Wed. Oct 5th, 2022

    जिस दिन पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा के खिलाफ एक निर्णायक जीत के बाद अपने तीसरे कार्यकाल के लिए शपथ ली,  उसी दिन  कुछ ही घंटों बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने  पश्चिम बंगाल सरकार को एक और पत्र भेजते हुए फटकार लगा दी। गृह मंत्रालय ने पत्र में पूछा कि रविवार के चुनाव परिणाम के बाद बंगाल में हिंसा को रोकने के लिए अभी तक कोई उपाय क्यों नहीं लिए गए हैं।

    “मैं आपको याद दिलाता हूं कि मतदान परिणामों के बाद की हिंसा के बारे में 3 मई  को जानकारी मांगने के बावजूद अभी तक आपकी तरफ से कोई रिपोर्ट नहीं दी गई है। इस दूसरे पत्र के गैर-अनुपालन को गंभीरता से लिया जाएगा, ”केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने पहला पत्र लिखने के दो दिन बाद पश्चिम बंगाल सरकार को भेजे गए दूसरे पत्र में कहा।

    अजय भल्ला ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव से यह भी पूछा कि हिंसा को रोकने के लिए पर्याप्त उपाय क्यों नहीं किए गए हैं। उन्होंने कहा, “ताजा रिपोर्ट यह बताती हैं कि चुनाव के बाद की हिंसा अभी तक नहीं रुकी है। हिंसा को रोकने के लिए तत्काल उपाय किए जाने चाहिए और उसी के संबंध में रिपोर्ट तुरंत  भेजनी होगी,” उन्होंने लिखा।

    सरकारी अधिकारियों ने कहा कि गृह मंत्रालय की एक चार सदस्यीय टीम, एक अतिरिक्त सचिव की अध्यक्षता में पश्चिम बंगाल में जमीनी स्थिति का आकलन करने के लिए भेजी गई है।

    बंगाल में उड़ रही हैं लोकतंत्र की धज्जियां

    राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने भी बुधवार को पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद हुई हिंसा पर अपना ध्यान केंद्रित कर लिया है। मानवाधिकार आयोग ने अपने उप महानिरीक्षक (जांच) अधिकारी से अनुरोध किया था कि वह इस मामले को देखने के लिए एक टीम गठित करें। टीम को ऑन-द-स्पॉट फैक्ट-फाइंडिंग जांच करने और दो सप्ताह में  इसकी रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है। 

    भाजपा और लेफ्ट दोनों ने  ही तृणमूल कांग्रेस पर हमला किया और दो मई के नतीजों के बाद जीत के जश्न के बीच तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा अपने पार्टी कार्यकर्ताओं पर हमला करने का आरोप लगाया। तृणमूल कांग्रेस और पश्चिम बंगाल पुलिस ने अधिकांश आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि सोशल मीडिया पर बड़ी संख्या में फर्जी वीडियो और तस्वीरें फैलाई जा रही हैं।

    मंगलवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पीड़ितों के परिवारों से मिलने के लिए बंगाल का दौरा किया था और आश्वासन दिया कि न्याय लोकतांत्रिक तरीके से किया जाएगा। “ममता जी, आपकी पार्टी ने जीत के बाद जो किया है, वह साफ रूप से दर्शाता है कि आप और आपकी पार्टी के कार्यकर्ता लोकतंत्र में कितना विश्वास रखते हैं। लेकिन वहीं दूसरी ओर टीएमसी कार्यकर्ता और राजनेता दावा कर रहे हैं कि सोशल मीडिया पर इन घटनाओं की क्लिपिंग फर्जी खबरों के अलावा और कुछ नहीं है।

    “मैं मीडिया से अनुरोध करना चाहूंगा कि राष्ट्र को  बंगाल में हो रहे अत्याचारों की सच्चाई  दिखाई जाए,” जेपी नड्डा ने कहा।

    By दीक्षा शर्मा

    गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली से LLB छात्र

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.