दा इंडियन वायर » विदेश » 2022 तक भारत और ऑस्ट्रेलिया पूरा करेंगे मुक्त व्यापार समझौता; इस साल क्रिसमस तक तैयार होगा अंतरिम दस्तावेज़
विदेश समाचार

2022 तक भारत और ऑस्ट्रेलिया पूरा करेंगे मुक्त व्यापार समझौता; इस साल क्रिसमस तक तैयार होगा अंतरिम दस्तावेज़

वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल से मुलाकात के बाद ऑस्ट्रेलिया के व्यापार, पर्यटन और निवेश मंत्री डैन तेहान ने कहा कि भारत और ऑस्ट्रेलिया गुरुवार को 2022 के अंत तक एक मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) का समापन करने के लिए सहमत हुए। वहीं यह सहमति भी बानी कि एक अंतरिम समझौते को इस क्रिसमस तक अंतिम रूप दिया जाएगा।

वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल और उनके ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष ऑट्रिलियाई व्यापार मंत्री डैन तेहान ने गुरुवार को दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन में यह घोषणा की। तेहान इस समय भारत के तीन दिवसीय दौरे पर है।

गौरतलब है कि यह समझौता प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और ऑस्ट्रेलियाई प्रधान मंत्री स्कॉट मॉरिसन के वाशिंगटन में पहले व्यक्तिगत रूप से क्वाड शिखर सम्मेलन के दौरान मिलने के एक सप्ताह बाद हुआ है।
ऑस्ट्रेलियाई मंत्री तेहान ने एक संयुक्त ब्रीफिंग में कहा कि, “आर्थिक साझेदारी सेवाओं और वस्तुओं, निवेशों में व्यापार को कवर करेगी और हम सरकारी खरीद, ऊर्जा और संसाधनों, रसद और परिवहन, मानकों, उत्पत्ति के नियमों पर चर्चा शुरू करेंगे। हम अक्टूबर के अंत तक इससे सम्बंधित प्रस्तावों का आदान-प्रदान करने के लिए सहमत हुए हैं।”

उन्होंने कहा कि, “यह भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच आर्थिक साझेदारी के लिए एक असाधारण, महत्वाकांक्षी और एक बड़ा दिन है।” उन्होंने आगे कहा कि एक पूर्ण एफटीए होने के बाद द्विपक्षीय व्यापार 26 अरब डॉलर के मौजूदा स्तर से दोगुना हो सकता है।

“यह वृद्धि दोनों देशों के उद्योगों में पूरकता के कारण सभी क्षेत्रों में होगी। हमारे मेरिनो वूल का इस्तेमाल भारतीय कपड़ा निर्माता बेहतरीन उत्पाद बनाने के लिए कर सकते हैं।

वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल कि इसी तरह जम्मू-कश्मीर की पश्मीना आस्ट्रेलियाई लोगों के लिए एक आकर्षक प्रस्ताव हो सकती है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, “हमने मिलने के लिए कुछ महत्वाकांक्षी लक्ष्य और समयसीमा निर्धारित की है और बातचीत करने वाली टीमें ऑस्ट्रेलिया-भारत व्यापार संबंधों के विस्तार की दिशा में एक महत्वपूर्ण परिणाम तक पहुंचने के लिए तुरंत काम शुरू कर देंगी।”

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!