शुक्रवार, जनवरी 17, 2020

भारतीय जवानों को हनीट्रैप में फंसाने का प्रयास कर रही आईएसआई : रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक

Must Read

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिए निर्देश, संविधान को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर 3 महीने में ले फैसला

देश के प्रत्येक तहसील में एक केंद्रीय विद्यालय खोलने और प्राइमरी स्कूल के पाठ्यक्रम में भारतीय संविधान को शामिल...

पाकिस्तान : कट्टरपंथी संगठन के 86 सदस्यों को आतंकवादी रोधी अदालत ने सुनाई 55-55 साल कैद की सजा

पाकिस्तान के रावलपिंडी में एक आतंकवाद रोधी अदालत ने कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के 86 सदस्यों व समर्थकों...

राजकोट वनडे : भारतीय बल्लेबाजों की दमदार वापसी, आस्ट्रेलिया को दिया 341 रनों का लक्ष्य

मुंबई में मिली बुरी हार से आहत भारतीय बल्लेबाजों ने शुक्रवार को यहां सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले...

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) ने भारतीय सशस्त्र बलों के अधिकारियों को फंसाने के लिए हनीट्रैप को एक उपकरण के तौर पर प्रयोग करने का प्रयास किया है। यह जानकारी रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक ने सोमवार को दी।

राज्यसभा में एक प्रश्न पूछा गया कि क्या पाकिस्तान की आईएसआई भारतीय अधिकारियों को फंसाने के लिए एक उपकरण के रूप में हनीट्रैप का उपयोग करती है? इसका उत्तर देते हुए मंत्री ने कहा, “एजेंसी द्वारा भारतीय सशस्त्र बलों के अधिकारियों को हनीट्रैप करने के प्रयास किए जा रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि सेवा कर्मियों और उनके परिवारों को नियमित तौर पर विदेशी खुफिया एजेंसियों द्वारा हनीट्रैप के इस्तेमाल पर मॉडस ऑपरेंडी के तौर पर जागरूक किया जाता है।

मंत्री ने कहा, “अनुपालन के लिए सभी संबंधितों को सलाह जारी की गई है और जीरो टॉलरेंस नीति के तहत डिफॉल्टरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश जारी किए गए हैं।”

उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण संस्थानों में भी नए प्रवेशकों पर विशेष ध्यान दिया जाता है।

मंत्री ने कहा, “इस तरह के केस पकड़ने के लिए अन्य एजेंसियों के साथ नियमित खुफिया संपर्क बनाए रखा जाता है। इसके अलावा दस्तावेजों और सूचनाओं की सुरक्षा के लिए सुरक्षा उपाय किए जाते हैं। इसके साथ ही उभरते खतरों से निपटने के लिए नियमित रूप से अपडेट किया जाता है।”

पिछले महीने हनीट्रैप की कुछ घटनाओं के सामने आने के बाद भारतीय सेना ने एक एडवाइजरी जारी की थी। इसमें कर्मियों को सतर्क रहने और विदेशी नेताओं या विदेशी मूल की महिलाओं के अलावा अजनबियों के साथ मित्रतापूर्ण व्यवहार करने से बचने के लिए कहा गया है।

सेना ने भारतीय सेना के जवानों को फंसाने के लिए पाकिस्तान द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली लगभग 150 प्रोफाइलों की भी पहचान की है।

एडवाइजरी में कहा गया है कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियां भारतीय सुरक्षाकर्मियों खासकर भारतीय सेना के जवानों को निशाना बना रही हैं, जो संवेदनशील इलाकों में तैनात हैं।

सेना ने सभी से कहा है कि वे सोशल मीडिया पर संवेदनशील जानकारी साझा न करें और हनीट्रैप प्रयासों के प्रति सतर्क रहें।

एक वरिष्ठ भारतीय सैन्य अधिकारी ने कहा, “सोशल मीडिया के माध्यम से पाकिस्तान स्थित गुर्गो ने सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के फोन नंबर और तैनाती के पैटर्न को इकट्ठा किया है।”

पाकिस्तान के सोशल मीडिया ऑपरेटर्स भारतीय मूल के व्यक्ति के रूप में अपनी आईडी बनाते हैं और नकली नाम व पहचान के साथ संपर्क स्थापित करने की कोशिश करते हैं।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को दिए निर्देश, संविधान को पाठ्यक्रम में शामिल करने पर 3 महीने में ले फैसला

देश के प्रत्येक तहसील में एक केंद्रीय विद्यालय खोलने और प्राइमरी स्कूल के पाठ्यक्रम में भारतीय संविधान को शामिल...

पाकिस्तान : कट्टरपंथी संगठन के 86 सदस्यों को आतंकवादी रोधी अदालत ने सुनाई 55-55 साल कैद की सजा

पाकिस्तान के रावलपिंडी में एक आतंकवाद रोधी अदालत ने कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के 86 सदस्यों व समर्थकों को कुल मिलाकर 4738 साल...

राजकोट वनडे : भारतीय बल्लेबाजों की दमदार वापसी, आस्ट्रेलिया को दिया 341 रनों का लक्ष्य

मुंबई में मिली बुरी हार से आहत भारतीय बल्लेबाजों ने शुक्रवार को यहां सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले जा रहे दूसरे वनडे मैच...

छत्तीसगढ़ : बस्तर में कुपोषण के खिलाफ ‘गुड़’ को हथियार बनाएगी भूपेश सरकार

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कुपोषण को नक्सलवाद से बड़ी चुनौती मानते हैं और यही कारण है कि इसके खात्मे के लिए कई अभियान...

सुप्रीम कोेर्ट ने महात्मा गांधी को भारत रत्न दिए जाने की याचिका खारिज की

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को महात्मा गांधी को भारतरत्न से सम्मानित करने की मांग वाली जनहित याचिका पर केंद्र को कोई भी निर्देश जारी...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -