Sun. May 19th, 2024

    राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को कहा कि तकनीक से प्रदूषण जैसी समस्याओं का समाधान संभव है। कानपुर के तकनीकी संस्थान इसका उपाय खोजने में लगे हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शनिवार को कानपुर के पनकी स्थित पीएसआइटी में ‘रीसेंट एडवांसमेंट्स इन कंप्यूटर साइंस कम्युनिकेशन एंड इनफॉरमेशन टेक्नोलोजी’ विषय पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय कन्फ्रेंस में शामिल होने पहुंचे थे।

    उन्होंने कहा, “कानपुर को एशिया का मैनचेस्टर कहा जाता रहा है। आईआईटी कानपुर देश के सबसे पुराने आइआइटी में से एक है। ऐसे संस्थान प्रदूषण व जलवायु परिवर्तन के कारण होने वाली समस्याओं का समाधान तलाश रहे हैं। तकनीक के नुकसान व फायदे दोनों हैं। प्रदूषण बढ़ाने में भी तकनीक की भूमिका रहती है। इसका समाधान भी तकनीक से निकाला जा सकता है।”

    उन्होंने कहा, “कानपुर के चमड़ा उद्योग का पूरी दुनिया में नाम है। यहां की मिलें भी पूरी दुनिया में जानी जाती रही हैं। यहां के लोग शुरू से ही तकनीक को पसंद करने वाले रहे हैं। इस शहर में परंपरा और तकनीक का बेजोड़ उदाहरण है।”

    राष्ट्रपति ने कहा, “आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निग व इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) ने जहां काम को आसान व पारदर्शी बनाया है, वही कामकाजी मनुष्य की जरूरत भी कम हुई है। अंतर्राष्ट्रीय कांफ्रेंस में इन समस्याओं पर और सारे पहलू पर मंथन किया जाना चाहिए और वैज्ञानिक, शिक्षाविद व शोधार्थी मिलकर इसका समाधान तलाश सकते हैं।”

    राष्ट्रपति इसके बाद छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविद्यालय पहुंचे, जहां उन्होंने पूर्व छात्र सम्मेलन के अवसर पर खुद एंडोवमेंट फंड में एक लाख ग्यारह हजार रुपये देकर अक्षय निधि की शुरुआत की।

    उन्होंने कहा, “सभी इसमें अपना योगदान दे सकते हैं। इस निधि का प्रयोग कर प्रतिवर्ष पूर्व छात्र सम्मेलन का आयोजन होना चाहिए। इसका उद्देश्य धन एकत्र करना नहीं होना चाहिए।”

    राष्ट्रपति ने कहा, “पूर्व छात्रों के अनुभवों से वर्तमान छात्रों को फायदा मिलना चाहिए। किसी ने विज्ञान, कला, संस्कृति, गायन, तकनीक के क्षेत्र में अच्छा काम किया होगा, तो वह अपने अनुभव जरूर साझा करेगा। इसका लाभ विश्वविद्यालय और महाविद्यालयों को मिलेगा। पूर्व छात्र सम्मेलन की तिथि प्रतिवर्ष 30 नवंबर हो सकती है।”

    उन्होंने कहा, “मैं स्कूल कॉलेज का छात्र जीवन कभी नहीं भूल सकता। मैं भी अपने चुन्नीगंज स्कूल (कानपुर) जाना चाहता हूं, जहां से मैंने इंटर की पढ़ाई की है। पिछली बार मैं जब वहां से गुजरा, तो मेरे सामने मेरा पूरा छात्र जीवन गुजर गया, लेकिन प्रोटोकोल की वजह से मैं जा नहीं पाता हूं। मुझे अपना डीएवी कॉलेज भी बहुत याद आता है।”

    इस मौके पर राष्ट्रपति ने अपने-अपने क्षेत्रों में बेहतरीन काम करने वाले कानपुर के पांच लोगों को सम्मानित किया।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *