सोमवार, फ़रवरी 24, 2020

राष्ट्रमंडल टेटे चैम्पियनशिप में मुश्किल चुनौती का सामना करने तैयार है भारत

Must Read

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

कटक, 16 जुलाई (आईएएनएस)| जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में 21वीं राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस चैम्पियनशिप में भारत को ग्रुप दौर मे मजबूत प्रतिद्वंद्वियों का सामना करना पड़ सकता है। भारतीय टीम के कप्तान अचंता शरथ कमल ने हालांकि कहा है कि शुक्रवार से शुरू हो रही इस चैम्पियनशिप में भारतीय टीम बेहतरीन प्रदर्शन कर होस्ट एसोसिएशन कप अपने पास ही रखेगी। भारत को इस चैम्पियनशिप में ग्रुप-बी में सिंगापुर और स्कॉटलैंड के साथ रखा गया है। वहीं ग्रुप-ए में इंग्लैंड के अलावा श्रीलंका और साइपरस हैं।

हर ग्रुप से शीर्ष दो टीम अगले चरण के लिए क्वालीफाई करेंगी।

शरथ ने कहा है कि भारतीय टीम स्वर्ण पदक अपने नाम करने में सफल रहेगी। उन्होंने कहा, “हम अपने ग्रुप में सबसे मजबूत टीम हैं। चूंकि इंग्लैंड, नाइजीरिया और सिंगापुर ने अपने शीर्ष खिलाड़ी यहां नहीं भेजे हैं, ऐसे में भारत की पुरुष टीम के इस टूर्नामेंट में जीतने की काफी संभावनाएं हैं।”

राष्ट्रमंडल खेलों के आने से राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप को ज्याद प्राथमिकता नहीं मिलती। शरथ ने हालांकि भारतीय टेबल टेनिस महासंघ के प्रयासों को सराहा है।

उन्होंने कहा, “आईटीएफआई ने सभी टीमों की मुफ्त में मेहमानबाजी कर शानदार काम किया है और इसने टूर्नामेंट को जिंदा रखा है।”

शरथ ने कहा कि वर्ल्ड नंबर-24 जी. साथियान के आने से टीम के जीतने की संभावनाएं और बढ़ गई हैं।

उन्होंने कहा, “वह अपने जीवन की बेहतरीन फॉर्म में हैं। दो अनुभवी खिलाड़ी लियाम पिचफोर्ड और पाउल ड्रिंकहॉल (इंग्लैंड) और अरुणा कादरी और सेगुन टोरीओला (नाइजीरिया) यहां नहीं हैं। सिंगापुर ने भी युवा टीम उतारी है जबकि अन्य टीमें इतनी मजबूत नहीं हैं। इससे हमारा काम आसान हो गया है।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...

गुजरात सीएम विजय रूपानी ने डोनाल्ड ट्रम्प-मोदी रोड शो की तैयारी की की समीक्षा

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी (Vijay Rupani) ने गुरुवार को अहमदाबाद में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi)...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -