दा इंडियन वायर » राजनीति » मनमोहन सिंह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ प्रधानमंत्री थे – शंकर सिंह वाघेला
राजनीति समाचार

मनमोहन सिंह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ प्रधानमंत्री थे – शंकर सिंह वाघेला

SHANKAR SINGH WAGHELA

गुजरात कांग्रेस के पूर्व नेता शंकरसिंह वाघेला ने रविवार को कहा कि मनमोहन सिंह “दुनिया के सर्वश्रेष्ठ प्रधानमंत्री” थे, जिन्होंने प्रचार के बिना देश के लिए कड़ी मेहनत की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए वाघेला ने उनपर स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पर पैसे बर्बाद करने और स्व-विज्ञापन के लिए आरोप लगाया, और ओबीसी समुदाय के कल्याण के लिए 10,000 करोड़ रुपये की सहायता मांगी।

उन्होंने कहा “इस (केंद्रीय) सरकार ने पूरे ओबीसी समुदाय (2018-19 में) के कल्याण के लिए केवल 1800 करोड़ रुपये आवंटित किए। इसका क्या मतलब है? आप विज्ञापनों में 5000 करोड़ रुपये से ज्यादा बर्बाद करते हैं। इसे समुदाय को क्यों नहीं दिया गया? ”वाघेला ने खेड़ा जिले के फागवेल में एक ओबीसी सम्मेलन को संबोधित करते हुए पूछा।

मोदी सरकार की प्राथमिकताओं पर सवाल उठाते हुए वाघेला ने कहा कि “सत्तारूढ़ सरकार ने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी और महात्मा मंदिर (राज्य की राजधानी गांधीनगर में एक कन्वेंशन हॉल) के निर्माण पर 10,000 करोड़ रुपये खर्च किए हैं, यहां तक ​​कि लोग भूख से मर रहे हैं, किसान आत्महत्या करने को मजबूर हैं, और युवा बेरोजगार हो रहे हैं।”

वाघेला ने कहा कि सरकार को ओबीसी समुदाय के कल्याण के लिए 10,000 करोड़ रुपये देने चाहिए।

प्रथम केंद्रीय गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल को समर्पित दुनिया में सबसे ऊंची स्मारक, स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का इस साल अक्टूबर में गुजरात के नर्मदा जिले में प्रधान मंत्री द्वारा अनावरण किया गया था।

2017 के गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़ने वाले वाघेला ने बॉलीवुड फिल्म “द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर” का जिक्र करते हुए कहा कि मनमोहन सिंह दुनिया के सबसे अच्छे प्रधानमंत्री थे।

उन्होंने कहा कि “मनमोहन सिंह ने दस साल तक देश को मंदी से बचाया। उन्होंने अपनी तस्वीरों को प्रकाशित करने, या भाषण देने के लिए काम नहीं किया। आप (मोदी) मौन हैं, वो नहीं थे। उनके काम खुद उनका इतिहास बताते हैं। उन्होंने मनमोहन सिंह को मूक प्रधानमंत्री कहने के लिए मौजूदा प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना की।

About the author

आदर्श कुमार

आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!