मंगलवार, अक्टूबर 15, 2019

रिलायंस जिओ से प्रतिस्पर्धा में वोडाफ़ोन द्वारा बटोरी गयी 25,000 करोड़ की पूँजी भी नहीं है पर्याप्त : रिपोर्ट

Must Read

मारुति सुजुकी ने बीते वित्त वर्ष में सीएसआर पर 154 करोड़ रुपया खर्च किया

नई दिल्ली, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश की प्रमुख ऑटोमोबाइल कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने मंगलवार को कहा कि उसने...

पाकिस्तान में विस्फोट, पुलिसकर्मी की मौत, 11 घायल

इस्लामाबाद, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। पाकिस्तान के दक्षिण पश्चिम बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी क्वेटा में मंगलवार को अज्ञात आतंकवादियों द्वारा...

8वां विश्व पर्यटन आर्थिक मंच मकाओ में आयोजित

बीजिंग, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। 8वां विश्व पर्यटन आर्थिक मंच 14 अक्टूबर को मकाओ में उद्घाटित हुआ। देशी-विदेशी अतिथियों ने...
विकास सिंह
विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

हाल ही की रिपोर्ट्स के अनुसार भारत के शीर्ष प्रदाताओं में से एक वोडाफोन को अपने बिज़नस में अप्रैल तक 25000 करोड़ अतिरिके पूँजी के निवेश की आशा है। इतनी पूँजी यह विभिन्न कंपनियों में से अपनी हिस्सेदारी बेचकर जुटाएगा। इस पर कुछ विशेषज्ञों का कहना है की तेजी से वृद्धि करते जिओ से प्रतिस्पर्धा में और अपने घाटों की भरपाई करने में वोडाफोन को यह पूँजी भी कम पड सकती है।

वोडाफोन को सुधारना होगा ARPU :

फाइनेंसियल एक्सप्रेस के मुताबिक मोतीलाल ओसवाल द्वारा पेश की गयी रिपोर्ट के अनुसार हालांकि वोडाफोन हाल ही में बटोरी गयी पूँजी से अपने घाटे की आपूर्ति कर लेगा लेकिन फिर भी यह बाज़ार में जिओ से प्रतिस्पर्धा नहीं कर पायेगा। अपने आप को बाज़ार में स्थिर करने के लिए और वृद्धि करने के लिए वोडाफोन को अपना ARPU अर्थात औसत आय प्रति ग्राहक बढाने की सख्त ज़रुरत हैं अन्यथा यह घाटे में ही चलता रहेगा।

इसका एक और कारण यह है की जहां वोडाफोन अपने ग्राहक खोता जा रहा है, वहीँ जिओ के ग्राहक लगातार बढ़ रहे हैं। ऐसे में इतने अंतर को भरने में बहुत सारा समय और निवेश लगेगा जिसके चलते हाल ही में 25000 करोड़ की पूँजी भी कम पड़ने की आशंका है।

वोडाफ़ोन की अगली पांच तिमाही की ये है योजना :

अपनी अप्रैल तक जुटाई जाने वाली पूँजी के द्वारा वोडाफोन अगली पांच तिमाहियों में कुल 20000 करोड़ व्यय करने की योजना बना रहा है। वोडाफोन आइडिया को उम्मीद है कि अगली दो तिमाहियों में भी इसके न ग्राहकों की संख्या कम होने के पूरे आसार हैं क्योंकि इसने न्यूनतम रिचार्ज योजना जारी की है।

लेकिन अगली तिमाहियों में वोडाफोन विभिन्न योजनाओं में जमकर खर्च करने वाला है। इसको आशा है की इससे जिओ को टक्कर मिलेगी और उसका एकाधिकार सफल नहीं होगा।

वोडाफोन का आखिरी तिमाही का प्रदर्शन नहीं रहा ख़ास :

वोडाफोन ने हाल ही मिएँ अपने तीसरी तिमाही के परिणाम घोषित किये जिसके विश्लेषण से पता चला की यह भी जिओ से बहुत प्रभावित हुआ है। दुसरे सभी प्रदाताओं के मुकाबले इसकी आय प्रति ग्राहक सबसे कम रही है जोकि केवल 89 रूपए है।

इसके अलावा पिछली तिमाही की रिपोर्ट के अनुसार वोडाफोन ने तिमाही में कुल 3.5 करोड़ ग्राहक खो दिए और इसके साथ साथ इसे कुल 5004 करोड़ का घाटा भी हुआ है। यदि वोडाफोन का प्रदर्शन और आय नहीं सुधरे तो यह दुसरे प्रदाताओं से प्रतिस्पर्धा नहीं कर पायेगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

मारुति सुजुकी ने बीते वित्त वर्ष में सीएसआर पर 154 करोड़ रुपया खर्च किया

नई दिल्ली, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश की प्रमुख ऑटोमोबाइल कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने मंगलवार को कहा कि उसने...

पाकिस्तान में विस्फोट, पुलिसकर्मी की मौत, 11 घायल

इस्लामाबाद, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। पाकिस्तान के दक्षिण पश्चिम बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी क्वेटा में मंगलवार को अज्ञात आतंकवादियों द्वारा किए गए विस्फोट में एक...

8वां विश्व पर्यटन आर्थिक मंच मकाओ में आयोजित

बीजिंग, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। 8वां विश्व पर्यटन आर्थिक मंच 14 अक्टूबर को मकाओ में उद्घाटित हुआ। देशी-विदेशी अतिथियों ने कहा कि पर्यटन वैश्विक आर्थिक-व्यापारिक...

चीन का 36वां अंटार्कटिक अध्ययन शुरू होगा

बीजिंग, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। 15 अक्तूबर को दोपहर बाद चीन द्वारा स्वनिर्मित ध्रुवीय वैज्ञानिक जांच का आइसब्रेकर शुए लोंग नंबर-2 दक्षिण चीन के शेन...

महिला कल्याण योजनाओं की निगरानी महिला नोडल अधिकारी करेंगी : योगी

लखनऊ, 15 अक्टूबर(आईएएनएस)। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि महिलाओं से जुड़ी शासन की योजनाओं को लेकर सभी नामित महिला नोडल अधिकारी अपने-अपने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -