Tue. May 28th, 2024
    एमएस धोनी

    दिग्गज खिलाड़ियो का कोई प्रतिस्थापन नही होता। ऐसा ही हमें दिग्गज खिलाड़ी एमएस धोनी के सन्यांस लेने के बाद देखने को मिल सकता है। वह इस समय क्रिकेट के अपने आखिरी दौर से गुजर रहे है। कई क्रिकेट फैंस और विशेषज्ञो का यह भी मानना है कि यह विश्वकप एमएस धोनी का आखिरी विश्वकप होगा और वह इसके बाद क्रिकेट को अलविदा कह देंगे। लेकिन क्या भारतीय क्रिकेट टीम उनके बिना थिरकने को तैयार है?

    परंपरागत रूप से, भारत ने प्रत्येक और फिर महान बल्लेबाजों का उत्पादन किया है और प्रत्येक युग प्रतिष्ठित खिलाड़ियों के अपने सेट को खोजने में सफल रहा। लेकिन धोनी अबतक सबसे अनोखे रहे है। उनका करियर एक आदर्श उदाहरण है कि कैसे एक बल्लेबाज- तकनीक का सबसे अच्छा नहीं है, लेकिन सबसे प्रतिष्ठित क्रिकेटरों में से एक बनने के लिए जा सकता है जिसे खेल ने कभी देखा है। धोनी एक मास्टर रणनीतिकार भी हैं, जो सबसे अच्छे फिनिशरों में से एक हैं, और 37 साल की उम्र में भी, वह अभी भी सर्वश्रेष्ठ एथलीटों में से एक हैं। क्रिकेट के इतिहास को देखें और आपको केवल एक मुट्ठी भर पता चलेगा – जो ‘चैंपियन फिनिशर’ की श्रेणी में आते हैं और धोनी निश्चित रूप से उनमें से एक है। अगली पीढ़ी रोमांचक, होनहार लग रही है, लेकिन अब तक, उनमें से कोई भी धोनी के परिष्करण कौशल के करीब नहीं आया है।

    एकदिवसीय क्रिकेट में भारत की मजबूत टॉप ऑर्डर बल्लेबाज है। रोहित शर्मा, शिखर धवन और विराट कोहली ने भारत की बल्लबेजी लाइन-अप को मजबूत बनाकर रखा हुआ है जब यह तीनो खिलाड़ी प्रदर्शन करने में कामयाब नही होते तो पूरा दबाव मिडल-ऑर्डर के 4,5, 6 और 7 नबंर के खिलाड़ियो पर जाता है लेकिन टीम के यह खिलाड़ी कभी भी निरंतरता के साथ प्रदर्शन नही कर पाए है।

    रन चार्ट

    भारतीय बल्लेबाज जिन्होने 2018 में (3,4,5, 6 और 7) में उनका प्रदर्शन कुछ इस प्रकार रहा है-

    2018 में, धोनी को अपने क्रिकेट करियर का सबसे बेकार साल देखना पड़ा, जहां वह केवल 25 की औसत से 275 रन ही बना पाए थे। यह उनके एकदिवसीय करियर की दूसरे सबसे कम औसत थी। 2018 में धोनी का एक बेकार सत्र रहने के बाद धोनी के लिए प्रदर्शन पर चारो तरफ से आलोचनाए आने लगी। लेकिन उस दौरान 5,6 और 7 नबंर स्लाट पर खेल रहे बल्लेबाजो ने भी अच्छा प्रदर्शन नही किया था। इन स्लॉटों में, एमएसडी की तुलना में केवल तीन बल्लेबाजों का औसत बेहतर है, इनमें से दो दिनेश कार्तिक और केदार जाधव हैं, लेकिन स्पष्ट रूप से, वे संख्या के करीब नहीं हैं जब धोनी फॉर्म में हैं। केदार में प्रतिभा है, लेकिन वर्षों से, उन्हें पर्याप्त अवसर दिए गए हैं, लेकिन उन्होंने लगातार सामान वितरित नहीं किया है, जबकि कार्तिक ने सीमित अवसरों में कोई बड़ी पारी नहीं खेली है जो उन्हें मिला है।

    रन चार्ट 2019

    भारतीय बल्लेबाज जिन्होने 2019 में (3,4, 5, 6, 7) स्थान पर बल्लेबाजी की है-

    सभी महान खिलाड़ियो की तरह, धोनी ने भी 2019 की शुरुआत शानदार तरीके से की। अभी तक खेली आठ पारियो में उन्होने 81.75 की औसत से 327 रन बनाए है। केदार जाधव का 48.33 का औसत दूसरे नंबर सबसे अच्छा है, लेकिन उनके अलावा कोई और खिलाड़ी टीम के लिए फिनिशर की भूमिका नही निभा पाया है।

    2018 और 2019 में, भले ही इन खिलाड़ियों ने इन दो वर्षों में धोनी द्वारा खेले गए मैचों में लगभग आधे मैच खेले, फिर भी, स्पॉट्स को सील करने के लिए अवसर पर्याप्त थे।

    हार्दिक पांड्या, ऋषभ पंत का उत्सुक मामला

    धोनी के सन्यांस के बाद ही ज्यादातर क्रिकेट खिलाड़ी इन दोनों रोमांचक क्रिकेटरों को टीम में वापसी का समर्थन करते है। अगर पांड्या अपनी शानदार ऑलराउंड क्षमताओं का प्रदर्शन करते रहे हैं, तो ऋषभ पंत ने घरेलू क्रिकेट में काफी रन बनाए हैं और टेस्ट क्रिकेट में अपनी पहचान बनाई है। कोई भी इस बात नही नकारा है कि ये दोनों व्यक्ति भारतीय क्रिकेट के भविष्य के सितारे होंगे, लेकिन उम्मीद है कि इनमें से कोई भी एकदिवसीय प्रारूप में धोनी के स्थान को जल्द ही भरेगा।

    क्यो धोनी को विश्वकप के बाद खेलना जारी रखना चाहिए?

    सवाल यह होना चाहिए कि विश्व कप के बाद धोनी को सन्यांस क्यो लेना है, एक बार जब कोई खिलाड़ी 30 पार कर जाता है, तो फिटनेस मुख्य कारणों में से एक है, जहां उसके प्रदर्शन की जांच की जाती है। लेकिन एमएसडी के मामले में, फिटनेस उनकी ताकत है। उनके स्प्रिंट अभी भी प्रभावी हैं और बराबर में सजगता हैं। इसके अलावा, उनका क्रिकेटिंग दिमाग, जिसने अक्सर कप्तान कोहली को तनावपूर्ण परिस्थितियों से निपटने में मदद की है। धोनी के मैच फिनिशिंग कौशल ने पिछले कुछ वर्षों में एक हिट लिया है, लेकिन वह अभी भी सुनिश्चित करता है कि भारत लाइन पर जाए।

    सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि धोनी अपने खेल के बारे में जानते है। वह अभी तक टीम में किसी का स्थान खा नही रहे है। विश्वकप से पहले उनके लिए यह बाते चल रही है कि वह इसके बाद सन्यांस ले लेंगे। लेकिन सवाल यह पूछे जाने चाहिए कि उन्हें सन्यांस क्यों लेना चाहिए?

    By अंकुर पटवाल

    अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *