Wed. Feb 28th, 2024
    नरेंद्र मोदी पाटीदार

    वर्ष के अंत तक हिमाचल प्रदेश और गुजरात में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित हैं। देश के सभी राजनीतिक दल चुनाव प्रचारों में जी-जान से जुटे हुए हैं। पक्ष-विपक्ष में आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है और सभी दल जनता को लुभाने की हरसंभव कोशिश कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जम्मू-कश्मीर में जवानों के साथ दीवाली मनाने के बाद आज भोले भण्डारी भगवान शिव की शरण में पहुँचे। नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड के प्रसिद्द तीर्थस्थल केदारनाथ धाम की यात्रा की और क्षेत्र के विकास के लिए कई योजनाओं की घोषणा की। नरेंद्र मोदी ने अपने केदारनाथ दौरे के दौरान जनसभा को भी सम्बोधित किया। अपने भाषण के दौरान नरेंद्र मोदी ने केदारनाथ में गुजारे गए अपने पुराने दिन याद किए। उन्होंने कहा कि बाबा की मर्जी नहीं थी कि वो संन्यासी बने। भाषण के दौरान मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश का भी जिक्र किया।

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भगवान शिव की शरण में अपनी मुश्किलें लेकर पहुँचे थे। बाढ़ से हुई तबाही के कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केदारनाथ के पुनर्निर्माण के लिए 5 योजनाओं की आधारशिला रखी। सम्बोधन के दौरान नरेंद्र मोदी ने अपने गृह राज्य गुजरात के निवासियों को गुजराती नववर्ष की शुभकामनाएं दी। हिमालय की वादियों से नरेंद्र मोदी ने आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर सियासी निशाने भी साधे। उन्होंने कहा, “हिमालय की चादर उत्तराखंड से हिमाचल प्रदेश तक फैली है। केदारनाथ में अलग अनुभव है तो हिमाचल में अपना अलग अनुभव है।” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिमाचल प्रदेश की प्राकृतिक सुंदरता का भी जिक्र किया। वर्ष के अंत तक गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित हैं। गुजरात में भाजपा 2 दशकों से सत्ता में है वहीं हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है।

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने दौरे के दौरान केदारनाथ में गुजारे गए अपने दिनों को याद किया। केदारनाथ में आई प्राकृतिक आपदा को याद करते हुए नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर जोरदार हमला बोला। नरेंद्र मोदी ने कहा, “2013 में आई प्राकृतिक आपदा के बाद वो केदारनाथ के पुनर्निर्माण के लिए सेवा करना चाहते थे। बतौर गुजरात के सीएम वे यहाँ के लिए कुछ करना चाहते थे। उत्तराखंड की राज्य सरकार भी तैयार हो गई थी, पर जब इस बात की खबर दिल्ली में लोगों को (2013 में दिल्ली में यूपीए की सरकार थी) लगी तो हड़कंप मच गया। मुझे मना कर दिया गया।” नरेंद्र मोदी की केदारनाथ यात्रा पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस नेता और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी योजनाओं के नाम पर केदारनाथ में बासी चीजें सुना कर गए हैं।

    गौरतलब है कि चुनाव आयोग ने बीते दिनों हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनावों के लिए तिथि की घोषणा की है। हिमाचल प्रदेश में 9 नवंबर को विधानसभा चुनाव होंगे और नतीजे 18 दिसंबर को आएंगे। वहीं गुजरात विधानसभा चुनावों को लेकर चुनाव आयोग ने कोई घोषणा नहीं की है।

    By हिमांशु पांडेय

    हिमांशु पाण्डेय दा इंडियन वायर के हिंदी संस्करण पर राजनीति संपादक की भूमिका में कार्यरत है। भारत की राजनीति के केंद्र बिंदु माने जाने वाले उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले हिमांशु भारत की राजनीतिक उठापटक से पूर्णतया वाकिफ है।मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक करने के बाद, राजनीति और लेखन में उनके रुझान ने उन्हें पत्रकारिता की तरफ आकर्षित किया। हिमांशु दा इंडियन वायर के माध्यम से ताजातरीन राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर अपने विचारों को आम जन तक पहुंचाते हैं।