Sun. May 19th, 2024
    भारत में सभी FMCG कंपनियों को पछाड़ कर खादी ने 2021-22 में 1 लाख करोड़ रुपये का किया कारोबार।

    खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) ने एक ऊंचाई हासिल की है जो भारत में सभी FMCG कंपनियों के लिए एक दूर का लक्ष्य बना हुआ है। KVIC ने पहली बार 1.15 लाख करोड़ रुपये का भारी कारोबार किया है जो देश में किसी भी FMCG कंपनी नहीं कर पाया है। KVIC देश की एकमात्र कंपनी है जिसने 1 लाख करोड़ रुपये का कारोबार दर्ज किया है।

    वित्त वर्ष 2021-22 में, KVIC का कुल कारोबार पिछले वर्ष यानी 2020-21 में 95,741.74 करोड़ रुपये की तुलना में 1,15,415.22 करोड़ रुपये रहा। KVIC ने वर्ष 2020-21 से 20.54% की वृद्धि दर्ज की है। वर्ष 2014-15 की तुलना में, 2021-22 में खादी और ग्रामोद्योग क्षेत्रों में कुल उत्पादन में 172% की भारी वृद्धि दर्ज की गई है जबकि इस अवधि के दौरान सकल बिक्री में 248% से अधिक की वृद्धि हुई है। 

    KVIC का यह बड़ा कारोबार कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के कारण पहले 3 महीनों में यानी 2021 में अप्रैल से जून तक देश में आंशिक लॉकडाउन के बावजूद आया है।

    पिछले एक साल के प्रदर्शन को देखें तो सबसे ज्यादा असर खादी क्षेत्र पर देखा जा सकता है जिसने 2020-21 में 3528 करोड़ रुपये से 43.20 फीसदी की वृद्धि दर्ज की है और 2021-22 में 5052 करोड़ रुपये हो गया है। पिछले 8 वर्षों में, यानी 2014-15 से, 2021-22 में खादी क्षेत्र में उत्पादन में 191% की वृद्धि हुई है, जबकि खादी की बिक्री में 332% की तेजी से वृद्धि हुई है।

    वहीं दूसरी ओर, ग्रामोद्योग क्षेत्र में कारोबार 2021-22 में 1,10,364 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है, जबकि पिछले वर्ष यह 92,214 करोड़ रुपये था। पिछले 8 वर्षों में, 2021-22 में ग्रामोद्योग क्षेत्र में उत्पादन में 172% की वृद्धि हुई है, जबकि बिक्री में 245% की वृद्धि हुई है।

    KVIC के अध्यक्ष विनय कुमार सक्सेना ने खादी के अभूतपूर्व विकास का श्रेय देश में खादी को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के निरंतर समर्थन को दिया। साथ ही नये योजनाओं, रचनात्मक मार्केटिंग आइडियाज और विभिन्न मंत्रालयों के सक्रिय समर्थन ने भी हाल के वर्षों में खादी के विकास में इजाफा किया है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *