गुरूवार, अक्टूबर 17, 2019

राष्ट्रमंडल टेटे चैम्पियनशिप में मुश्किल चुनौती का सामना करने तैयार है भारत

Must Read

पशुपालन से 4 गुनी हो सकती है किसानों की आय : सचिव (एक्सक्लूसिव इंटरव्यू)

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। किसानों की आमदनी 2022 तक दोगुनी करने के मोदी सरकार के लक्ष्य को हासिल...

देवोलीना भट्टाचार्जी का जीवन परिचय

हिंदी सीरियल में आज्ञाकारी बहु के किरदार को दर्शाने वाली 'गोपी बहु' यानि 'देवोलीना भट्टाचार्जी' जिनके अभिनय को स्टार...

दिल्ली : फिर गिरा शेर के पिंजरे में युवक, उसके बाद क्या हुआ तमाशा?

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। दिल्ली स्थित चिड़िया घर में एक युवक गुरुवार को शेर के पिंजरे में जा...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

कटक, 16 जुलाई (आईएएनएस)| जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में 21वीं राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस चैम्पियनशिप में भारत को ग्रुप दौर मे मजबूत प्रतिद्वंद्वियों का सामना करना पड़ सकता है। भारतीय टीम के कप्तान अचंता शरथ कमल ने हालांकि कहा है कि शुक्रवार से शुरू हो रही इस चैम्पियनशिप में भारतीय टीम बेहतरीन प्रदर्शन कर होस्ट एसोसिएशन कप अपने पास ही रखेगी। भारत को इस चैम्पियनशिप में ग्रुप-बी में सिंगापुर और स्कॉटलैंड के साथ रखा गया है। वहीं ग्रुप-ए में इंग्लैंड के अलावा श्रीलंका और साइपरस हैं।

हर ग्रुप से शीर्ष दो टीम अगले चरण के लिए क्वालीफाई करेंगी।

शरथ ने कहा है कि भारतीय टीम स्वर्ण पदक अपने नाम करने में सफल रहेगी। उन्होंने कहा, “हम अपने ग्रुप में सबसे मजबूत टीम हैं। चूंकि इंग्लैंड, नाइजीरिया और सिंगापुर ने अपने शीर्ष खिलाड़ी यहां नहीं भेजे हैं, ऐसे में भारत की पुरुष टीम के इस टूर्नामेंट में जीतने की काफी संभावनाएं हैं।”

राष्ट्रमंडल खेलों के आने से राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप को ज्याद प्राथमिकता नहीं मिलती। शरथ ने हालांकि भारतीय टेबल टेनिस महासंघ के प्रयासों को सराहा है।

उन्होंने कहा, “आईटीएफआई ने सभी टीमों की मुफ्त में मेहमानबाजी कर शानदार काम किया है और इसने टूर्नामेंट को जिंदा रखा है।”

शरथ ने कहा कि वर्ल्ड नंबर-24 जी. साथियान के आने से टीम के जीतने की संभावनाएं और बढ़ गई हैं।

उन्होंने कहा, “वह अपने जीवन की बेहतरीन फॉर्म में हैं। दो अनुभवी खिलाड़ी लियाम पिचफोर्ड और पाउल ड्रिंकहॉल (इंग्लैंड) और अरुणा कादरी और सेगुन टोरीओला (नाइजीरिया) यहां नहीं हैं। सिंगापुर ने भी युवा टीम उतारी है जबकि अन्य टीमें इतनी मजबूत नहीं हैं। इससे हमारा काम आसान हो गया है।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

पशुपालन से 4 गुनी हो सकती है किसानों की आय : सचिव (एक्सक्लूसिव इंटरव्यू)

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। किसानों की आमदनी 2022 तक दोगुनी करने के मोदी सरकार के लक्ष्य को हासिल...

देवोलीना भट्टाचार्जी का जीवन परिचय

हिंदी सीरियल में आज्ञाकारी बहु के किरदार को दर्शाने वाली 'गोपी बहु' यानि 'देवोलीना भट्टाचार्जी' जिनके अभिनय को स्टार प्लस के सीरियल 'साथ निभाना...

दिल्ली : फिर गिरा शेर के पिंजरे में युवक, उसके बाद क्या हुआ तमाशा?

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। दिल्ली स्थित चिड़िया घर में एक युवक गुरुवार को शेर के पिंजरे में जा गिरा। शेर के सामने युवक...

स्कंदगुप्त को इतिहास के पन्नों पर स्थापित करने की जरूरत : अमित शाह (लीड-1)

वाराणसी, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने गुरुवार को कहा कि सम्राट स्कंदगुप्त के पराक्रम और उनके शासन चलाने की कला पर...

मुझे अपने सिवाय कुछ और साबित करने की जरूरत नहीं : जेजे

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। स्ट्राइकर जेजे लालपेखलुवा भारतीय फुटबाल में एक बड़ा नाम हैं। वह हालांकि अभी सर्जरी के बाद रीहैब पर हैं...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -