दा इंडियन वायर » स्वास्थ्य » रोजाना कितने घंटे सोना जरूरी है?
स्वास्थ्य

रोजाना कितने घंटे सोना जरूरी है?

सेहत के सुधार के लिए और हमारे मानसिक एवं शारीरिक विकास के लिए नींद अत्यंत आवश्यक है। हालांकि, ये पाया गया है की जब भी इंसान की व्यस्तता बढती है, नींद उसके काम के लिए कुर्बान होने वाली पहली चीजों में शुमार है।

शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में यह पाया है कि जो लोग प्रतिदिन नियमित रूप से भरपूर नींद लेते हैं, उनकी याददाश्त ज्यादा अच्छा रहती है। मांसपेशियों को बढाने के लिए, तिस्सुएस की मरम्मत के लिए, हार्मोन को संश्लेषित करने के लिए, हमारे शरीर को बहाल करने और उसे फिर से जीवंत करने के लिए लंबे समय तक सोने की आवश्यकता होती है।

हर इंसान को अलग अवधी की नींद की आवश्यकता होती है लेकिन यदि हम सामान्य बात करें तो हर व्यक्ति को लगभग 7-9 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है। अपनी नींद का पूर्ण सदपयोग करने के लिए अपनी आदतों में परिवर्तन अनिवार्य है।

नींद लेने के फायदे (importance of sleep in hindi)

निम्न कुछ कारण है जो नींद को मनुष्य के लिए महत्त्वपूर्ण बनाते हैं:

1. अच्छे स्वास्थ्य के लिए म्नत्त्व्पूर्ण है कि इंसान भरपूर नींद ले

हमारे इम्यून सिस्टम को सही रखने और मेटाबोलिज्म को सुधारने के लिए पर्याप्त नींद लेना आवश्यक है। दिन के कार्य पूर्ण रूप से किये जा सकें इसलिए ज़रूरी है कि इंसान भरपूर नींद का आनंद ले।

नींद का अर्थ केवल अपने मन और मस्तिष्क को आराम देना नहीं होता है अपितु जब हम सो रहे होते हैं तो हमारा शरीर काम कर रहा होता है। इस समय के दौरान, हमारे शरीर में मांसपेशियों का पुनर्निर्माण होता है जो मस्तिष्क में उत्पन्न हानिकारक सजीले टुकड़े और कचरे को साफ कर देते हैं। ये महत्वपूर्ण प्रक्रियाएं हैं जो हमारे मन और शरीर को ठीक से चलते रहें के लिए चाहिए होती हैं।

कभी कभी हम सोच लेते हैं कि जितनी नींद हम ले रहे हैं वो पर्याप्त है लेकिन यह समझना ज़रूरी है कि पर्याप्त नींद लेने के साथ उसे नियमित रूप से पूरी करना बहुत ज़रूरी होता है। इसी के साथ नींद अच्छी गुणवत्ता की हो तभी इसका प्रभाव अधिक होता है।

हालांकि, नींद की गुणवत्ता को परिभाषित नहीं किया जा सकता लेकिन कितनी जल्दी हम सोते हैं, कितनी अधिक बार हमारी मध्य रात्री में नींद टूटती है ये इन सब चीजों पर निर्भर करता है

2. इसको प्राथमिकता न देने से नकारात्मक प्रभाव होते हैं

शोध में यह पाया गया कि तकरीबन एक-तिहाई वयस्क और दो-तिहाई बच्चों को नींद न पूरी होने की बीमारी से झूझना पड़ता है। दुःख की बात यह है कि न सोने से थकान तो होती है लेकिन इसके अलावा इसके काफी विकट परिणाम होते हैं। 

पर्याप्त नींद न मिलने पर कई नकारात्मक प्रभाव होते हैं जिनमें भटका हुआ ध्यान और निर्णय लेने में असक्षमता और दिल की बीमारी, मोटापे, मधुमेह और अल्जाइमर जैसे जोखिम मुख्य रूप से शामिल है। एक अध्ययन में पाया गया है कि कई रातों तक केवल पाँच घंटे की नींद लेने से वही असर होता है जो तब होता है जब हम इतनी शराब पी लेते हैं कि हमारे खून में अल्कोहल कंटेंट 0.06% हो जाता है।

सोते समय ही हमारे शरीर से हर प्रकार के विकार दूर होते हैं इसलिए ये ज़रूरी है कि हम जानें की पर्याप्त नींद न लेने पर अल्झाइमर का खतरा बहुत बढ़ जाता है।

3. आपको कितनी नींद की आवश्यकता है, यह विभिन्न कारणों पर निर्भर करता है

हर व्यक्ति की अलग अलग ज़रूरतें रहती हैं। इसी प्रकार उनकी नींद की ज़रूरत भी अलग अलग होती हैं और अनेक कारणों पर निर्भर करती है।

इसमें एक बहुत बड़ा कारण हमारी उम्र होती है। नींद की अवधि के लिए अधिकारिक सलाह इस प्रकार हैं:

  • बुज़ुर्ग (65+): 7-8 घंटे
  • वयस्क (18-64 वर्ष): 7-9 घंटे
  • किशोर (14-17 वर्ष): 8-10 घंटे
  • स्कूल के बच्चे (6-13 वर्ष): 9-11 घंटे
  • प्रीस्कूलर (3-5 वर्ष): 10-13 घंटे
  • बच्चा (1-2 वर्ष): 11-14 घंटे
  • शिशु (4-11 महीने): 12-15 घंटे
  • नवजात शिशु (0-3 महीने): 14-17 घंटे

हालांकि, कुछ लोगों की नींद की ज़रूरत अन्य कारणों पर निर्भर कर सकती है वे कारण हैं:

आनुवंशिक ढांचा

जेनेटिक्स (आनुवंशिक) एक और निर्धारक है कि प्रति रात आपको कितने घंटों की ज़रूरत है। उदाहरण के लिए, जिनके एक विशिष्ट जेनेटिक म्युटेशन होते हैं, वे लगभग छह घंटे में ठीक हो जाते हैं, जबकि इसके बिना लोगों को औसतन आठ घंटे लगते हैं। कुछ अन्य जेनेटिक म्युटेशन वाले लोग अधिक नींद के अभाव से अधिक नकारात्मक प्रभाव डालते हैं या गहरी नींद महसूस करते हैं।

दुर्भाग्य से, कोई भी अपना जेनेटिक म्युटेशन नहीं बदल सकता है इसलिए ज़रूरी ये है कि हम पहचाने कि हमें कितनी नींद की आवश्यकता होती है। और कितनी नींद से हमें थकान महसूस होती है ताकि हम अपने लिए उचित नींद की अवधि जान सकें

नींद की गुणवत्ता (quality of sleep in hindi)

हमारी नींद की गुणवत्ता भी हमे प्रभावित करती है यदि आपकी नींद की गुणवत्ता खराब है तो आप कितना भी सो लें आपको थकान लगेगी ही वही यदि यह अच्छी है तो हम कम नींद लेने के बाद ही जोशीला महसूस करेंगे इसलिए यह ज़रूरी है कि हम न सिर्फ सोने की अवधि पर ध्यान दें बल्कि ये भी देखें कि हमें किस प्रकार की नींद मिल रही है

इसके अतिरिक्त, कई विकारों का नींद की गुणवत्ता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, जैसे कि स्लीप एपनिया यदि आप नियमित रूप से महसूस करते हैं कि आप अच्छी तरह से नहीं सो रहे हैं या बहुत थक गए हैं और पता नहीं क्यों तो आपको अपने डॉक्टर से इसके बारे में परामर्श ले लेना चाहिए।

बेहतर नींद के लिए टिप्स (good sleep tips in hindi)

चूंकि, गुणवत्ता नींद के लिए अत्यधिक महत्त्वपूर्ण है, इसलिए ये ज़रूरी है कि हम उस पर अधिक ध्यान दें। अच्छी नींद पाने के लिए कुछ उपाय निम्न हैं:

  • मैडिटेशन करें
  • ज्यादा एक्टिव रहें
  • इलेक्ट्रॉनिक्स का उपयोग कम करें
  • कैफीन, निकोटीन और अल्कोहल की मात्रा कम करें
  • नियमित सूची का पालन करें
  • एक शांत सोने का समय व्यतीत करें
  • अपना वातावरण आरामदायक बनाएं

About the author

दिव्या

7 Comments

Click here to post a comment

  • मेरी एज २१ साल है मैं रोज़ ८ बजे सोता हूँ मैं रोज़ यह योजना बनाकर सोता हूँ कि मुझे रोज़ सुबह जल्दी उठना है लेकिन मेरी नींद 1 बजे hi रात में खुल जाती है फिर नींद नहीं आती ओर फिर दिनभर नींद आती है मुझे क्या खाना चाहिए?

  • मेरी उम्र 24 साल है मुझे रात में 8 गहनते सोने का टाइम नहीं मिलता तो क्या मैं उसके बदले दिन में नींद पूरी कर सकता हूँ?

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!