भारत ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज: राहुल द्रविड़ और चेतेश्वर पुजारा के नाम टेस्ट मैच में बना एक अनजाना संयोग

pujara dravid

जब से भारतीय टीम के अनुभवी खिलाड़ी राहुल द्रविड़ ने टेस्ट क्रिकेट से सन्यास लिया है, तब से चतेश्वर पुजारा को उनके प्रतिस्थापन के रुप में देखा जा रहा है और उनको भारतीय उपमहाद्वीप के बाहर उनके खेल के लिए उनकी ओलोचना भी की गई थी।

अगर इन दोनो खिलाड़ियो की तुलना की जाए तो चतेश्वर पुजारा राहुल द्रविड़ से पीछे है, लेकिन जब आकड़ो की बात आती है तो 30 साल के पुजारा अपने सीनियर खिलाड़ी से थोड़े आगे है।

गुरुवार को ऐडिलेड मे खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के पहले दिन पुजारा ने टीम को संकंट से निकालते हुए ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया में पहला शतक लगाया, उन्होने भारतीय टीम के लिए बहुत गर्मी भरे दिन में 123 रन की पारी खेली।

पुजारा ने ऑस्ट्रेलिया में 123 रन की पारी खेलकर राहुल द्रविड़ के एक प्रकिया के सामान्य आए। पुजारा ने टेस्ट मैच की 108 इनिंग में अपने नाम 5000 रन पूरे किए जो कि इससे पहले राहुल द्रविड़ ने भी सामान्य इनिंग खेलकर इतने ही रन बनाए थे, बात यही खत्म नही होती पुजारा ने जब टेस्ट करियर में अपने 3000 रन पूरे किए थे, तो उन्होने तब भी राहुल द्रविड़ के बराबर 67 इनिंग खेली थी, और 4000 रन पूरे करने के लिए भी द्रविड़ के बराबर 87 इनिंग खेली।

पुजारा ने ऐडिलेड मे खेले गए पहले दिन के खेल में अपने क्लास से ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाजो के पसीने छूटा दिए और 246 गेंदो का सामना करके 123 रन बनाए, एक वक्त भारत की टीम 127 रन पर 6 विकेट खो बैठी थी।

लेकिन पेट कमिंस के सीधे थ्रो के कारण चतेश्वर पुजारा को पहले दिन की आखिरी गेंद पर अपना विकेट गवाना पड़ा और उन्होने अपने इस शतक को अपने 16 शतको मे से टॉप-5 पर रखा है।

पुजारा का यह साल का विदेशी धरती पर दूसरा शतक हैं इससे पहले उन्होने इंग्लैंड के खिलाफ 5 टेस्ट मैच की सीरीज में एक शतक जड़ा था।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here