शुक्रवार, दिसम्बर 13, 2019

मध्य अफगानिस्तान में शिया मस्जिद में आतंकी हमले की जिम्मेदारी आइएस ने ली

Must Read

चिली विमान हादसे में किसी के बचने की उम्मीद कम

चिली की वायुसेना ने कहा है कि अधिकारियों ने अंटार्कटिका के लिए रवाना हुए 38 लोगों के साथ दुर्घटनाग्रस्त...

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : अब संथाल, कोयलांचल में बिछेगी सियासी बिसात

झारखंड विधानसभा चुनाव के तीन चरणों का मतदान समाप्त हो जाने के बाद अब दो चरणों का मतदान शेष...

अरुणाचल के लोवर डिबांग वैली में जेके टायर ऑरेंज 4गुणा4 फ्यूरी शुरू

देश की सबसे कठिन और सबसे रोमांचक ऑफ रोडिंग प्रतियोगिताओं में से एक जेके टायर ऑरेंज 4गुणा4 फ्यूरी का...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अफगानिस्तान में मध्य प्रांत ग़ज़नी की एक मस्जिद में रात्री में हुए हमले की जिम्इमेदारी स्लामिक स्टेट के लड़ाकों ने ली है। प्रांतीय सरकार के प्रवक्ता आरेफ नूरी ने कहा कि “मोहम्मदिया मस्जिद के अंदर कट्टर इस्लामिक आतंकवादियों ने बम लगाया था इसमें दो लोगों की मौत हो गई और 20 अन्य घायल हो गए है।”

इस्लामिक स्टेट अक्सर अफगानिस्तान के शिया अल्पसंख्यकों को निशाना बनाता रहा है। शिया मुस्लिमों को आइएस  काफिर मानता है। आतंकवादी समूह ने कहा कि “इस विस्फोट में 40 लोग घायल हो गए है।” सरकारी अधिकारियों ने बताया कि विस्फोटक उपकरण शुक्रवार की प्रार्थना से पहले लगाये गए थे।

गजनी हाल ही में सरकारी बलों और तालिबान आतंकवादियों के बीच भारी संघर्ष का केंद्र रहा है। जबकि अफगानिस्तान के युद्ध ज्यादातर सुन्नी मुसलमानों के बीच लड़े गए हैं। हाल के वर्षों में शिया अल्पसंख्यकों को निशाना बनाये जाने की संख्या में खासा इजाफा हुआ है।

अफगान युद्ध को समाप्त करने के लिए अमेरिकी अधिकारियों और तालिबान के बीच शांति के लिए बातचीत के बावजूद भी इस्लामिक स्टेट नागरिक इलाको पर हमलों की जिम्मेदारी लेता रहता है।

अफगानिस्तान में शिया समुदाय के आकार पर कोई विश्वसनीय जनगणना की जानकारी मौजूद नहीं है, लेकिन अनुमान है कि फारसी भाषी हजारा जातीय समूह के अधिकांश सदस्य और कुछ ताजिकों सहित लगभग 10-15 प्रतिशत हैं।

अमेरिका के विशेष राजदूत जलमय ख़लीलज़ाद ने सोमवार को तालिबान के साथ क़तर में सातवें चरण की वार्ता शुरू की थी। इस शान्ति वार्ता में तालिबान ने अफगानी सरजमीं से विदेशी सैनिको की वापसी की मांग की है और इसके बदले अमेरिका को गारंटी दी है कि अफगानी सरजमीं कही भी हमले के लिए आतंकवादियों का ठिकाना नहीं बनेगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

चिली विमान हादसे में किसी के बचने की उम्मीद कम

चिली की वायुसेना ने कहा है कि अधिकारियों ने अंटार्कटिका के लिए रवाना हुए 38 लोगों के साथ दुर्घटनाग्रस्त...

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : अब संथाल, कोयलांचल में बिछेगी सियासी बिसात

झारखंड विधानसभा चुनाव के तीन चरणों का मतदान समाप्त हो जाने के बाद अब दो चरणों का मतदान शेष है। शेष दो चरणों के...

अरुणाचल के लोवर डिबांग वैली में जेके टायर ऑरेंज 4गुणा4 फ्यूरी शुरू

देश की सबसे कठिन और सबसे रोमांचक ऑफ रोडिंग प्रतियोगिताओं में से एक जेके टायर ऑरेंज 4गुणा4 फ्यूरी का शुक्रवार को यहां लोवर डिबांग...

पाकिस्तान : लाहौर अस्पताल हमला मामले में 250 वकीलों पर मुकदमा

पुलिस ने लाहौर में पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी (पीआईसी) पर हमला करने और संपत्ति को लूटने के लिए विभिन्न आपराधिक आरोपों के तहत 250...

अक्षय कुमार ने ट्विंकल खन्ना को दिए प्याज वाले झुमके

तंजिया लहजे के लिए चर्चित लेखिका व निर्माता ट्विंकल खन्ना ने देश में प्याज की बढ़ती हुई कीमतों पर हाल ही में कुछ खास...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -