“भुगत रहा है देश” – नोटबंदी पर देशवासियों की मिलीजुली प्रतिक्रिया

नोटबंदी के एक साल पूरे
नोटबंदी के एक साल पूरे

नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा नोटबंदी के ऐतिहासिक फैसले को आज एक साल हो गया है। ऐसे में पुरे देश में लोगों द्वारा इसपर मिश्रित प्रतिक्रियाएं देखने को मिली हैं।

राजनैतिक तौर पर भी इस विषय में काफी गर्माहट देखने को मिली है। जहाँ विपक्ष इस दिन को काले दिन के रूप में मना रहा है, मोदी सरकार ओर उनके समर्थक इसे ‘एंटी ब्लैक मनी डे’ के रूप में मना रहे हैं। सरकार की ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वित्त मंत्री अरुण जेटली, स्मृति ईरानी, संबित पात्र और नितिन गडकरी समेत कई नेताओं ने इस कदम को देश के लिए मददगार बताया।

नोटबंदी के विषय में सोशल मीडिया पर लोगों ने सुबह से ही अपने विचार रखना शुरू कर दिया है। एक बड़े पक्ष के लोगों ने सरकार के इस फैसले को अस्वीकार किया है। लोगों ने इसे सरकार द्वारा थोपा हुआ आदेश बताया है।

लोगों ने सरकार द्वारा टैक्स बढ़ने के दांवों पर भी जबरदस्त हमला किया।

कांग्रेस नेता भरत सोलंकी ने कहा कि नोटबंदी की वजह से देश की अर्थव्यवस्था पिछले चार सालों में सबसे धीरे हो गयी है। इसके अलावा  उन्होंने कहा कि छोटी और मध्य वर्ग की कम्पनियों की कमाई में 50 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है। 15 लाख से ज्यादा नौकरियां चली गयी हैं और चीनी पदार्थों का आयात 23 फीसदी तक बढ़ गया है।

लोगों ने इस दौरान मोदी सरकार को नोटबंदी के दौरान हुई विफलताओं की याद दिलाई।

इसके बाद भी हालांकि एक बड़े विभाग के लोगों ने नरेंद्र मोदी के इस फैसले की सराहना की है। ट्विटर पर किये गए एक सर्वे के मुताबिक 64 फीसदी लोगों ने नोटबंदी को अच्छा कदम माना है, वहीँ 36 फीसदी लोगों ने इसे गलत बताया है।

इस दौरान सरकार और उनके समर्थकों ने नोटबंदी के कीर्तिमान गिनाए। खुद नरेंद्र मोदी ने सुबह ट्वीट करके देशवासियों को इसदिन पर बधाई दी।

मोदी ने इस दौरान नोटबंदी की उपलब्धियों को देशवासियों के साथ साझा किया।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस दौरान इसे साहसिक कदम बताया।