सोमवार, दिसम्बर 9, 2019

भारत-पाकिस्तान के मध्य 37 अरब डॉलर की व्यापार क्षमता: विश्व बैंक

Must Read

उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में बछियों के गुड़, चना नहीं खाने पर सीएम योगी ने कहा, कभी खिलाया ही नहीं, तो अब कैसे...

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को बांदा जिले की तिंदवारी कस्बे में स्थित कान्हा पशु आश्रय केंद्र (गौशाला) का निरीक्षण...

हैदराबाद एनकाउंटर मामले में जनहित याचिका पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

हैदराबाद मुठभेड़ मामले में दायर जनहित याचिका पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को सुनवाई करेगी। गौरतलब है कि हैदराबाद में...

उन्नाव दुष्कर्म मामले में योगी सरकार की कार्रवाई, सात पुलिसकर्मी निलंबित

उत्तरप्रदेश के उन्नाव में दुष्कर्म तथा पीड़िता की जलाकर मौत के मामले में योगी सरकार ने बड़ा कार्रवाई की...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

विश्व बैंक की जारी रिपोर्ट में भारत और पाकिस्तान के बीच व्यापार क्षमता 37 अरब डॉलर है। रिपोर्ट में बताया गया है कि राजनीतिक खटास और सामान्य व्यापार संबंधों में कमी का असर दक्षिण एशिया पर पड़ा है।

दक्षिण एशिया के क्षेत्रों में व्यापार का वादे के तहत आयी इस रिपोर्ट में भारत-पाक के द्विपक्षीय व्यापार में प्रतिबंधित उत्पादों कि लम्बी सूची होने के कारण व्यापार में कमी आयी है। भारत और पाकिस्तान दोनों मुल्कों ने टैरिफ में बिना रियायत दिए उत्पादों की एक लम्बी सूची जारी की हुई है।

दोनों पक्षों के बीच सामान्य व्यापार संबंधों के न स्थापित होने की वजह से क्षेत्रीय व्यापार के लिए मुश्किलें खड़ी हो सकती है। पाकिस्तान के पास 936 उत्पादों कि सूची है जिस पर एसएएफटीए (साउथ एशियाई फ्री ट्रेड एरिया) देशों पर 17.9 फीसदी टैरिफ लगता है।

भारत के 25 उत्पादों पर 0 .5 प्रतिशत टैरिफ लगता है। भारत के पास 64 उत्पादों की सूची श्रीलंका और पाकिस्तान के लिए है। अलबत्ता ये पाकिस्तान के लिए अधिक है क्योंकि भारत और श्रीलंका के बीच मुफ्त व्यापार समझौता हो रखा है।

भारत ने पाकिस्तान को एसएएफटीए के तहत साल 1996 में सहायकयुक्त राष्ट्र का दर्जा दे रखा है हालांकि पाकिस्तान ने ऐसा कोई विशेष दर्जा भारत को नहीं दिया है।

पाकिस्तान के पास 129 उत्पादों की सूची है जो वह भारत से आयात नहीं कर सकते हैं। जबकि इनमे से अधिकतर उत्पाद भारत किसी तीसरे देश के माध्यम से पाकिस्तान तक पहुंचता है। पाकिस्तान केवल 138 वस्तुओं को ही वाघा-अटारी बॉर्डर से आयत करने की अनुमति देता है।

कोई भी कार्गो ट्रक बॉर्डर पार नहीं कर सकता जिससे समय और व्यापार की कीमत में वृद्धि होती है। मसलन सामान को सीमा पर दूसरे वाहन में लोड करना होता है। वस्तु एवं सेवा कर और एफडीआई निवेश भी दोनों देशों के व्यापर को संतुलित करने में अवरोध पैदा कर रहा है।

भारत और पाक की वीजा नीति के कारण दोनों देशों के लोगों को आवाजाही करने पर पाबंदी लगी लगी हुई है। भारत और पाकिस्तान के बीच राजनीतिक अस्थिरता और संतुलित व्यापार न होने की छाया दक्षिण एशिया पर पड़ी है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में बछियों के गुड़, चना नहीं खाने पर सीएम योगी ने कहा, कभी खिलाया ही नहीं, तो अब कैसे...

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को बांदा जिले की तिंदवारी कस्बे में स्थित कान्हा पशु आश्रय केंद्र (गौशाला) का निरीक्षण...

हैदराबाद एनकाउंटर मामले में जनहित याचिका पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

हैदराबाद मुठभेड़ मामले में दायर जनहित याचिका पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को सुनवाई करेगी। गौरतलब है कि हैदराबाद में एक पशु चिकित्सक युवती के...

उन्नाव दुष्कर्म मामले में योगी सरकार की कार्रवाई, सात पुलिसकर्मी निलंबित

उत्तरप्रदेश के उन्नाव में दुष्कर्म तथा पीड़िता की जलाकर मौत के मामले में योगी सरकार ने बड़ा कार्रवाई की है। इस प्रकरण में ढिलाई...

किम शर्मा की जीवनी

किम शर्मा हिंदी फिल्मो की अभिनेत्री रह चुकी हैं। किम ने हिंदी फिल्मो के अलावा कुछ तेलुगु फिल्मो में भी अभिनय किया है। उन्होंने...

संसद शीतकालीन सत्र : लोकसभा में आज के कामकाज

लोकसभा में सोमवार को नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2019 को चर्चा और पारित कराने के लिए पेश किया जाएगा और दो सदस्यों टी. एन. प्रतापन...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -