भारत में अल्पसंख्यकों की दशा के बयान पर पाक पीएम इमरान खान को फटकार

Must Read

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के...

औरंगाबाद में रेल के नीचे आने से 16 मजदूरों की मौत, 45 किमी की दूरी तय करने के बाद हुई घटना

महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) शहर में शुक्रवार सुबह कम से कम 16 प्रवासी श्रमिक ट्रेन के नीचे कुचले...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान पर भारतीय विभाग ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। भारत ने शनिवार को कहा कि पाक पीएम की टिप्पणी ने सभी भारतीयों का अपमान किया है। इमरान खान ने एक बार फिर भारत के लिए गलत भावना व्यक्त की थी। भारतीय विदेश मंत्रालय के कहा कि यहां कई दिग्गज विभिन्न धर्म के नेता है, जो कई उच्च और संवैधानिक पद पर नियुक्त थे।

उन्होंने कहा कि इसके उलट, पाक मे उच्च पदों पर इस्लामिक धर्म  मानने वाले  आलावा किसी और को नियुक्त नहीं करते हैं। पाकिस्तान के ‘नया पाकिस्तान’ में भी अल्पसंख्यकों का जिक्र नहीं था। पाक के पीएम इमरान खान की आर्थिक सलाहकार परिषद् में भी कोई अल्पसंख्यक मौजूद नहीं है।

भारत सरकार ने कहा कि यदि पाकिस्तान घरेलू चुनौतियों और हालातों को सुधारने में अपना ध्यान देगा तो वह बेहतर करेगा, ध्यान भटकाने की फिजूल कोशिश न करे। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि “पाकिस्तान के प्रधानमंत्री भारतीय जनता की भावनाओं के साथ खेलने का प्रयास कर रहे हैं और भारतीय जनता इसे नकार देगी।”

भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि हम सुनिश्चित करेंगे कि पाकिस्तान में भी अल्पसंख्यकों को बराबरी का अधिकार मिले।न कि इस आधार पर कि भारत में मुस्लिमों के साथ किस तरह का व्यवहार किया जा रहा है।

इमरान खान ने अपनी सरकार के 100 दिनों के कामकाज का विवरण देने के लिए लाहौर में स्थित एक समारोह में शरीक हुए थे। इमरान खान ने कहा कि मोहम्मद अली जिन्ना हिन्दू-मुस्लिम एकजुटता के कट्टर समर्थक थे और साथ रहने में विश्वास करते थे। उन्होंने कहा कि जिन्ना किसी कारण कांग्रेस से अलग गए थे और उन्हें महसूस हो रहा था कि कांग्रेस आज़ादी की मांग तो कर रही है लेकिन मुस्लमानो को समानता का हक देने को तत्पर नहीं है।

उन्होंने बताया कि उनकी सरकार पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों को सामान दर्जा दिलवाने के लिए कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि यह मोहम्मद अली जिन्ना का नजरिया था। इमरान खान ने कहा कि उनकी सरकार सुनिश्चित करेगी कि धार्मिक अल्पसंख्यक लोग पाकिस्तान में सुरक्षित और संरक्षित रहे और नए पाकिस्तान में सभी को बराबरी का दर्जा मिले।

उन्होंने नसीरुद्दीन शाह के बयान पर कहा कि हम मोदी सरकार को अल्पसंख्यको के साथ बराबरी का सुलूक करना सिखायेंगे, क्योंकि भारत के नागरिक कह रहे हैं कि उनके यहाँ अल्पसंख्यकों के साथ समान व्यवहार नहीं किया जा रहा है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच टकराव की...

औरंगाबाद में रेल के नीचे आने से 16 मजदूरों की मौत, 45 किमी की दूरी तय करने के बाद हुई घटना

महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) शहर में शुक्रवार सुबह कम से कम 16 प्रवासी श्रमिक ट्रेन के नीचे कुचले गए, जब वे मध्य प्रदेश...

भारत में कोरोनावायरस के आंकड़े 50,000 के पार, महाराष्ट्र में सबसे भयानक स्थिति

भारत (India) में कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित लोगों की संख्या में पिछले दो दिनों में 14 फीसदी की वृद्धि देखि गयी है। यह आंकड़ा...

कोरोनावायरस अपडेट: देश में 24 घंटों में सबसे तेजी से वृद्धि, कुल आंकड़ा 46,000 के पार

भारत में कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामलों में पिछले 24 घंटों में सबसे तेजी वृद्धि देखने को मिली है। पिछले 1 दिन में कुल आंकड़ों...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -