शुक्रवार, जनवरी 17, 2020

महंगाई जनित सुस्ती पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहती : वित्त मंत्री नर्मला सीतारमण

Must Read

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिए निर्देश, संविधान को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर 3 महीने में ले फैसला

देश के प्रत्येक तहसील में एक केंद्रीय विद्यालय खोलने और प्राइमरी स्कूल के पाठ्यक्रम में भारतीय संविधान को शामिल...

पाकिस्तान : कट्टरपंथी संगठन के 86 सदस्यों को आतंकवादी रोधी अदालत ने सुनाई 55-55 साल कैद की सजा

पाकिस्तान के रावलपिंडी में एक आतंकवाद रोधी अदालत ने कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के 86 सदस्यों व समर्थकों...

राजकोट वनडे : भारतीय बल्लेबाजों की दमदार वापसी, आस्ट्रेलिया को दिया 341 रनों का लक्ष्य

मुंबई में मिली बुरी हार से आहत भारतीय बल्लेबाजों ने शुक्रवार को यहां सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले...

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को महंगाई जनित सुस्ती (स्टैगफ्लेशन) पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि मैंने सुना है कि इस तरह की बातें चल रही हैं, मगर मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहती।

यह पूछे जाने पर कि क्या भारतीय अर्थव्यवस्था महंगाई जनित मंदी के एक चरण में प्रवेश कर रही है, वित्त मंत्री ने कहा, “मैं इस बात पर चर्चा करने के लिए तैयार नहीं हूं कि अर्थव्यवस्था कहां है। मैं चीजों को बेहतर बनाने की दिशा में काम करने में दिलचस्पी रखती हूं।”

गुरुवार को आधिकारिक आंकड़ों से पता चला कि खुदरा मुद्रास्फीति नवंबर में 5.54 फीसदी हो गई है, जिसमें पिछले महीने की मुद्रास्फीति की संख्या से 92 आधार अंक की वृद्धि देखी गई है। यह आंकड़ा आने के बाद कई अर्थशास्त्रियों ने चिंता व्यक्त की है।

स्टैगफ्लेशन बढ़ती मुद्रास्फीति के साथ धीमी आर्थिक वृद्धि को दर्शाता है, जिस पर कई अर्थशास्त्रियों द्वारा आशंका जताई जा चुकी है। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पहले कहा था कि भारत को इस तरह के जोखिमों को देखना चाहिए।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक फाइनेंस एंड पॉलिसी के प्रोफेसर एन. आर. भानुमूर्ति ने आईएएनएस से कहा, “स्टैगफ्लेशन एक टेक्स्टबुक केस प्रतीत होता है, लेकिन मौजूदा वृद्धि मुख्य रूप से खाद्य कीमतों में वृद्धि के कारण है।”

पूर्व मुख्य सांख्यिकीविद् प्रोनाब सेन ने कहा, “सीपीआई के आंकड़ों में हालिया वृद्धि एक अल्पकालिक प्रवृत्ति है और मैं इसे अभी स्टैगफ्लेशन नहीं कहूंगा।”

क्रिसिल के मुख्य अर्थशास्त्री डी. के. जोशी ने आईएएनएस को बताया कि सीपीआई संख्या पूरी तरह से अप्रत्याशित नहीं है।

जोशी ने कहा, “अगर आप बाजार में जाएंगे तो आपको महसूस होगा कि सब्जी की कीमतें वास्तव में बहुत अधिक हैं। यही मुद्रास्फीति में वृद्धि का मुख्य कारण है।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिए निर्देश, संविधान को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर 3 महीने में ले फैसला

देश के प्रत्येक तहसील में एक केंद्रीय विद्यालय खोलने और प्राइमरी स्कूल के पाठ्यक्रम में भारतीय संविधान को शामिल...

पाकिस्तान : कट्टरपंथी संगठन के 86 सदस्यों को आतंकवादी रोधी अदालत ने सुनाई 55-55 साल कैद की सजा

पाकिस्तान के रावलपिंडी में एक आतंकवाद रोधी अदालत ने कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के 86 सदस्यों व समर्थकों को कुल मिलाकर 4738 साल...

राजकोट वनडे : भारतीय बल्लेबाजों की दमदार वापसी, आस्ट्रेलिया को दिया 341 रनों का लक्ष्य

मुंबई में मिली बुरी हार से आहत भारतीय बल्लेबाजों ने शुक्रवार को यहां सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले जा रहे दूसरे वनडे मैच...

छत्तीसगढ़ : बस्तर में कुपोषण के खिलाफ ‘गुड़’ को हथियार बनाएगी भूपेश सरकार

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कुपोषण को नक्सलवाद से बड़ी चुनौती मानते हैं और यही कारण है कि इसके खात्मे के लिए कई अभियान...

सुप्रीम कोेर्ट ने महात्मा गांधी को भारत रत्न दिए जाने की याचिका खारिज की

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को महात्मा गांधी को भारतरत्न से सम्मानित करने की मांग वाली जनहित याचिका पर केंद्र को कोई भी निर्देश जारी...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -