मंगलवार, जनवरी 21, 2020

मुम्बई-अहमदाबाद के बाद अब भारत में बनंगे 10 नए बुलेट ट्रेन कोरिडोर

Must Read

जल संरक्षण का महत्व

जल संरक्षण क्यों जरूरी है? स्वच्छ, ताजा पानी एक सीमित संसाधन है। दुनिया में हो रहे सभी गंभीर सूखे के...

भारत में रियलमी करेगा स्नैपड्रैगन की 720जी चिप के साथ फोन लॉन्च

चीन की स्मार्टफोन निर्माता रियलमी के सीईओ माधव शेठ ने मंगलवार को भारत में नए स्नैपड्रैगन 720जी एसओजी (सिस्टम-ऑन-चिप)...
विकास सिंह
विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

नेशनल हाई स्पीड रेल कारपोरेशन लिमिटेड जोकि देश में बुलेट ट्रेन का परिचय कर रहा है, उसे भारतीय रेलवे विभाग द्वारा हाल ही में और अधिक रूटों पर बुलेट ट्रेन परियोजना शुरू करने के आदेश दिए गए हैं। इसके अनुसार बुलेट ट्रेन कारपोरेशन भारत के विभिन्न ट्रेन रूटों का जायजा लेगा और फिर यह निर्धारित किया जाएगा की किन रूटों पर बुलेट ट्रेन की ज़रुरत है।

दिल्ली-वाराणसी समेत छः रूटों की हुई पहचान :

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक पूरी बुलेट ट्रेन परियोजना, जिसमें 10 रूट शामिल हैं, कुल मिलाकर लगभग 6,000 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। इस परियोजना पर लगभग 10 लाख करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान लगाया गया है। बुलेट ट्रेन संचालन के लिए अब तक छह मार्गों की पहचान की जा चुकी है। इसके अलावा, नई दिल्ली और वाराणसी के बीच बुलेट ट्रेन परिचालन के लिए निगम एक रिपोर्ट पर काम करने की भी संभावना है।

मुंबई-अलाहाबाद कॉरिडोर की जानकारी :

mumbai to prayagraj

भारत का पहला बुलेट ट्रेन कॉरिडोर, मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन कॉरिडोर कुल 508 किमी लंबा होगा। 320 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाली बुलेट ट्रेन से दोनों शहरों के बीच की यात्रा लगभग 2 घंटे में पूरी होने की उम्मीद है।

वर्तमान में, मुंबई और अहमदाबाद के बीच ट्रेन यात्रा को पूरा करने में लगभग 7 घंटे लगते हैं। एन रूट, हाई-स्पीड ट्रेन 12 स्टेशनों- बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स, विरार, ठाणे, बोईसर, वापी, सूरत, भरूच, बिलिमोरा, आनंद, साबरमती, बड़ौदा और अहमदाबाद रेलवे स्टेशनों को कवर करेगी। मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना पर काम 2022 से 2023 के बीच होने की संभावना है।

रेलवे बोर्ड के अधिकारी का बयान :

इस परियोजना के बारे में रेलवे विभाग के एक कर्मचारी का कहना है की बुलेट ट्रेन संचालन को दिल्ली-लखनऊ के माध्यम से कानपुर और लखनऊ-वाराणसी के माध्यम से सुल्तानपुर मार्ग के माध्यम से राष्ट्रीय राजधानी वाराणसी से जोड़ने पर विचार किया जा रहा है।

रिपोर्ट के अनुसार, बुलेट ट्रेन नई दिल्ली-अमृतसर, नई दिल्ली-वाराणसी, नई दिल्ली-कोलकाता, पटना-कोलकाता, नई दिल्ली-मुंबई, चेन्नई-बेंगलुरु मार्गों के बीच चलने की संभावना है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

जल संरक्षण का महत्व

जल संरक्षण क्यों जरूरी है? स्वच्छ, ताजा पानी एक सीमित संसाधन है। दुनिया में हो रहे सभी गंभीर सूखे के...

भारत में रियलमी करेगा स्नैपड्रैगन की 720जी चिप के साथ फोन लॉन्च

चीन की स्मार्टफोन निर्माता रियलमी के सीईओ माधव शेठ ने मंगलवार को भारत में नए स्नैपड्रैगन 720जी एसओजी (सिस्टम-ऑन-चिप) के साथ स्मार्टफोन लॉन्च करने...

झारखंड : नई सरकार के शपथ ग्रहण के 24 दिनों बाद भी नहीं हुआ मंत्रिमंडल विस्तार, गैरों के साथ अपने भी कस रहे तंज!

झारखंड में नई सरकार का शपथ ग्रहण 29 दिसंबर को हुआ था। अबतक 24 दिन बीत चुके हैं, लेकिन अभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार...

त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय ने मनाया 48 वां राज्य दिवस

त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय ने मंगलवार को अलग-अलग अपना 48वां राज्य दिवस मनाया। इस मौके पर कई रंगा-रंग कार्यक्रम पेश किए गए। राष्ट्रपति रामनाथ...

महाराष्ट्र : भाजपा ने राकांपा के मंत्री के बयान पर आपत्ति जताई, बताया हिंदू विरोधी

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता और महाराष्ट्र के मंत्री जितेंद्र अवध के बायन पर मंगलवार को कड़ी आपत्ति...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -