बुधवार, नवम्बर 20, 2019

भारत का वार्ता रद्द करने का निर्णय सही : जनरल बिपिन रावत

Must Read

संसद शीतकालीन सत्र: गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में कहा कि स्थानीय प्रशासन के सुझाव पर जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट सेवा बहाल होगी

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में बुधवार को जम्मू एवं कश्मीर के हालात से संबंधित सवालों के जवाब...

महाराष्ट्र सरकार गठन: शिवसेना नेता संजय राउत की घोषणा, दिसंबर के पहले सप्ताह में बनेगी शिवसेना नेतृत्व वाली सरकार

शिवसेना सांसद संजय राउत ने यहां बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र में सरकार गठन पर मंडरा रहे बादल आगामी...

गायक दिलजीत दोसांझ ने अभिनेत्री गेल गेडॉट से की गोभी के पराठे बनाने की मांग

अभिनेता दिलजीत दोसांझ, एक प्रशंसक के तौर पर हॉलीवुड अभिनेत्री गेल गेडॉट के प्रति अपना प्यार जाहिर करने से...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

आर्मी प्रमुख बिपिन रावत ने 23 सितम्बर को भारत सरकार के पाकिस्तान के साथ वार्ता रद्द करने के निर्णय का पक्ष लिया। उन्होंने कहा कि वार्ता और आतंकवाद साथ- सथ नहीं हो सकते।

भारत सरकार ने संयुक्त राष्ट्र कि बैठक के इतर न्यूयोर्क में होने वाली भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उनके समकक्षी शाह मेहमूद कि बैठक को रद्द कर दिया था।

नई दिल्ली ने इसकी वजह तीन पुलिसकर्मियों की हत्या और कश्मीर व इस्लामाबाद से कश्मीरी अलगाववादी बुरहान वानी के स्टाम्प को जारी करना बताया।

आर्मी प्रमुख ने कहा की घाटी में अशांति फ़ैलाने वाले आतंकियों के खिलाफ सख्त कदम उठाना जरुरी है। उन्होंने कहा की भारत सरकार की नीति स्पष्ट है।

पाकिस्तान वार्ता की पहल कर यह दिखाने की कोशिश करके यह सोचता है कि नई दिल्ली मान लेगी कि इस्लामाबाद अब आतंकवाद को बढ़ावा नहीं दे रहा है। लेकिन भारत को आतंकी गतिविधियों के जारी रहना और सीमा पार से आतंकियों का भारत आना दिख रहा है।

इस वातावरण में बातचीत कि प्रक्रिया को आगे बढ़ाना सरकार का फैसला होगा। उन्होंने भारत के वार्ता को रद्द करने के फैसले का समर्थन किया।

20 सितम्बर को पाकिस्तान के बॉर्डर से सीमा सुरक्षा बल पर हमले किये गए। जिसमे एक जवान शहीद हो गया। हेड कांस्टेबल के पद पर तैनात जवान को सीमा पार से फेटल स्नाइपर शॉट से मारा गया है।

जनरल रावत ने कहा कि नवंबर में जम्मू- कश्मीर में होने वाले पंचायत चुनावों में अन्य सुरक्षा संस्थाओं कि मदद से पूर्ण सुरक्षा मुहैया करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि जनता के हाथ में सत्ता सौंपने के लिए इन चुनावों का होना जरुरी है।

जनरल रावत ने कहा कि चुनाव स्थानों पर उनका कार्य जनता को आश्वासन दिलाना है ताकि जनता बिना किसी भय और परेशानियों के घरों से बाहर आकर वोट दे सके।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

संसद शीतकालीन सत्र: गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में कहा कि स्थानीय प्रशासन के सुझाव पर जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट सेवा बहाल होगी

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में बुधवार को जम्मू एवं कश्मीर के हालात से संबंधित सवालों के जवाब...

महाराष्ट्र सरकार गठन: शिवसेना नेता संजय राउत की घोषणा, दिसंबर के पहले सप्ताह में बनेगी शिवसेना नेतृत्व वाली सरकार

शिवसेना सांसद संजय राउत ने यहां बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र में सरकार गठन पर मंडरा रहे बादल आगामी दिनों में जल्द ही छटने...

गायक दिलजीत दोसांझ ने अभिनेत्री गेल गेडॉट से की गोभी के पराठे बनाने की मांग

अभिनेता दिलजीत दोसांझ, एक प्रशंसक के तौर पर हॉलीवुड अभिनेत्री गेल गेडॉट के प्रति अपना प्यार जाहिर करने से कभी नहीं चूकते हैं। इस...

पेटा इंडिया के ‘पर्सन ऑफ द ईयर’ चुने गए विराट कोहली

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली को वर्ष 2019 के लिए पेटा इंडिया का पर्सन ऑफ द इयर चुना गया है। जानवरों की...

हिरासत में लिए गए कश्मीरी नेताओं के परिजनों की शिकायत, सुविधाओं के आभाव में हैं कश्मीरी नेता

हिरासत में लिए गए कश्मीरी नेताओं के परिवार के सदस्यों ने शिकायत की है कि जिस एमएलए हॉस्टल को उप-जेल में तब्दील कर दिया...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -