Tue. Jun 18th, 2024
    सोनिया चहल

    भारत की राजधानी दिल्ली में चल रहें 10वें आईबा चैंपियनशिप से लगातार अच्छी खबरे मिल रही हैं। भारत की स्टार मुक्केबाज मेरीकॉम के फाइनल में जगह बनाने के बाद भारतीय मुक्केबाज सोनिया चहल (57 किग्रा) में उत्तर कोरिया की जो सोन हवा को हराकर फाइनल में अपनी जगह भी पक्की कर ली हैं, लेकिन सिमरनजीत कौर को कांस्य पदक के साथ ही इस टूर्नामेंट में संतुष्ठ रहना पड़ेगा।

    21 साल की सोनिया नें अपने सेमिफाइनल मुकाबले में उत्तर कोरिया की जो सोन हवा को 5-0 से मात दी। उत्तर कोरिया की इस खिलाड़ी नें एशियन गेम्स में पिछले साल सिल्वर मेडल जीता था। सोनिया पहली बार किसी विश्व बॉक्सिंग टूर्नामेंट का फाइनल खेलेगी। रुरकी की मुक्केबाज नें मेरीकॉम के साथ फाइनल में अपनी जगह बना ली हैं।

    सिमरनजीत को चीन की खिलाड़ी डैन डू से हार का सामना करना पड़ा जिन्होनें पिछले साल एशियाई बॉक्सिंग टूर्नामेंट में सिल्वर मेडल जीता था। सिमरनजीत कौर ने (64 किग्रा) में खेले अपने इस मुकाबले में 4-0 से हार का सामना करना पड़ा। 23 साल की सिमरनजीत का यह पहला बॉक्सिंग टूर्नामेंट था।

    सोनिया अपने फाइनल मुकाबले में जर्मनी की वेहनेर ओर्नेला गेब्रियल के साथ भिड़ेंगी। इन दोनो के बीच शनिवार को फाइनल मुकाबला खेला जाएगा। सोनिया फाइनल मुकाबले को अपने नाम कर सकती हैं क्योंकि उनके विपक्षी खिलाड़ी के पास इस समय कोई खिताब हासिल नहीं हैं।

    वही अपने छठे गोल्ड मेडल का पीछा कर रही मेरीकॉम (48किग्ना) शनिवार को अपने फाइनल मुकाबले मे यूक्रेन की हन्ना ओखोटा से भिड़ेंगी, वही असम की मुक्केबाज लवलीना 69 किग्रा को गुरुवार को अपने समीफाइनल मैच में हार का सामना करना पड़ा।

    हरियाणा की भिवाणी डिस्ट्रिक्ट की रहने वाली सोनिया चहल के लिए फाइनल तक पहुचना एक बड़ी उपलब्धि हैं। उन्होनें अभी तक ज्यादा बॉक्सिंग टूर्नामेंट नही खेले हैं।

    उन्होनें अपने बॉक्सिंग करियर की शुरुआत 2011 में की थी जब वह सिर्फ 14 साल की थी। उन्होनें 2016 में सबसे पहले सिनियर लेवल मेडल जीता था। पिछले साल उन्होने सरबिया में अपने नाम गोल्ड मेडल किया था, तो इस साल के शुरुआत में सोनिया ने अहमट कॉर्मट टूर्नामेंट में अपने नाम कांस्य पदक भी किया था।

    By अंकुर पटवाल

    अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *