शुक्रवार, फ़रवरी 28, 2020

महिला निशानेबाज मनु भाकर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार नहीं मिलने पर पिता ने उठाए सरकार पर सवाल

Must Read

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...

भारत के लिए ओलम्पिक कोटा हासिल कर चुकी युवा महिला निशानेबाज मनु भाकेर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार न मिलने पर उनके पिता रामकिशन भाकेर ने सवाल खड़े किए हैं।

मनु के पिता ने कहा है कि वो कौन से पैमाने हैं, जिनके आधार पर मनु को बाल पुरस्कार से वंचित रखा गया। मनु के पिता ने महिला एवं बाल कल्याण मंत्रालय में फोन कर और ई-मेल से भी इस बाबत जवाब मांगा लेकिन उन्हें कोई जवाब नहीं मिला।

रामकिशन ने आईएएनएस से कहा, “पीएम बाल पुरस्कार अवार्ड मनु को नहीं मिला। मैं बस यह सवाल कर रहा हूं कि ऐसे कौन से पैमाने थे कि मनु को यह अवार्ड नहीं दिया गया। वो 18 साल से कम की है। पिछले तीन सालों में उसने कई सारे पदक जीते हैं। ऐसा कौन सा क्राइटेरिया बना दिया है कि मनु को अवार्ड नहीं मिला। मैं सवाल पूछ रहा हूं तो कोई जवाब नहीं दे रहा है।”

उन्होंने कहा, “मैं 20 दिन से मंत्रालय में बात करने की कोशिश कर रहा हूं लेकिन कोई मेरी बात ही करवा रहा। सचिव रवींद्र हैं उनके पीए से, संयुक्त सचिव हैं आस्था उनके पीए से, आरपी सिंह हैं सह सचिव उनके पीए से बात हुई इनमें से कोई भी मेरी आगे बात ही नहीं करवा रहे। कह देते हैं कि साहब मीटिंग में हैं। इस विभाग की केंद्रीय स्मृति ईरानी के ऑफिस में पीए से भी बात हुई लेकिन कोई जवाब ही नहीं दे रहा।”

रामकिशन ने कहा कि उन्होंने मेल करके भी जवाब मांगा लेकिन इसमें भी उन्हें सफलता नहीं मिली।

उन्होंने कहा, “मैंने मेल भी लिखे हैं, जिसमें लिखा है कि क्या क्राइटेरिया है जिसके कारण मनु को अवार्ड नहीं मिला। मैं 20 दिन से लगातार यही कर रहा हूं।”

रामकिशन ने अवार्ड में धांधली का भी आरोप लगाया है। उन्होंने कहा, “मंत्रालय अगर नहीं समझता है तो इसका मतलब है कि अवार्ड में धांधली हो रही है। एक उम्र का क्राइटेरिया होता है कि 18 साल से कम होनी चाहिए तो वो मनु है। प्रदर्शन की बात करें तो, चार-पांच बच्चों को मिलता है तो क्या उसमें भी मनु का नंबर नहीं है, ऐसा थोड़ी होता है।”

उन्होंने कहा, “नहीं तो हमें जस्टीफाई करो कि मनु का नाम इसलिए नहीं आया। हम तो सवाल कर रहे हैं मेल लिख के पूछ रहे हैं तो बताएं तो कि इस क्राइटेरिया में पीछे हैं।”

मनु ने 2018 में गोल्ड कोस्ट में खेले गए राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीता है। पिछले साल वह रियो डी जनेरिया, म्यूनिख, बीजिंग और नई दिल्ली में आयोजित विश्व कप में भी पदक जीते हैं।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के लिए 5-6 फिल्मों को अस्वीकार...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -