Thu. Jun 13th, 2024
    onions

    महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के एक किसान ने प्याज की गिरती कीमतों और नुकसान को ले कर विरोध जताने के लिए मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस को 6 रुपये का मनी ऑर्डर भेजा है।

    श्रेय अभाले नाम के किसान ने रविवार को पीटीआई को बताया कि उसने 2657 किलो प्याज 1 रुपये प्रति किलो की दर से बेचा। जिले के संगमनेर थोक मंडी में प्यार बेचने और बाजार खर्च के बाद उसके पास बस 6 रुपये बचे जिसे उन्होंने मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस को मनीऑर्डर कर दिया।

    ये भी पढ़ें: किसान ने 750 किलो प्याज बेचकर कमाए 1,064 रूपये, पीएम मोदी को विरोध जताते हुए भेजी सारी कमाई

    अभाले ने बताया “संगमनेर थोक मंडी में 2,657 किलो प्याज बेचने के बाद मुझे 2,916 रुपये की कमाई हुई .उसके बाद मजदूरों के पैसे और ट्रांसपोर्ट के पैसे देने में मुझे 2,910 रुपये खर्च हुए और इन सब खर्चों के बाद मेरे पास 6 रुपये बचे।”

    अभाले ने कहा कि वह निराश हुए और मुख्यमंत्री को अपनी स्थिति पर ध्यान आकर्षित करने के लिए राशि (6 रुपये) भेजने का फैसला किया।

    उन्होंने कीमत संकट को रेखांकित करते हुए कहा, “प्याज की फसल के लिए मैंने लगभग दो लाख रुपये खर्च किए हैं और सिर्फ छह रुपये कमाए हैं। मुझे नहीं पता कि मैं अन्य बकाया राशि कैसे निकालने जा रहा हूं।” अभाले ने बताया कि जिस दिन उन्होंने अपनी उपज बेच दी थी उसी दिन 7 दिसंबर को मुख्यमंत्री को मनी ऑर्डर भेजा था।

    महाराष्ट्र के नासिक और अहमदनगर में प्याज की अत्यधिक पैदावार ने किसानो पर प्रतिकूल प्रभाव डाला।

    कुछ ही दिनों पहले राज्य के नासिक जिले के निफाड तालुका के किसान ने 1 रुपये प्रति किलो की दर से अपनी फसल बेचने के बाद अपनी कमाई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेजी थी। संजय साठे नाम के किसान ने 750 किलो प्याज बेचने के बाद कमाए गए 1,064 रुपये प्रधानमंत्री कार्यालय को मनी ऑर्डर से भेजा था।

    पिछले दो दिनों में नासिक जिले में दो प्याज उत्पादक किसानों को कर्ज और बाजार में प्याज की कम कीमतों के कारण आतम हत्या करना पड़ा। जबकि अहमदनगर के नेवासा तालुका में एक किसान ने 20 क्विंटल प्याज फ्री में बाँट दिया था।

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *