गुरूवार, नवम्बर 14, 2019

दिसम्बर से शुरू होगी भारत और नेपाल के बीच रेलयात्रा

Must Read

गन्ने को प्रदेश के औद्योगिक विकास की बुनियाद बनाएंगे : योगी

लखनऊ, 13 नवम्बर(आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यहां कहा कि भविष्य में गन्ना प्रदेश...

शी चिनफिंग ने एक्रोपोलिस संग्रहालय का दौरा किया

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और उनकी पत्नी फंग लीयुआन ने 12 नवंबर को ग्रीस के...

हांगकांग चीन का घरेलू मामला : चीन

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। हांगकांग चीन का हांगकांग है। हांगकांग का मामला चीन का घरेलू मामला है। कोई भी...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

भारत और नेपाल के मध्य संबंधों को सुधारने के लिए एक यात्री ट्रेन की शुरुआत करने का निर्णय लिया गया है। रेलवे के मुताबिक इस वर्ष दिसम्बर में भारत और नेपाल के मध्य यात्री ट्रेन की शुरुआत की जाएगी। यह ट्रेन बिहार के जयनगर से नेपाल के दक्षिणी पूर्वी इलाके कुर्था तक चलेगी। यह रेलवे मार्ग 34 किलोमीटर लम्बा है।

इस यात्रा के लिए नेपाली और बंगलादेशी नागरिकों को वीजा की जरुरत नहीं होगी। सूत्रों के मुताबिक भारत और नेपाल के मध्य यह पहली यात्री रेल है। हालांकि इस मार्ग से यात्री ट्रेन और मालगाड़ी दोनों गुजरेंगी। नेपाल ने भारत से ट्रेन के रैक, कोच और अन्य उपकरण किराए पर लिये हैं।

भारतीय विदेश मंत्रालय ने रेलवे विभाग के साथ कई मंत्री स्तर की बैठके आयोजित की थी। साथ नेपाली सरकार के साथ भी विदेश मंत्रालय ने मीटिंग की थी। भारत के यह कदम, चीन और नेपाल के मध्य ट्रेन नेटवर्क के निर्माण के प्रतिकार के रूप में देखा जा रहा है। बीजिंग ने काठमांडू तक रेल नेटवर्क के विस्तार का निर्णय लिया था।

भारत और नेपाल ने चार क्रॉस बॉर्डर रेलवे लिंक की योजना तैयार की है। जयनगर-कुर्था के मध्य रेलवे लाइन का निर्माण ब्रिटिश हुकूमत के समय हुआ था। अंग्रेज उत्पादों को भारत ट्रांसपोर्ट करने के लिए इस रूट का इस्तेमाल करते थे। उस समय बिहार के जयनगर और नेपाल के जनकपुर के बीच 52 किलोमीटर की दूरी थी। 15 वर्ष पूर्व आई बाढ़ में बिघि ब्रिज ढह गया था।

5.5 बिलियन डॉलर के इस प्रोजेक्ट को तीन चरणों में विभाजित किया गया है। पहले चरण में जयनगर से कुर्था के बीच 34 किलोमीटर का खंड का निर्माण किया जायेगा।

दूसरे चरण में कुर्था से बंघाहा के मध्य 18 किलोमीटर, और तीसरे चरण में बंघाहा से बर्दिबास के बीच 17 किलोमीटर के खंड का निर्माण किया जायेगा। इस समूचे मार्ग में भारत में सिर्फ तीन किलोमीटर का ही रेलवे मार्ग है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

गन्ने को प्रदेश के औद्योगिक विकास की बुनियाद बनाएंगे : योगी

लखनऊ, 13 नवम्बर(आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यहां कहा कि भविष्य में गन्ना प्रदेश...

शी चिनफिंग ने एक्रोपोलिस संग्रहालय का दौरा किया

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और उनकी पत्नी फंग लीयुआन ने 12 नवंबर को ग्रीस के राष्ट्रपति प्रोकोपिस पावलोपोलोस दंपति के...

हांगकांग चीन का घरेलू मामला : चीन

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। हांगकांग चीन का हांगकांग है। हांगकांग का मामला चीन का घरेलू मामला है। कोई भी विदेशी सरकार, संगठन और निजी...

मोदी हर काम में पादर्शिता चाहते हैं : साध्वी निरंजन ज्योति

नई दिल्ली, 13 नवंबर (आईएएनएस)। ग्रामीण विकास राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चाहते हैं कि हर काम...

बीबी की आदतों से आजिज इंजीनियर पति ने जान दे दी

फरीदाबाद, 13 नवंबर (आईएएनएस)। बीबी से आए-दिन होने वाली चिक-चिक से परेशान इंजीनियर ने जहर खा लिया। उसे गंभीर हाल में अस्पताल में दाखिल...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -