दा इंडियन वायर » विदेश » भारत और रूस के बीच 70,000 एके-203 असॉल्ट राइफलों की खरीद का हुआ करार
विदेश समाचार

भारत और रूस के बीच 70,000 एके-203 असॉल्ट राइफलों की खरीद का हुआ करार

रूस से एके-203 असॉल्ट राइफलों और कामोव-226 यूटिलिटी हेलीकॉप्टरों की खरीद के सौदों में बार-बार देरी के बाद भारत ने शेल्फ से 70,000 एके-203 असॉल्ट राइफलों की खरीद के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। सेना भी लाइट यूटिलिटी हेलीकॉप्टरों की तत्काल कमी को पूरा करने के लिए इसी तरह सीमित संख्या में हेलीकॉप्टर खरीद पर विचार कर रही है। इस बीच, अधिकारियों के अनुसार, रूस ने प्रस्ताव पर केए-226टी हेलीकॉप्टर को अपग्रेड किया है।

भारत और रूस के अधिकारियों ने पुष्टि की कि, “70,000 राइफलों के सौदे पर हस्ताक्षर किए गए हैं लेकिन अभी पहला भुगतान किया जाना बाकी है। पहला भुगतान होने के बाद तीन महीने के भीतर डिलीवरी शुरू हो जाएगी और छह महीने में पूरी हो जाएगी।” कामोव-226टी “क्लाइंबर” पर रूस के एक अधिकारी ने कहा कि पुन: डिज़ाइन किए गए हेलीकॉप्टर में उड़ान और तकनीकी विशेषताओं में सुधार हुआ है।

भारतीय सेना 7.5 लाख से अधिक एके-203 राइफलें खरीद रही है और इसके लिए दोनों देशों ने फरवरी 2019 में एक अंतर-सरकारी समझौते (आईजीए) पर हस्ताक्षर किए थे। इसके बाद राइफलों के निर्माण के लिए उत्तर प्रदेश के कोरवा में एक संयुक्त उद्यम (जॉइंट वेंचर) – इंडो-रूसी राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड (आईआरआरपीएल) – स्थापित किया गया था।

यह संयुक्त उद्यम भारत की ओर से आयुध निर्माणी बोर्ड (ओएफबी) और रूस की ओर से रोसोबोरोन एक्सपोर्ट्स और कलाश्निकोव के बीच है। सेना ने समय पर निष्पादन और डिलीवरी सुनिश्चित करने के लिए आईआरआरपीएल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) के रूप में एक मेजर जनरल को भी नियुक्त किया था।

रक्षा मंत्रालय ने पहले ही 6.71 लाख राइफलों की आपूर्ति के लिए संयुक्त उद्यम को प्रस्ताव के लिए अनुरोध (आरएफपी) जारी किया था लेकिन अंतिम सौदा ज़्यादा लागत के कारण रोक दिया गया था।

रविवार से शुरू हुए आर्मी 2021 एक्सपो में रूसी हेलीकॉप्टरों के प्लांट उलान-उडे एविएशन के वाणिज्यिक विभाग के उप प्रमुख वसीली ग्रीडिन ने कहा कि कामोव-226टी हेलीकॉप्टर में दो बड़े बदलाव हैं जिसमें कंपोजिट से एल्युमीनियम में बदलाव और एवियोनिक्स में बदलाव शामिल हैं।

2015 में, भारत और रूस ने कम से कम 200 कामोव-226टी ट्विन-इंजन उपयोगिता हेलीकाप्टरों के लिए एक आईजीए पर हस्ताक्षर हुए थे जिसकी अनुमानित लागत $ 1 बिलियन से अधिक थी। इसमें से 60 हेलीकॉप्टर सीधे आयात किए जाने थे और शेष 140 हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) और रूसी हेलीकॉप्टर कंपनी के बीच स्थापित एक संयुक्त उद्यम इंडिया रूस हेलीकॉप्टर लिमिटेड द्वारा स्थानीय रूप से निर्मित किए जाने थे।

हालांकि सौदा स्वदेशी सामग्री के प्रतिशत पर रोक दिया गया था जो कि आरएफपी के अनुसार चरणों में 70% तक पहुंचना चाहिए।

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!