शनिवार, दिसम्बर 7, 2019

राजस्थान के अजमेर स्थित आनासागर झील में कई मछलियां व कौवे मिले मृत

Must Read

अमेरिकी राजनयिकों पर चीन ने उठाया जवाबी कदम

अमेरिका द्वारा चीनी राजनयिकों पर लगाए गए प्रतिबंध के मद्देनजर चीन ने जवाबी कदम उठाते हुए अमेरिकी राजनयिकों पर...

जीएसटी परामर्श दिवस पर वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने सुझाव मांगे

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लिए रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए...

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते...

राजस्थान की सांभर झील में हजारों प्रवासी पक्षियों की मौत के बाद पिछले तीन दिनों में अजमेर की आनासागर झील में कई मछलियां और कौवे मृत पाए गए। वन विभाग ने अजमेर की घोघरा नर्सरी में लगभग 30 कौवे दफन किए। विभागीय अधिकारी अब इनकी मौत के कारणों का पता लगाने के लिए भोपाल से आने वाली विसरा रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं।

अधिकारियों ने पुष्टि की कि आनासागर झील में और उसके आसपास पाए जाने वाले कौवे कमजोर और निष्क्रिय दिखाई देते हैं, इसलिए यह आशंका है कि मरने वाले पक्षियों की संख्या बढ़ सकती है।

शुरू में शुक्रवार को 19 कौवे मृत मिले और फिर रविवार को 11 अन्य भी मृत पाए गए। इसके अलावा शनिवार को झील में 100 से अधिक मछलियां मृत पाई गई थीं।

अधिकारियों ने कहा कि झील में प्रदूषण और ऑक्सीजन की कमी मछलियों की मौत का कारण थी। अगर ऐसा ही है तो इस आधार पर मृत जीवों की संख्या अधिक हो सकती है।

सर्दियों के दौरान आनासागर झील हजारों प्रवासी पक्षियों को आकर्षित करती है। आशंका जताई जा रही है कि इन पक्षियों की हालत भी संभवत: सांभर झील जैसी ही हो सकती है।

पशुपालन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “शनिवार को मृत पाए जाने वाले कौवों की रिपोर्ट मिली थी। हमारी टीम वहां पहुंच गई। वन अधिकारी, पुलिस और अन्य दल पहले ही साइट पर पहुंच गए थे।”

स्थानीय लोगों ने वन विभाग और पशुपालन विभाग पर शुरू में पक्षियों की मौत के बारे में रिपोर्ट छिपाने का आरोप लगाया है।

मृत कौवों का पोस्टमार्टम पशुचिकित्सा अस्पताल में किया गया और शवों को फिर वन विभाग को सौंप दिया गया, जिन्होंने आगे की जांच के लिए विसरा और पोस्टमार्टम रिपोर्ट भोपाल भेज दी।

अधिकारियों को अंदेशा है कि किसी जहरीले भोजन के कारण कौवे मरे। उन्होंने कहा कि अब सवाल यह है कि झील के आसपास इस तरह का भोजन कौन फैला सकता है, यह पता लगाने की जरूरत है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

अमेरिकी राजनयिकों पर चीन ने उठाया जवाबी कदम

अमेरिका द्वारा चीनी राजनयिकों पर लगाए गए प्रतिबंध के मद्देनजर चीन ने जवाबी कदम उठाते हुए अमेरिकी राजनयिकों पर...

जीएसटी परामर्श दिवस पर वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने सुझाव मांगे

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लिए रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए सुझाव आमंत्रित किए हैं। केंद्र...

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए शनिवार को न्यूजीलैंड को...

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है। एंडरसन एशेज सीरीज के पहले...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के खिलाफ मोर्चेबंदी की। सपा, कांग्रेस...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -