहिंग्या शरणार्थियों को आतंकी हमलों के लिए उकसा रहा चरमपंथी संगठन – आईसीजी

Must Read

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...

रोहिंग्या संकट को लेकर अब अंतरराष्ट्रीय संकट समूह (आईसीजी) ने एक चेतावनी जारी की है। आईसीजी ने रोहिंग्या शरणार्थियों के ऊपर गंभीर सुरक्षा जोखिम का खतरा बताया है। अराकन रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (एआरएसए) की वजह से रोहिंग्या लोगों पर संकट गहरा हो सकता है।

म्यांमार का चरमपंथी संगठन अराकन रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी व म्यांमार सेना के बीच में ही जातीय हिंसा शुरू हुई थी। इनके बीच हिंसा होने की वजह से ही लाखों की संख्या में रोहिंग्या मुसलमानों को अपना घर छोड़कर जाना पड़ा था।

अब अंतरराष्ट्रीय संकट समूह (आईसीजी) ने अपनी रिपोर्ट में खुलासा किया है कि चरमपंथी संगठन अराकन रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (एआरएसए) बांग्लादेश के शरणार्थी शिविरों में रहने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को वापस से बहला-फुसलाकर अपने समूह में शामिल कर रहे है।

म्यांमार सरकार के खिलाफ भविष्य में खतरनाक ऑपरेशन करने के लिए शिविरो में मौजूद सुस्त व हताश रोहिंग्या मुसलमानों एआरएसए समूह में शामिल होने के लिए आकर्षित किया जा रहा है। इनका मकसद आतंकी गतिविधियो को उकसाना भी हो सकता है।

हिंसात्मक हमलों का दिया जा रहा प्रशिक्षण

आईसीजी की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि विस्थापित रोहिंग्या मुसलमानों व शिविरों में रहने वाले रोहिंग्या को ये चरमपंथी समूह अपने संगठन में भर्ती की कोशिश कर रहा है साथ ही इन्हें हमलों का प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है।

रोहिंग्या लोगों की मजबूरी का फायदा उठाकर उन्हें अपने समूह में शामिल करके आतंकवादी गतिविधियों व हिंसा को भी बढ़ावा दिया जा सकता है।

गौरतलब है कि म्यांमार का चरमपंथी संगठन अराकन रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी की वजह से ही रोहिंग्या की ये दुर्दशा हुई है। ये समूह अब वापिस से आतंकवादी व हिंसात्मक गतिविधियों को करने में सक्रिय हो सकता है। ऐसे हमलों से गंभीर नकारात्मक असर पड़ सकते है।

वहीं अराकन रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी का कहना है कि वह केवल रोहिंग्या लोगों के अधिकारों की रक्षा के लिए लड़ रहा है। उनका मकसद आतंकवाद फैलाना नहीं है।

अब म्यांमार व बांग्लादेश दोनों ही देशों को अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है। दोनो देशों के बीच कुछ समय पहले ही रोहिंग्या की घर वापसी को लेकर समझौता हुआ है।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के लिए 5-6 फिल्मों को अस्वीकार...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -