Mon. Jul 22nd, 2024

    इस्लामिक स्टेट समूह (Islamic State of Iraq and Syria (ISIS)) ने शुक्रवार को मॉस्को में एक कॉन्सर्ट हॉल पर हुए बंदूक हमले की जिम्मेदारी ली है, जिसमें रूसी अधिकारियों ने कहा कि कम से कम १३० लोग अपनी जान गवा चुके है ।

    शुक्रवार की रात चार बंदूकधारी लोग उत्तरी मॉस्को के उपनगर क्रास्नोगोर्स्क में क्रोकस सिटी हॉल में घुसे और धावा बोल दिया और रॉक कॉन्सर्ट में मौजूद अनुमानित 6,000 लोगों में से कुछ पर गोलीबारी शुरू कर दी। हमलावरों ने आगजनी की जिससे आयोजन स्थल पूरी तरह जल गया और छत ढह गई।

    रूसी अधिकारियों के मुताबिक 137 लोग मारे गए और 100 से अधिक घायल हो गए।

    आतंकवादी समूह ने टेलीग्राम मैसेजिंग ऐप पर एक बयान में कहा, ISIS लड़ाकों ने “रूस की राजधानी मॉस्को के बाहरी इलाके में एक बड़ी सभा पर हमला किया।” ISIS के बयान में कहा गया है कि हमलावर “सुरक्षित रूप से अपने ठिकानों पर लौट गए हैं।”

    हालाँकि, चारों हमलावर रुसी अधिकारियों द्वारा पकड़े गए है। किसी भी रूसी अधिकारी ने इस दावे को स्वीकार नहीं किया है, बल्कि यह सुझाव दिया है – बिना सबूत के – कि हमलावरों को यूक्रेन द्वारा मदद की जा रही थी और कीव ने उन्हें सीमा पार करने और यूक्रेनी क्षेत्र में भागने की अनुमति देने के लिए “एक खिड़की तैयार की” थी। बता दें की इस दावे का कोई सबूत रुस के पास अभी नहीं है।

    इन चारों का नाम रूसी अधिकारियों ने डालेरदज़ॉन मिर्जोयेव, सैदाक्रमी मुरोदाली राचाबलीज़ोडा, शम्सीदीन फ़रीदुनी और मुहम्मदसोबिर फ़ैज़ोव के रूप में बताया।

    रूस और इस्लामिक स्टेट के बीच संघर्ष:

    यह हमला ऐसे समय में हुआ है जब रूस और इस्लामिक स्टेट के बीच पहले से ही तीखी नोकझोंक चल रही है। यह तनाव 2015 में शुरू हुआ जब राष्ट्रपति ने सीरियाई गृहयुद्ध में हस्तक्षेप किया। राष्ट्रपति ने बशर अल-असद के खिलाफ इस्लामिक स्टेट की लड़ाई का समर्थन किया।

    गौरतलब है कि यह पहली बार नहीं है कि आईएसआईएस-के ने रूस को अपना प्रोजेक्ट बनाया है। 2022 में अफगानिस्तान के काबुल में रूसी दूतावास पर MISS-K आत्मघाती हमलों में आठ लोग मारे गए। रिवायत में दूतावास के दो कर्मचारी थे।

    यह तब हुआ है जब अमेरिका द्वारा अपने सैनिकों की वापसी से प्रोत्साहित होकर IS -K तालिबान-नियंत्रित राष्ट्र अफगानिस्तान के बाहर नए लक्ष्यों की तलाश कर रहा है।

    धार्मिक आचरण पर रूस का कानून:

    माना जाता है कि रूस लगभग 20 मिलियन मुसलमानों को आश्रय देता है। चेचन्या उत्तरी काकेशस क्षेत्र का हिस्सा है, जो बहुसंख्यक मुसलमानों का रहना है। सोवियत संघ के पतन के बाद से, इस क्षेत्र में दो युद्ध हुए हैं और इस्लामिक स्टेट से जुड़े चरमपंथी संगठनों सहित चरमपंथी संगठनों का उदय हुआ है।

    एमनेस्टी इंटरनेशनल जैसे मानवाधिकार समूहों ने हाल के वर्षों में मुसलमानों पर आवास, काम या शैक्षिक अवसरों से इनकार करने जैसे अत्याचारों को सामने लाया है।

    क्षेत्र में मुसलमानों को लक्षित हिंसा, निगरानी, प्रतिबंधात्मक निगरानी रणनीति, यातना और मनमानी गिरफ्तारियों का सामना करना पड़ता है।

    इसके अतिरिक्त, 2014 में रूस द्वारा क्रीमिया पर कब्ज़ा करने के साथ ही कई कानूनों का कार्यान्वयन हुआ, जो क्षेत्र में चरमपंथ से लड़ने के नाम पर धार्मिक संगठनों को लक्षित करते थे।

    एमनेस्टी इंटरनेशनल के एक अध्ययन के अनुसार, रूस ने एक नियम लागू किया है जो परिभाषित स्थानों के बाहर प्रार्थना करना, उपदेश देना या धार्मिक साहित्य वितरित करना अवैध बनाता है।

    अतीत में ऐसे मामले सामने आए हैं जब रूसी सुरक्षा गार्डों ने क्रीमिया की मस्जिदों में शुक्रवार की नमाज में बाधा डाली।

    एजेंसी समाचार के इनपुट के साथ

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *