Sat. Dec 10th, 2022
    eknath_khadse_bjp

    महाराष्ट्र के पूर्व राजस्व मंत्री और सीनियर भाजपा नेता एकनाथ खडसे ने अपने गृह क्षेत्र में एक कार्यक्रम के दौरान अपनी नाराजगी स्पष्ट कर दी, और पार्टी से बाहर निकलने का संकेत दे दिया।

    महाराष्ट्र के भुसावल में लेवा पाटिल समुदाय के एक समारोह में बोलते हुए, खडसे ने कहा कि किसी के पास खुद पर किसी भी पार्टी का स्थायी मुहर नहीं है और किसी को भी इसके लिए अनुमति नहीं लेनी चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि सभी को समुदाय को मजबूत करने के लिए अन्याय के खिलाफ लड़ना चाहिए।

    भुसावल खडसे का घरेलु शहर है और वो खुद लेवा पाटिल समुदाय से आते हैं। एमआईडीसी भूमि घोटाले में शामिल होने के आरोपों के बाद खडसे को 2016 में देवेंद्र फडणवीस सरकार से इस्तीफा देना पड़ा था।

    पूर्व कांग्रेस सांसद उल्हास पाटिल भी भुसावल में समारोह में उपस्थित थे। पाटिल ने खडसे को कांग्रेस में शामिल होने के लिए आमंत्रित करते हुए कहा कि उनके साथ अब तक बहुत अन्याय हुआ है। महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख अशोक चव्हाण पहले ही खडसे को कांग्रेस में शामिल होने के लिए आमंत्रित कर चुके हैं।

    “एकजुट रहने का कोई विकल्प नहीं है। जीवन के संघर्ष को आगे बढ़ाते हुए राजनीति को अलग रखना होगा। चाहे वह मेरी पार्टी (भाजपा) हो या उनकी (कांग्रेस), किसी के पास कोई स्थायी मोहर नहीं है जिससे वह उसी पार्टी में बने रहें।  …. कोई भी यह अनुमान नहीं लगा सकता है।” खाडसे ने समारोह में कहा। उल्हास पाटिल के “अन्याय” के बारे में टिप्पणी से, खडसे ने समर्थकों से लड़ने की अपील की।

    उन्होंने कहा, “अन्याय के खिलाफ लड़ने की जरूरत है, चाहे वह कितना भी महान क्यों न हो। यह तभी संभव है जब उन्हें हमारी ताकत का एहसास होगा। हम बड़ी संख्या में हैं।” लेवा पाटिल समुदाय की उत्तरी महाराष्ट्र में जलगाँव, धुले, नंदुरबार और नासिक जिलों में काफी उपस्थिति है।

    एकनाथ खडसे की हालिया टिप्पणियों को उनके और बीजेपी के बीच की खाई के स्पष्ट संकेत के रूप में देखा जा रहा है। हाल ही में जलगाँव और धुले के निकाय चुनाव में खड़से को किनारे कर दिया गया था।

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *