Sat. Apr 20th, 2024
    भारत-पाकिस्तान

    पिछले गुरुवार जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले को देखते हुए कुछ प्रशंसक और क्रिकेटरो का मानना है कि भारत की राष्ट्रीय टीम को आगामी 2019 विश्वकप में पाकिस्तान के खिलाफ मैच नही खेलना चाहिए। हाल में भारत के स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह ने एक न्यूज चैनल से बात करते हुए कहा था कि “देश पहले आता है” और टीम इंडिया को पाकिस्तान के खिलाफ विश्व कप में नही खेलना चाहिए। हालांकि, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के सीईओ डेव रिचर्डसन ने कहा कि अब ऐसा कोई संकेत नहीं है कि मैच रद्द हो जाएगा, और ना ही शेड्यूल में कोई बदलाव आ सकता है।

    रिचर्डसन ने आतंकवादी हमले पर अपनी संवेदना की पेशकश करते हुए जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे कहा, “हमारे विचार हर किसी के साथ हैं जो इस भयानक घटना से प्रभावित हुए हैं और हम अपने सदस्यों के साथ स्थिति की निगरानी करेंगे।”

    रिचर्डसन ने आगे कहा, ” ऐसा कोई संकेत नही है कि आईसीसी मेन्स क्रिकेट वर्ल्डकप में कोई भी मैच योजना के अनुसार आगे नहीं बढ़ेगा।”

    “खेल, विशेष रूप से क्रिकेट में, लोगों को एक साथ लाने और समुदायों को एकजुट करने की अद्भुत क्षमता है और हम उस आधार पर अपने सदस्यों के साथ काम करेंगे।”

    यहां तक कि जिन पुरुषों ने बीसीसीआई से बात की, उन्होंने कहा कि विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलना अब तक का “लंबा शॉट” है।

    बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ” हरभजन ने अपनी बात साझा की थी, लेकिन उन्होंने स्पष्ट नहीं किया कि अगर हम फिर से सेमीफाइनल या फाइनल में उनके खिलाफ खड़े होते हैं तो क्या होता है। क्या इसका मतलब है कि हम विश्व कप सेमीफाइनल या फाइनल में प्रवेश करेंगे? सभी काल्पनिक परिस्थितियों के बारे में बात कर रहे हैं।”

    अधिकारी ने आगे कहा, ” अगर पिछली बातो पर गौर करे, तो भारत ने 1999 विश्वकप संस्करण में इंग्लैंड में पाकिस्तान के खिलाफ मैच खेला था, जब कारगिल युद्ध अपने चरम पर था।”

    सोमवार को हरभजन सिंह ने कहा था: ” भारत को पाकिस्तान के खिलाफ विश्वकप में नही खेलना चाहिए। भारत पाकिस्तान को खेले बिना विश्व कप जीतने के लिए पर्याप्त शक्तिशाली है।”

    आगे उन्होने कहा था, ” यह एक मुश्किल समय है। यह अविश्वसनीय था और यह बहुत गलत है। सरकार द्वारा सख्त कार्रवाई की जाएगी। जब क्रिकेट की बात आती है, तो मुझे नहीं लगता कि हमें उनके साथ कोई संबंध रखना चाहिए अन्यथा वे हमारे साथ इस तरह का व्यवहार करते रहेंगे।”

    हरभजन ने कहा कि भारत को शहीद सीआरपीएफ जवानों के सम्मान के लिए पाकिस्तान के साथ किसी भी प्रकार के खेल संबंधों को पुनर्जीवित करने की आवश्यकता नहीं है।

    अनुभवी ऑफ स्पिनर ने कहा, ” मुझे नही लगता कि भारत को पाकिस्तान के खिलाफ विश्व कप में खेलना चाहिए। देश पहले आता है और हम सभी अपने देश के पीछे खड़े है। क्रिकेट या हॉकी या खेल, इसे अलग रखा जाना चाहिए क्योंकि यह एक बहुत बड़ी बात है और बार-बार हमारे सैनिक मारे गए है।”

    कई संबद्ध इकाइयों ने पाकिस्तानी की तस्वीरें और चित्र हटा दिए हैं।

    By अंकुर पटवाल

    अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *