Fri. May 24th, 2024
    चीनी सैनिक

    भारत और चीन ने अपनी सेनाओं के जुड़ाव को जारी रखा है और वर्ष हिमालय में ‘हैंड इन हैंड’ सैन्य अभ्यास को अंजाम दिया जायेगा। इस अभ्यास के बाबत योजना समारोह का आयोजन अगले माह किया जायेगा। यह अभ्यास उमरोई, मेघालय में किया जायेगा इसमें दोनों पक्षों की तरफ से 100-120 सैनिको को शामिल किया जायेगा।

    आपदा राहत सैन्य अभ्यास

    यह विशाल अभ्यास आतंकवाद रोधी और मानवीय सहायता और आपदा राहत अभियानों के आधार पर आयेजित होंगे। अधिकारी ने बताया कि “चीन के साथ संयुक्त अभ्यास “हैंड इन हैंड” का आयोजन इस वर्ष दिसम्बर में किया जायेगा इसका आयोजन उमरोई में किया जायेगा।”

    यह अभ्यास बीते वर्ष दिसम्बर में चीन के चेंगडु में किया गया था। भारतीय सेना के 11 सिखली और पीपल लिब्रेशन आर्मी की तिब्बत सेना के कंपनी साइज़ सैनिको ने इस अभ्यास में भाग लिया था। यह अभ्यास साल 2017 में 72 दिनों के डोकलाम प्रकरण के कारण नहीं हुआ था।

    इस मतभेद ने नाटकीय तरीके से दोनों देशों के संबंधों को बदल दिया था और यह रिश्ते बीते वर्ष अगस्त में सामान्य हुए थे। इस इलाके में चीनी गतिविधियों को सेना निरंतर देख रही है। इस अभ्यास का मकसद दोनों देशों की सेनाओ के बीच करीबी संबंधों का निर्माण करना है।

    भारत-चीन संघर्ष में कमी

    लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल पर हालात स्थिर हुए हैं और काफी लम्बे अरसे से शांतिपूर्ण है। साल 2018-19 की रक्षा मंत्रालय की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले वर्षों के मुकाबले इस वर्ष अपराधो की संख्या में काफी कमी आई है। अप्रैल 2018 में वुहान सम्मेलन के बाद मुलाकातों में खासी वृध्दि हुई है।

    मंत्रालय ने कहा कि “साल 2018-19 ने दोनों पक्षों के बीच सैन्य विनिमय और रक्षा में तीव्रता की गवाह बनी है। चीनी रक्षा मंत्री ने बीते वर्ष अगस्त में भारत की यात्रा की थी और नवम्बर में बीजिंग में रक्षा सचिव स्तरीय वार्षिक रक्षा और सुरक्षा वार्ता का आयोजन बीजिंग में हुआ था।”

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *