शुक्रवार, नवम्बर 15, 2019

साल 2027 तक भारत सर्वाधिक आबादी वाला देश होगा: यूएन

Must Read

गोवा सीएम प्रमोद सावंत का राहुल गांधी पर हमला, बोले राफेल सौदे पर अनावश्यक तमाशा किया

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल सौदे...

अयोध्या विवाद में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर जेयूएच को आपत्ति, कहा मस्जिद का दूसरा विकल्प स्वीकार नहीं

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर प्रस्तावित अहम बैठक के दो...

भारत-बांग्लादेश टेस्ट सीरीज: लक्ष्मण ने कहा कि अश्विन और जड़ेजा के लिए चुनौतीपूर्ण होगा डे-नाइट टेस्ट

भारत और बांग्लादेश की टीमें को दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी हैं जिसका पहला मैच इस समय इंदौर...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

भारत और नाइजीरिया अगले तीन दशकों तीव्रता से बढ़ने वाले आबादी के देश हो जायेंगे। साल 2050 तक भारत की आब्दी 27.3 करोड़ और नाइजीरिया की 20 करोड़ हो जाएगी। विभिन्न पहलुओं में तीव्रता से वृद्धि हो रही है। यह साल 2019 की यूएन की विश्व जनसँख्या की रिपोर्ट है।

साल 2027 में विश्व की सबसे अधिक जनसँख्या वाले देशों की सूची में भारत चीन को पछाड़ देगा। वैश्विक जनसँख्या के दो अरब बढ़ने का अनुमान है, साल 2050 तक 7.7 अरब से 9.7 अरब तक पंहुच जाएगी। भारत की जनसँख्या बढती रहेंगी क्योंकि यहाँ युवा लोगो का एक बड़ा समुदाय है, जो अगले तीन दशकों में अपनी प्रजनन आयु में प्रवेश करेंगे।

नाइजीरिया की जनसँख्या में महिलाओं के अधिक बच्च्चों के कारण वृद्धि होगी। भारत का कुल प्रजनन दर 2.2 है, 24 राज्यों में देश की आधी जनसँख्या प्रतिस्थापन टीएफआर 2.1 या उससे कम है। जबकि नाइजीरिया में यह 5.4 है। सभी राज्यों में टीएफआर में तेजी से गिरावट आणि चाहती, प्रति महिला के दो या इससे कम जन्म देना चाहिए।

भारत, लैटिन अमेरिका और कैरिबियाई और इलाको में प्रजनन दर में कमतरी आणि चाहिए। साल 2050 तक युवा जनसँख्या में वृद्धि का अनुमान है। नेशनल पापुलेशन पालिसी 2000 ने अनुमान लगाया कि टीएफआर 2.1 तक पंहुच जायेगा।

उत्तर प्रदेश और बिहार में टीएफआर सबसे अधिक प्राथमिकता पर है। भारतीय जनसँख्या परिषद् वरिष्ठ एसोसिएट राजीब आचार्य ने कहा कि “लोगो को गुणवत्ता सुविधाओं तक बेरोकटोक पंहुच मिलनी चाहिए और सामाजिक विकास समर्थन, पोषण, स्वास्थ्य, स्वच्छता और संरचना, यह सुनिश्चित करने के लिए उनके पास औजार है और इच्छुक परिवार की संख्या के लिए जानकारी है।”

इस वर्ष स्वास्थ्य के लिए बजट 15 प्रतिशत बढाकर आवंटित किया गया है। साल 2018-2019 में 56045 करोड़ से बढ़कर साल 2019-20 में 64559 करोड़ कर दिया गया है। पिछले महीने के मुकाबले राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन का बजट आठ प्रतिशत बढ़ा दिया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय अधिकारी ने बताया कि “स्वास्थ्य प्रणाली को मज़बूत करने के लाइट एनएचएम ने आवंटन में प्रमुख वृद्धि की है। इसमें बीते वर्ष करीब 12 प्रतिशत की वृद्धि की गयी थी।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

गोवा सीएम प्रमोद सावंत का राहुल गांधी पर हमला, बोले राफेल सौदे पर अनावश्यक तमाशा किया

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल सौदे...

अयोध्या विवाद में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर जेयूएच को आपत्ति, कहा मस्जिद का दूसरा विकल्प स्वीकार नहीं

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर प्रस्तावित अहम बैठक के दो दिन पहले जमीयत उलेमा-ए-हिंद (जेयूएच)...

भारत-बांग्लादेश टेस्ट सीरीज: लक्ष्मण ने कहा कि अश्विन और जड़ेजा के लिए चुनौतीपूर्ण होगा डे-नाइट टेस्ट

भारत और बांग्लादेश की टीमें को दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी हैं जिसका पहला मैच इस समय इंदौर के होल्कर स्टेडियम में खेला...

बिहार के महान गणितज्ञ डॉ वशिष्ठ नायारण सिंह को हजारों लोगों ने दी अंतिम विदाई

बिहार के भोजपुर के सपूत और महान गणितज्ञ डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह का अंतिम संस्कार शुक्रवार को भोजपुर जिले के बसंतपुर गांव के महुली...

हिंदू महासभा के ग्वालियर स्थित कार्यालय में नाथूराम गोडसे की पूजा

एक तरफ जहां हाल ही में देश और दुनिया में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का 150वां जयंती वर्ष मनाया गया, वहीं दूसरी ओर हिंदू महासभा...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -