Sat. Feb 4th, 2023
    भारत और ऑस्ट्रेलिया ने आर्थिक सहयोग और व्यापार समझौते में सफलतापूर्वक किया प्रवेश

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हस्ताक्षरित आर्थिक सहयोग और व्यापार समझौता दोनों देशों के मौजूदा हालातों को आर्थिक रूप से मज़बूत करेगा और अन्य आकर्षित अवसरों का पूरी तरह से लाभ उठाने के अलावा छात्रों, पेशेवरों और पर्यटकों के आदान-प्रदान की सुविधा प्रदान करेगा।
    भारत-ऑस्ट्रेलिया आर्थिक सहयोग और व्यापार समझौते (IndAus ECTA) पर वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल और उनके ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष डैन तेहान ने एक आभासी समारोह में हस्ताक्षर किए जहाँ प्रधान मंत्री मोदी और ऑस्ट्रेलियाई प्रधान मंत्री स्कॉट मॉरिसन भी मौजूद थे|

    पीएम मोदी ने कहा कि इतने कम समय में समझौते पर हस्ताक्षर देशों के बीच आपसी विश्वास की गहराई को दर्शाता है।

    उन्होंने एक दूसरे की जरूरतों को पूरा करने के लिए दोनों अर्थव्यवस्थाओं में मौजूद विशाल क्षमता को भी रेखांकित करते हुए बताया कि यह समझौता देशों को इन अवसरों का पूरी तरह से लाभ उठाने में सक्षम करेगा।

    “यह हमारे द्विपक्षीय संबंधों के लिए एक महत्वपूर्ण क्षण है | इस समझौते के आधार पर हम भारत-प्रशांत क्षेत्र की स्थिरता में योगदान देंगे,” पीएम मोदी ने सम्बोधन में कहा ।
    भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच बढ़ते संबंधों में समझौते पर हस्ताक्षर को एक और मील का पत्थर बताते हुए, प्रधान मंत्री मॉरिसन ने कहा कि समझौता संबंधों के वादे पर आगे बढ़ता है।

    व्यापार और आर्थिक सहयोग में वृद्धि के अलावा, उन्होंने कहा, समझौता काम, अध्ययन और यात्रा के अवसरों का विस्तार करके दोनों देशों के लोगों के बीच “गहरे और घनिष्ठ संबंधों” को और मजबूत करेगा।

    ऑस्ट्रेलियाई प्रधान मंत्री ने कहा कि समझौता घरेलू उत्पादकों और भारत के लिए बाध्य सेवा प्रदाताओं के लिए व्यापार विविधीकरण के अवसर पैदा करेगा, जिसका मूल्य प्रत्येक वर्ष 14.8 बिलियन अमरीकी डालर तक हो सकता है।

    उन्होंने कहा, “यह समझौता ऑस्ट्रेलियाई किसानों, निर्माताओं, उत्पादकों और कई अन्य लोगों के लिए दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था में एक बड़ा द्वार खोलता है|” उन्होंने बताया ,”भारत में लगभग 1.4 बिलियन उपभोक्ताओं के विशाल बाजार को खोलकर, अर्थव्यवस्था मज़बूत होंगी और नौकरियां भी बढ़ेंगी |”

    इसके अलावा, मोर्रिसन ने कहा कि समझौता तस्मानिया में लॉबस्टर मछुआरों, दक्षिण ऑस्ट्रेलिया में शराब उत्पादकों, क्वींसलैंड में मैकाडामिया किसानों, पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में महत्वपूर्ण खनिज खनिकों, न्यू साउथ वेल्स के भेड़ के किसानों, विक्टोरिया में स्थित ऊन उत्पादकों और धातु अयस्क उत्पादकों के लिए बहुत अच्छी खबर है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *