राष्ट्रमंडल टेटे चैम्पियनशिप में मुश्किल चुनौती का सामना करने तैयार है भारत

table tennis
bitcoin trading

कटक, 16 जुलाई (आईएएनएस)| जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में 21वीं राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस चैम्पियनशिप में भारत को ग्रुप दौर मे मजबूत प्रतिद्वंद्वियों का सामना करना पड़ सकता है। भारतीय टीम के कप्तान अचंता शरथ कमल ने हालांकि कहा है कि शुक्रवार से शुरू हो रही इस चैम्पियनशिप में भारतीय टीम बेहतरीन प्रदर्शन कर होस्ट एसोसिएशन कप अपने पास ही रखेगी। भारत को इस चैम्पियनशिप में ग्रुप-बी में सिंगापुर और स्कॉटलैंड के साथ रखा गया है। वहीं ग्रुप-ए में इंग्लैंड के अलावा श्रीलंका और साइपरस हैं।

हर ग्रुप से शीर्ष दो टीम अगले चरण के लिए क्वालीफाई करेंगी।

शरथ ने कहा है कि भारतीय टीम स्वर्ण पदक अपने नाम करने में सफल रहेगी। उन्होंने कहा, “हम अपने ग्रुप में सबसे मजबूत टीम हैं। चूंकि इंग्लैंड, नाइजीरिया और सिंगापुर ने अपने शीर्ष खिलाड़ी यहां नहीं भेजे हैं, ऐसे में भारत की पुरुष टीम के इस टूर्नामेंट में जीतने की काफी संभावनाएं हैं।”

राष्ट्रमंडल खेलों के आने से राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप को ज्याद प्राथमिकता नहीं मिलती। शरथ ने हालांकि भारतीय टेबल टेनिस महासंघ के प्रयासों को सराहा है।

उन्होंने कहा, “आईटीएफआई ने सभी टीमों की मुफ्त में मेहमानबाजी कर शानदार काम किया है और इसने टूर्नामेंट को जिंदा रखा है।”

शरथ ने कहा कि वर्ल्ड नंबर-24 जी. साथियान के आने से टीम के जीतने की संभावनाएं और बढ़ गई हैं।

उन्होंने कहा, “वह अपने जीवन की बेहतरीन फॉर्म में हैं। दो अनुभवी खिलाड़ी लियाम पिचफोर्ड और पाउल ड्रिंकहॉल (इंग्लैंड) और अरुणा कादरी और सेगुन टोरीओला (नाइजीरिया) यहां नहीं हैं। सिंगापुर ने भी युवा टीम उतारी है जबकि अन्य टीमें इतनी मजबूत नहीं हैं। इससे हमारा काम आसान हो गया है।”

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here