राजस्थान चुनाव: सचिन पायलट के किले में वसुंधरा का हाउसफुल शो

vasundhara road show

4 दिसंबर दोपहर के 2 बजे, टोंक में वीर तिजाजी जाट होस्टल छात्रों और भाजपा कार्यकर्ताओं से भरा हुआ है। थोड़ी ही देर में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे अपना रोड शो शुरू करने वाली हैं। उससे पहले उन्होंने होस्टल के दूसरी तरफ स्थित भूतेश्वर महादेव के मंदिर में पूजा किया। महिला भाजपा कार्यकर्ता हाथों में फूलों की माला लिए वसुंधरा के स्वागत के लिए खड़ी है।

महिला मोर्चा की रमा चौधरी बहुत उत्साहित हैं और कहती है “ये पहली बार है कि हमारी रानी सा यहाँ रोड शो करने वाली हैं, ये खूब सफल होना चाहिए। जाट होस्टल के बगल में ही गुज्जर होस्टल, जो अपेक्षाकृत शांत है। टोंक में जाट, गुज्जर, मीणा तीनो अग्रणी जातियों के अपने होस्टल है जो अपने जाति के समूह द्वारा चलाये जाते हैं और अपनी जाति  के छात्रों को सस्ते में आवास मुहैया कराते हैं।

ये पढ़ें: राजस्थान चुनाव: वसुंधरा हारे जा जीते लेकिन फिलहाल सारे मुद्दों को गौण कर राजनीति की केंद्र में वही हैं

एक भाजपा समर्थक कहते हैं “सचिन पायलट गुज्जर हैं और गुज्जर उनका समर्थन कर रहे हैं।” वक़्त के साथ भीड़ बढती जाती है। युवाओं का एक समूह भाजपा के झंडे के साथ डीजे के शोर पर डांस कर रहा है। ये डीजे रोड शो के लिए बुलाया गया है। डीजे पर ‘युनुस खान को जिताना मेरे वीर, युनुस खान जिंदाबाद’ गाना बज रहा है।

करीब डेढ़ घंटे बाद राजे पहुँचती है और बिना कोई समय गवाएं टाटा सफारी पर सवार हो जाती है। उनके साथ केन्द्रीय ट्रांसपोर्ट मंत्री नितिन गडकरी और टोंक से भाजपा उम्मीदवार युनुस खान हैं। करीब 3 किलोमीटर लम्बा रोड शो बाजारों और रिहायशी इलाकों के बीच से गुजरता है। इसका समापन दशहरा मैदान में होना है।

वसुंधरा के लिए झालरापाटन के बाद टोंक सबसे महत्वपूर्ण सीट है। इस सीट पर भाजपा ने अजीत सिंह मेहता के नाम की घोषणा कर दी थी लेकिन जब कांग्रेस ने यहाँ से सचिन पायलट के नाम की घोषणा की तो वसुंधरा ने अपनी रणनीति बदली और इस सीट से अपने सबसे विश्वासपात्र पीडब्लूडी मंत्री युनुस खान को खड़ा किया। युनुस डीडवाना से विधायक थे और उन्हें इस बार टिकट नहीं दिया गया था। खान राजस्थान में भाजपा के एकलौते मुस्लिम उम्मीदवार हैं। 2013 में भाजपा ने 3 मुस्लिम उम्मीदवारों को खड़ा किया था।

पहली बार भाजपा ने टोंक से किसी मुस्लिम उम्मीदवार को खड़ा किया है।

रोड शो के दौरान ‘वसुंधरा राजे जिंदाबाद’ के नारे से हवा में गूँज रहा था। छत और खिडकियों पर खड़ी महिलाओं की ओर वो हाथ हिलाती हैं और वो सब उत्साह से ‘भाजपा जिंदाबाद’ का नारा लगाने लगती है। वसुंधरा को देख भीड़ उत्साहित हो जाती है और वो सबसे हाथ मिलाने लगती हैं।

राजस्थान यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र नेता अंकित दयाल कहते हैं ‘राजस्थान में भाजपा मतलब वसुंधरा’ . वो अपने 50 साथियों के साथ रोड शो में आये हुए हैं। वो कहते हैं “मोदी जी मेरे लिए भगवान जैसे हैं लेकिन राजस्थान में मैं सिर्फ वसुंधरा को जानता हूँ।”

रोड शो कांग्रेस के ऑफिस के सामने से गुजरता है तो भाजपा नेता ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगाने लगते हैं और जवाब में कांग्रेस कार्यकर्ता भी सचिन पायलट के कट आउट लहराने लगते हैं। कई दुकानदार गुलाब का फूल भेंट कर वसुंधरा का स्वागत करते हैं। राजे किसी को भी निराश नहीं करती और सबसे हाथ मिलाती है।

टोंक जिला के वैश्य समाज के अध्यक्ष रामजी लाल विजयवर्गीय कहते हैं “जब टोंक से कांग्रेस ने सचिन पायलट के नाम की घोषणा की थी तो लगा था कि वो आसानी से जीत जायेंगे लेकिन अब चीजें बदल चुकी है।” वो कहते हैं “महारनी के चेहरे पर देखिये, वो कितना आश्वस्त है जीत के प्रति। अब यहाँ कांग्रेस के लिए मुकाबला कड़ा है।” विजयवर्गीय ने 2013 में भाजपा को वोट दिया था लेकिन अभी उन्होंने तय नहीं किया है कि इस बार किसे वोट देंगे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here