Sun. Apr 14th, 2024
    भारत और श्रीलंका चालीस वर्षों के बाद फिर से शुरू किये फेरी सेवा

    भारत और श्रीलंका ने शनिवार को चालीस वर्षों के बाद नौका सेवा फिर से शुरू की। पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने तमिलनाडु के नागपट्टिनम और श्रीलंका के कांकेसंतुराई के बीच फेरी सेवा को हरी झंडी दिखाई। जहाज सामान्य मौसम में तीन घंटे में कांकेसंतुराई बंदरगाह पहुंचेगा।

    पीएम मोदी ने वीडियो संदेश के माध्यम से नागपट्टिनम, भारत और कांकेसंथुराई, श्रीलंका के बीच नौका सेवाओं के शुभारंभ किये। उन्होंने कहा कि भारत और श्रीलंका राजनयिक और आर्थिक संबंधों में एक नए अध्याय की शुरुआत कर रहे हैं।

    पीएम ने कहा कि नागपट्टिनम और कांकेसंथुराई के बीच नौका सेवा का शुभारंभ दोनों देशों के संबंधों को मजबूत करने में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है क्योंकि दोनों देशों की संस्कृति का गहरा इतिहास है।

    पीएम मोदी ने बताया कि नागपट्टिनम और आसपास के शहर श्रीलंका सहित कई देशों के साथ समुद्री व्यापार के लिए लंबे समय से जाने जाते हैं और पूम्पुहार के ऐतिहासिक बंदरगाह का उल्लेख प्राचीन तमिल साहित्य में एक केंद्र के रूप में किया जाता है।

    उन्होंने पट्टीनाप्पलाई और मणिमकलाई जैसे संगम युग के साहित्य के बारे में भी बात की, जो दोनों देशों के बीच नावों और जहाजों की आवाजाही का वर्णन करते हैं। उन्होंने महान कवि सुब्रमण्यम भारती के गीत ‘सिंधु नदीयन मिसाई’ का भी जिक्र किया, जिसमें भारत और श्रीलंका को जोड़ने वाले एक पुल का उल्लेख है।

    पीएम ने 2015 में श्रीलंका की अपनी यात्रा को याद किया जब दिल्ली और कोलंबो के बीच सीधी उड़ानें शुरू की गई थीं। बाद में, प्रधान मंत्री ने कहा, श्रीलंका से तीर्थ नगरी कुशीनगर में पहली अंतरराष्ट्रीय उड़ान की लैंडिंग भी मनाई गई। उन्होंने यह भी बताया कि चेन्नई और जाफना के बीच सीधी उड़ानें 2019 में शुरू हुईं, और अब नागपट्टिनम और कांकेसंतुराई के बीच नौका सेवा इस दिशा में एक और महत्वपूर्ण कदम है।

    कार्यक्रम में एक वीडियो संदेश में, श्रीलंकाई राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे ने नौका सेवा को फिर से शुरू करने में द्वीप राष्ट्र की मदद करने में भारत की पहल पर खुशी व्यक्त की। उन्होंने कहा कि युद्ध के दौरान बाधित हुई कनेक्टिविटी शांति की वापसी के बाद फिर से शुरू हो गई है। उन्होंने इसे संभव बनाने के लिए पीएम मोदी और शिपिंग कॉरपोरेशन को धन्यवाद दिया। उन्होंने आशा व्यक्त की कि लोग श्रीलंका और भारत का दौरा करेंगे। उन्होंने कहा कि हवाई और समुद्री संपर्क दोनों देशों को लाभान्वित करेगा।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *