सोमवार, दिसम्बर 9, 2019

भोपाल गैस पीड़ितों के हक के लड़ाई लड़ने वाले अब्दुल जब्बार का निधन

Must Read

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : तीसरे चरण का मतदान तय करेगा आजसू का राजनीतिक भविष्य

झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए दो चरण का मतदान संपन्न हो जाने के बाद सभी दल तीसरे चरण में...

उत्तर प्रदेश में दो और बलात्कार, औरेया में चलती कार में किया रेप, बिजनौर में नाबालिग के साथ दुष्कर्म

उत्तर प्रदेश में दुष्कर्म जैसे जघन्य अपराध को लेकर एक ओर जहां जनता में आक्रोश है, वहीं राज्य में...

रणजी ट्रॉफी : सांप के कारण विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच मैच में हुई देरी

यहां विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच खेला जा रहा रणजी ट्रॉफी के ग्रुप-ए का मैच सांप के कारण...

भोपाल गैस पीड़ितों के हक की लड़ाई को राजनीतिक दलों और तमाम गैर सरकारी संगठनों ने भले ही स्वार्थ के चाहे जिस चश्मे से देखा हो, मगर अब्दुल जब्बार ने पूरी जिंदगी इसे इबादत की तरह लिया। उनकी यह आस कभी खत्म नहीं हुई कि पीड़ितों को उनका हक मिलकर रहेगा। यही कारण है कि उनका अंतिम सांस तक संघर्ष जारी रहा। यह बात अलग है कि जीत की आस लगाए अब्दुल जब्बार अपनी जिंदगी की लड़ाई ही हार गए।

भोपाल में यूनियन कार्बाइड से दो दिसंबर, 1984 की रात रिसी जहरीली गैस मिथाइल आइसोसाएनेट ने हजारों लोगों को मौत की नींद सुला दिया था और लाखों लोगों को बीमरियों का घर बना दिया। साल-दर-साल लोगों के काल के गाल में समाने का सिलसिला जारी है। अब्दुल जब्बार भी उन्हीं लोगों में से रहे, जिन्होंने इस मानव जनित आपदा के चलते अपने माता-पिता को खोया था।

अब्दुल जब्बार जब महज 28 साल के रहे होंगे, तभी भोपाल गैस हादसा हुआ था। उसके बाद जब्बार गैस पीड़ितों की आवाज बन गए। उनके पूरे दिन का बड़ा हिस्सा या यूं कहें कि जिंदगी का बड़ा भाग गैस पीड़ितों की समस्याओं को सुलझाने, उनके हक की लड़ाई लड़ने में ही गुजरा। उन्हें अपने संघर्ष पर भरोसा था और जब भी मिलते जीत की आस को उनके चेहरे पर आसानी से पढ़ा जा सकता था। उन्हें किसी राजनीतिक दल और किसी भी नेता से कभी आस नहीं रही, अगर आस थी तो अपने लोगों के संघर्ष से। उन्होंने कई लड़ाइयां अपने साथियों के सहयोग से ही जीती थी।

राजधानी की सेंट्रल लाइब्रेरी के पास स्थित अपने दफ्तर में जब्बार अक्सर एक कुर्सी पर बैठे मिलजे थे। उनके सामने एक टेलीफोन रखा होता था, जो उनका लोगों से संपर्क का बड़ा माध्यम था। पूरे दिन इसी दफ्तर से पीड़ितों की हर समस्या के निदान के लिए प्रयास करना और आगामी आंदोलन की रणनीति बनाने में लगे रहना उनकी दिनचर्या थी।

अब्दुल जब्बार के कई आंदोलनों और संघषरें के साथी रहे समाजवादी नेता डॉ. सुनीलम का कहना है, “अब्दुल जब्बार एक ऐसे व्यक्ति थे, जिन्होंने सिर्फ सड़क ही नहीं न्यायालयों में भी गैस पीड़ितों के हक की लड़ाई लड़ी। वह कई लड़ाइयां जीते भी। उनकी जिंदगी ही गैस पीड़ितों के संघर्ष का हिस्सा बन गई थी। तीन दशक तक एक ही मुद्दे पर लड़ाई लड़ी। उन्हें इस बात की कभी परवाह नहीं रही कि कौन दल और नेता उनके साथ है।”

अब्दुल जब्बार ने भोपाल गैस पीड़ित महिला उद्योग संगठन बनाया और इसके बैनर तले अपनी लड़ाई जारी रखी। इसके साथ ही वह पीड़ित परिवारों को आर्थिक तौर पर सबल बनाने के लिए काम करते रहे। महिलाओं को सिलाई-कढ़ाई, कंप्यूटर, खिलौने बनाने आदि का प्रशिक्षण भी देते रहे।

गैस पीड़ितों के आंदोलन को अब्दुल जब्बार ने कभी कमजोर नहीं पड़ने दिया। हर शनिवार को शाहजहानी पार्क में गैस पीड़ित जमा होते और अपनी जीत के लिए संघर्ष जारी रखने का नारा बुलंद करते। यह सिलसिला कई सालों से निरंतर चला आ रहा है।

उन्हें करीब से जानने वाले कहते हैं कि जब्बार को पूरी जिंदगी इस बात का सबसे ज्यादा मलाल रहा कि गैस हादसे के लिए जिम्मेदार और अपराधी वारेन एंडरसन को देश से बाहर जाने दिया गया और भारत सरकारें उसे भारत लाकर सजा दिलाने में असफल रहीं।

गैस पीड़ितों के लिए जब्बार द्वारा लड़ी गई लड़ाइयों का ही नतीजा रहा कि सुप्रीम कोर्ट ने 1988 में गैस पीड़ितों को गुजारा भत्ता देने का फैसला सुनाया। इसके बाद घायलों को 25-25 हजार रुपये की मदद मिली। इसके अलावा भी कई फैसले उनकी लड़ाई के चलते आए और कई मामले अब भी न्यायालय में लंबित हैं।

माकपा के वरिष्ठ नेता बादल सरोज ने अब्दुल जब्बार के निधन पर कहा, “अकेले एक शख्स का जाना भी संघर्षो की शानदार विरासत वाले शहर भोपाल को दरिद्र बना सकता है। एक आवाज का खामोश होना भी कितना भयावह सन्नाटा पैदा कर सकता है, कल शाम से महसूस हो रहा है।”

अब्दुल जब्बार पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। उनका एक निजी अस्पताल में इलाज हो रहा था। राज्य सरकार ने उन्हें इलाज के लिए मुंबई भेजने का इंतजाम किया था। वह शुक्रवार को मुंबई जाने वाले थे, मगर उससे पहले ही यह दुनिया छोड़ किसी दूसरी दुनिया में चले गए।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : तीसरे चरण का मतदान तय करेगा आजसू का राजनीतिक भविष्य

झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए दो चरण का मतदान संपन्न हो जाने के बाद सभी दल तीसरे चरण में...

उत्तर प्रदेश में दो और बलात्कार, औरेया में चलती कार में किया रेप, बिजनौर में नाबालिग के साथ दुष्कर्म

उत्तर प्रदेश में दुष्कर्म जैसे जघन्य अपराध को लेकर एक ओर जहां जनता में आक्रोश है, वहीं राज्य में ऐसे मामलों को लेकर शिकायतों...

रणजी ट्रॉफी : सांप के कारण विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच मैच में हुई देरी

यहां विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच खेला जा रहा रणजी ट्रॉफी के ग्रुप-ए का मैच सांप के कारण देरी से शुरू हुआ। मैच...

पीएम मोदी व कांग्रेस नेताओं ने कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को दीं जन्मदिन की शुभकामनाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को उनके 73वें जन्मदिन की शुभकामनाएं दी। मोदी ने ट्वीट किया, "श्रीमती सोनिया गांधी...

संसद शीतकालीन सत्र : राज्यसभा ने दिल्ली अग्निकांड पर शोक जताया

राज्यसभा ने सोमवार को दिल्ली के रानी झांसी मार्ग इलाके में भयानक आग की चपेट में आकर 43 मजदूरों के मारे जाने पर शोक...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -