Tue. May 28th, 2024
    भारतीय क्रिकेट टीम

    मोहाली में खेले गए चौथे वनडे मैच में एश्टन टर्नर भारतीय टीम पर पूरी तरह से हावी दिखे और एक बड़े स्कोर का पीछा करते हुए उन्होने टीम को 4 विकेट से जीत दर्ज करवाई। जिसके बाद अब पांच वनडे मैचो की सीरीज 2-2 से बराबरी पर है। सीरीज अब एक निर्णायक मोड़ पर है जो आखिरी मैच जीतेगा वह इस ट्रॉफी पर कब्जा कर लेगा।

    भारत की टीम से इस सीरीज में विश्व कप के लिए नह चहेरो को अजमाना था लेकिन ऐसा नही हो पाया क्योंकि टीम को अबतक खेले गए चार वनडे मैचो में करारी टक्कर मिली है। और आखिरी वनडे मैच में भी टीम अपनी पूरी ऊर्जा के साथ मैदान में उतरेगी क्योंकि टीम सीरीज पर कब्जा करने के इरादे से मैदान में उतरेगी।

    फिरोजशाह कोटला मैदान, दिल्ली में होने वाले अंतिम वनडे मैच की संभावित प्लेइंग-11 पर एक नजर डाले।

    रोहित शर्मा

    सीरीज में कई छोट स्कोर करने के बाद, रोहित शर्मा मोहाली में एक अच्छे फॉर्म में नजर आए और उन्होने 95 रन की शानदार पारी खेली। वह अपना शतक लगाने से चूंक गए, लेकिन टॉप ऑर्डर में उनके द्वारा बनाए गए रन टीम के लिए अच्छी बात है। 6 पारियो के बाद यह उनका पहला अर्धशतक था। उपकप्तान ने शिखर धवन के साथ 193 रन की साझेदारी में 7 चौके और 2 छक्के लगाए। उनके नाम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 5 शतक लगाने का रिकॉर्ड भी है।

    शिखर धवन

    शिखर धवन ने उनके बारे में कही गई नकारात्मक बातों पर ध्यान नहीं दिया जो उन्होने मैच खत्म होने के बाद कहा, उन्होंने मोहाली में शानदार शतक के साथ सलामी बल्लेबाज के रूप में अपनी स्थिति पर सभी संदेह दूर कर दिए और हालांकि, भारत यह मैच हार गया, धवन को इस क्रम में सबसे ऊपर रखा गया विश्व कप के लिए पक्ष का सही तरीका है।

    विराट कोहली

    कप्तान ने केएल राहुल को समायोजित करने के लिए खुद को मोहाली में नंबर 4 पर खेलने का मौका दिया, लेकिन उन्हें इस जीत के खेल में नंबर 3 पर वापस आना चाहिए और कार्यवाही पर नियंत्रण रखना चाहिए। श्रृंखला में पहले से ही 2 शतक लगाने वाले कोहली आगे से नेतृत्व करना चाहते हैं और बल्ले से और फिर टीम के कप्तान के रूप में काम करना चाहते हैं।

    केएल राहुल

    राहलु को अंबाती रायुडू की जगह टीम में जगह दी गई है, और वह मोहाली में भी अपने बल्लेबाजी में ज्यादा बुरे नही दिखे। वह भारत के लिए मैच में गलत समय पर आउट हो गए थे, लेकिन प्रबंधन विश्व कप से पहले एक और आखिरी मौका देना चाहेगा। और इस दाएं-हाथ के बल्लेबाज के पास विश्व कप में ओपनर या मिडल-ऑर्डर में बल्लेबाजी करने का आखिरी मौका है।

    ऋषभ पंत

    युवा विकेट कीपर को मोहाली में खेल के क्षणभंगुर स्वभाव का सामना करना पड़ा, शायद ऐसा उनके करियर में पहली बार हुआ है। वह बल्ले से शानदार दिख रहे थे और 24 गेंदों पर 36 रन के स्कोर के साथ एक बल्लेबाज के रूप में अपनी भूमिका निभाई थी, लेकिन स्टंप के पीछे उनकी गलतियों ने भारत को मैच हरवाया। विकेटकीपर ने स्टम्पिंग के तीन मौके गंवाए और कप्तान तब भी प्रभावित नहीं हुए जब पंत ने नो लुक बैक फ्लिक निकालकर रन आउट को प्रभावित करने की कोशिश की। जब युजवेंद्र चहल ने 44 वें ओवर में वाइड फेंकी, तो पंत आसानी से एश्टन टर्नर को स्टंप कर सकते थे, क्योंकि वह क्रीज से बाहर थे। लेकिन पंत समय रहते गेंद को इकट्ठा करने में नाकाम रहे। टर्नर, जो उस समय 38 पर थे, उसके बाद उन्होने 84 रन की नाबाद पारी खेली।

    केदार जाधव

    वह पिछले 15 महीनों में इस भारतीय पक्ष के लिए एक मूल्यवान खिलाड़ी रहे है, लेकिन मोहाली जाधव के लिए एक अपमान था। वह बल्ले से पर्याप्त योगदान नहीं दे सके और आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों ने उस पर आक्रमण किया। उन्हें गेंद के साथ प्लान बी का पता लगाने और दिल्ली में बल्ले के साथ अधिक जिम्मेदारी लेने की जरूरत है।

    विजय शंकर 

    तमिलनाडु ऑल-राउंडर केवल अपने द्वारा प्राप्त सीमित ओवर के खेलों में ताकत से आगे बढ़ रहा है और एक और खेल को साइड में अधिक स्थायी स्थान अर्जित कर सकता है। मोहाली में, उन्होंने 15 गेंदों में 26 रनों की पारी के साथ भारत के लिए सही अंत प्रदान किया। शंकर ने अपनी पारी के दौरान एक चौका और दो छक्के लगाए। ऑल-राउंडर ने एक किफायती स्पेल भी फेंका। शंकर ने पांच ओवर में बिना कोई विकेट लिए 29 रन दिए।

    रविंद्र जडेजा

    धीमी गति से, कोटला की पिच पर, रविंद्र जडेजा विजय शंकर की जगह ले सकते हैं। जबकि शंकर ने हाल के दिनों में अच्छा योगदान दिया है लेकिन एक एक अच्छे मूव के साथ टीम उनकी जगह रविंद्र जडेजा को टीम में चुनेगी। अगर टीम में जडेजा को जगह मिलती है तो उनके पास विश्वकप से अपना अच्छा खेल दिखाने का आखिरी मौका होगा। वह युजवेंद्र चहल की जगह भी टीम में रखे जा सकते है क्योंकि उन्होने मोहाली में बहुत रन खाए थे।

    भुवनेश्वर कुमार

    कप्तान विराट कोहली ने मोहाली में मैच खत्म होने के बाद कहा था की ओस नें मैच में अहम भूमिका निभाई और इस पर नियंत्रण पाना गेंदबाजो के लिए आसान नही था। लेकिन विश्वकप से पहले आखिरी वनडे मैच में भुवनेश्वर कुमार थोड़े ऊपर उठते हुए गेंदबाजी की जिम्मेदारी अपने कंधो पर लेंगे और एक सीनियर खिलाड़ी होने के नाते टीम के लिए अहम भूमिका निभाएंगे।ट

    कुलदीप यादव

    कुलदीप यादव ने मोहाली वनडे में ग्लैन मैक्सवेल का बड़ा विकेट चटकाया था लेकिन वह टीम के लिए बहुत महेंगे भी साबित हुए थे। चाइनमैन गेंदबाज ने अपने 10 ओवर में 64 रन खाए थे। जिसमें उनकी गेंदो में चौके और छक्के भी लगे थे। कुलदीप मिडल-ओवर्स में टीम के लिए के लिए अहम भूमिका निभा सकते है, खासकर की जब पिच दिल्ली जैसी हो।

    जसप्रीत बुमराह

    भारतीय तेज गेंदबाजी अतिक्रमण का नेतृत्व करने वाले और डेथ ओवर स्पेशलिस्ट के लिए ऐसा मुश्किल से कोई दिन ही होगा जब वह अपने ओवरो में रन खाते हो। लेकिन मोहाली में खेले गए वनडे मैच में तेज गेंदबाज बहुत महंगा साबित हुआ और उन्होने अपने 8.5 ओवर में 63 रन दिये। उनके ओवरो में 7 चौके और एक छक्का लगा। लेकिन दिल्ली के मैदान पर वह धमाल मचाने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

    By अंकुर पटवाल

    अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *