Tue. Mar 5th, 2024
    रूस ने कहा कि अगर फिनलैंड, स्वीडन नाटो में शामिल होते हैं तो उनके लिए अच्छा नहीं होगा

    रूस ने बाल्टिक सागर क्षेत्र में और उसके आसपास के इलाको में  परमाणु हथियार तैनात करने की कसम खाई है यदि फिनलैंड और स्वीडन उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन में शामिल हो जाते हैं । राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन यूक्रेन के प्रति अभी भी अपना आक्रोश दिखने में लगे है।  

    “इस मामले में, बाल्टिक के लिए गैर-परमाणु स्थिति की कोई बात नहीं हो सकती है,” रूस की सुरक्षा परिषद के उप प्रमुख और पूर्व राष्ट्रपति दिमित्री मेदवेदेव ने गुरुवार को एक टेलीग्राम पोस्ट में कहा, रूस इस्कंदर मिसाइलों, हाइपरसोनिक हथियारों और परमाणु हथियारों से लैस जहाज को क्षेत्र में तैनात करने में बिलकुल भी संकोच नहीं करेगा ।

    मेदवेदेव की टिप्पणी रूस द्वारा दी गई सबसे विशिष्ट चेतावनियों में से एक है, इस संभावना के जवाब में कि उसके उत्तर-पश्चिमी पड़ोसी दशकों के बहिष्कार के बाद गठबंधन में फिर से शामिल होंगे। हालांकि, यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के बाद, फिनलैंड और स्वीडन दोनों ने इस सप्ताह कहा कि वे मामले के अपने विश्लेषण को तेज कर रहे हैं।

    देखा जाए तो रूस के दावे खली बर्तन बजने से कम नहीं है क्योंकि रूस पहले से ही बाल्टिक सागर पर कैलिनिनग्राद के अपने एक्सक्लेव में परमाणु हथियार रखता है, लिथुआनियाई रक्षा मंत्री अरविदास अनुसुस्कस ने गुरुवार को बीएनएस समाचार सेवा को इस बारे में बताया।  

    क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने बाल्टिक क्षेत्र में परमाणु हथियारों की तैनाती की संभावना पर कोई टिप्पणी नहीं दी  लेकिन कहा कि पुतिन ने पहले ही सेना को रूस की पश्चिमी सीमाओं के साथ सुरक्षा बढ़ाने की योजना तैयार करने का आदेश दिया है।

    मेदवेदेव ने आशा व्यक्त की कि देश गठबंधन से बाहर हो जाएंगे।

    यदि देश गठबंधन में शामिल हो जाते हैं, तो “हमें अपनी भूमि बलों और विमान-विरोधी को गंभीरता से मजबूत करने की आवश्यकता पड़ सकती है । इसके अलावा, हम फिनलैंड की खाड़ी में पर्याप्त नौसैनिक बलों को तैनात करेंगे, ”मेदवेदेव ने कहा।

    हालांकि नाटो सदस्यता पर विचार करने की पहल दोनों देशों में रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद ही हुई, मेदवेदेव ने कहा कि रूस को इस बारे में दोष देना सही नहीं होगा।  

    उसी समय, उन्होंने सुझाव दिया कि यूक्रेन को पश्चिमी गठबंधन से बाहर रखना रूस के संचालन का एक प्रमुख लक्ष्य था, क्रेमलिन फिनलैंड और स्वीडन क्षेत्र के साथ स्थिति को अलग नज़ीरिये से देखता है।  

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *