Sat. Nov 26th, 2022
    वोटिंग voting

    भोपाल, 19 मई (आईएएनएस)| लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के मतदान के दौरान उत्साह के रंग नजर आए। बुजुर्गों पर जहां उम्र का असर नहीं दिखा, वहीं वैवाहिक जीवन में प्रवेश करने वालों ने भी मतदान केंद्रों पर पहुंचकर अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। इतना ही नहीं विदेशों से भी लोग मतदान करने आए।

    आगर-मालवा जिले में मतदान में बुजुर्गो ने मुखिया की अहम् भूमिका निभाई। वयोवृद्घ 99 वर्षीय हीरोबाई गवली और उनके पति नंदराम गवली ने आगर-मालवा के मतदान केन्द्र-167 पर अपनी चार पीढ़ी के साथ लोकतंत्र के महात्योहार में हिस्सा लिया। उनके साथ चार पुत्र, दो पोते और तीन पड़पोतों ने मतदान किया। चाचाखेड़ी में 107 वर्ष की मैनाबाई का पोते के साथ मतदान करने पर पुष्पहार से स्वागत किया गया। ग्राम लाड़वन में 106 वर्षीय अमर सिह गुर्जर और बरोड रोड आदर्श मतदान केन्द्र पर 85 वर्षीय शोभाराम गवली ने पूरे जोश से मतदान किया।

    इसी तरह आगर-मालवा के ही महेन्द्र शर्मा और शोभा शर्मा ने चार धाम की यात्रा पर रवाना होने से पहले मतदान किया।

    उज्जैन में भी मतदान के प्रति मतदाताओं में विशेष उत्साह देखा गया। देश-विदेश से मतदाता अपने मतदान केन्द्र पर पहुंचे और उन्होंने मताधिकार का उपयोग किया। कुमारी शुभी भारल अमेरिका के लॉस एजेंलिस से वोट देने भारत आईं। तमिलनाडु में नौकरी कर रहे किंशुक परमार वोट डालने उज्जैन दक्षिण के मतदान केन्द्र पहुंचे।

    नीमच जिले में सुबह से ही लोकसभा चुनाव में मतदान के लिए महिलाओं में काफी उत्साह देखा गया। जिले के घसूंडीबामनी में 105 साल की कावेरी बाई और चेनपुरा में कंकुबाई ने मतदान किया। दोनों अपने पोतों के साथ मतदान केन्द्र पहुंचीं। अमावली महल मतदान केन्द्र पर 90 वर्षीय पन्नालाल भी अपने भतीजे की मदद से व्हील-चेयर पर मतदान केन्द्र पहुंचे।

    मनासा क्षेत्र के गांव भमेसर में नवविवाहित भूपेन्द्र पाटीदार ने दुल्हन के साथ मतदान केंद्र जाकर मताधिकार का उपयोग किया। नवलपुरा के मतदान केंद्र पर 107 वर्षीय भागीबाई ने व्हील-चेयर पर मतदान केंद्र जाकर मतदान किया।

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *