Wed. May 29th, 2024
    मोहन भागवत आरएसएस

    सुप्रीम कोर्ट में राम जन्मभूमि की सुनवाई जनवरी 2019 तक टालने के बाद आज आगे की रणनीति तय करने के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की मुलाक़ात हुई।

    मुंबई में आरएसएस के तीन दिवसीय ‘अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल’ मीटिंग के पहले दिन आरएसएस के जॉइंट जनरल सेक्रेटरी मनमोहन वैद्य ने कहा कि ‘राम मंदिर के निर्माण में यह देरी हिंदुओं को बहुत परेशान रही है। मंदिर का निर्माण राष्ट्रीय गौरव का विषय है।’

    सूत्रों के अनुसार मीटिंग में सबरीमाला मुद्दे पर भी चर्चा की गई।

    इससे पहले आरएसएस अध्यक्ष मोहन भगवत ने अपने विजयादशमी के सम्बोधन में भी राम मंदिर के लिए क़ानून लाने की बात कही थी।

    इस मीटिंग में आरएसएस नेताओं के अलावा भाजपा के बड़े नेता और संघ से अन्य इकाई विश्व हिन्दू परिषद्, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद्, भारतीय मजदूर संघ और भारतीय किसान संघ ने भी हिस्सा लिया।

    सीनियर भाजपा नेता और बजरंग दल के अध्यक्ष विनय कटियार ने कहा कि उन्होंने उम्मीद छोड़ दी है कि 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले मंदिर का निर्माण हो पायेगा। इसलिए अब इस पर अध्यादेश लाने का वक़्त है।

    भाजपा के राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने घोषणा किया है कि वो राम मंदिर के लिए संसद में प्राइवेट मेंबर बिल लाएंगे।

    सुप्रीम कोर्ट ने पिछले हफ्ते राम जन्मभूमि पर सुनवाई जनवरी 2019 तक के लिए टाल दी थी जिसके बाद भाजपा के अंदर से ही मंदिर के लिए संसद में बिल लाने की मांग उठ रही है। भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने भी कहा है कि अगर सरकार मंदिर के लिए संसद में बिल लाएगी तो वो उसका समर्थन करेगी।

    इसके अलावा सरकार पर अन्य हिंदूवादी संगठनों की तरफ से भी मंदिर के लिए संसद में बिल लाने का दवाब बढ़ रहा है।
    शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे आगामी 25 नवम्बर को अयोध्या जा रहे हैं। उनकी अयोध्या यात्रा से मंदिर मुद्दे पर फिर से राजनितिक उबाल आने की संभावना है।

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *