Fri. Jul 19th, 2024
    मोहम्मद हफीज

    पाकिस्तान के हरफनमौला खिलाड़ी मोहम्मद हफीज का मानना है कि भारत और इंग्लैंड के साथ-साथ उनके अपना राष्ट्र भी शीर्ष तीन पसंदीदा टीमो में हैं जो आगामी आईसीसी एकदिवसीय विश्व कप जीतने वाली हैं।

    हाल में न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया से एकदिवसीय सीरीज में मिली हार के बावजूद मोहम्मद हफीज को अब भी लगता है कि उनकी टीम शोपीस इवेंट में भारत को मात देगी। जिस तरह से उन्होने चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भारत को मात दी थी।

    हफीज ने कहा, ” यहां तक कि मुझे लगता है कि एक महत्वपूर्ण दृष्टिकोण से हमें विश्वकप के लिए तीन पसंदीदा टीमो में है। इंग्लैंड हमेशा से पसंदीदा रही है क्योंकि ब्रांड ऑफ क्रिकेट दिखाया है और भारत भी पिछेल कुछ समय से अच्छा क्रिकेट खेलता आय़ा है और उनके पास अपनी लाइन-अप में कुछ अच्छे गेंदबाज है।”

    हफीज ने यह भी जोर देकर कहा कि विश्व कप में इस्तेमाल किया जाने वाला एकल प्रारूप पाकिस्तान के पक्ष में जाएगा क्योंकि हमेशा से ही किसी भी टूर्नामेंट में देर से प्रदर्शन करने की प्रवृत्ति थी।

    उन्होने कहा, ” ग्रुप सिस्टम में टीम को आमतौर पर दूसरा मौका नही मिलता है और याद करे भारत और पाकिस्तान दोनो को 2007 में पहले राउंड में बाहर होना पड़ा था।”

    उन्होने आगे कहा, ” हम अब एक इकाई के रूप में खेल रहे है और हम खेल में एक दूसरे की मदद भी कर रहे है। और मुझे लगता है कि हम विश्वकप में अच्छा करेंगे।”

    उन्होने कहा कि यूके में अच्छे समर्थन की वजह से पाकिस्तान ने 2009 में टी-20 विश्वकप और 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी।

    उन्होने कहा, ” जब भी हम यहा खेले है हम एक अच्छा समर्थन मिला है और इससे खिलाड़ियो को अच्छा प्रदर्शन करने में बढ़ावा मिलता है।”

    हफीज ने आगे कहा वह पहले जब भी भारत दौरे पर जाते थे वहा उनको बहुत प्यार और सम्मान मिलता था और वहा रहने में अच्छा लगता था।

    उन्होने कहा, ” मुझे लगता है कि हम क्रिकेट में एक साथ काम करने की जरूरत है और तनाव दूर करने की जरूरत है।”

    By अंकुर पटवाल

    अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *