Thu. Dec 8th, 2022
    भाजपा ने पीएम नरेंद्र मोदी

    गुरूवार को भारत कोरिया सिम्पोजियम को संबोधित करते हुए नरेन्द्र मोदी ने कहा की भारत का बुनियादी ढांचा मजबूत है और इसकी वृद्धि दर की बदौलत भारत जल्द ही $5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बन जाएगा। उन्होंने यह भी बताया की हालिया वर्षों में भारत विश्व की सबसे तेजी से विकास करने वाली अर्थव्यवस्था के रूप में उभरा है।

    भारत में हुआ $250 बिलियन का विदेशी निवेश :

    अपने कथन का समर्थन करते हुए नरेन्द्र ने कई तथ्य और आंकड़े पेश किये। इसमें उन्होंने बताया की पिछले चार साल में भारत में कुल 250 अरब अमेरिकी डॉलर का निवेश हुआ है जोकि अपने आप में एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। इसका श्रेय नरेन्द्र मोदी ने शुरू की गयी योजना मेक इन इंडिया को दिया। बतादें की मेक इन इंडिया के तहत विदेशी निवेशकों या निर्माताओं को भारत में उत्पादों के निर्माण के लिए प्रेरित किया जाता है।

    2019 में भारत की विकास दर होगी सबसे ज्यादा :

    अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) द्वारा प्रकाशित जनवरी विश्व अर्थव्यवस्था आउटलुक में यह अनुमान लगाया गया है की भारत में 2019 में 7.5 प्रतिशत और 2020 में 7.7 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान है, जो चीन के अनुमानित विकास दर 6.2 प्रतिशत से एक पॉइंट अधिक है।

    आईएमएफ के अनुसार ‘2019 में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर बढ़ने की पूरी संभावना है। ऐसा अनुमान कीमतों में कमी एवं मौद्रिक कसाव के चलते लगाया जा रहा है। इन कारकों से भारतीय अर्थव्यवस्था को फायदा होने वाला है।’

    अमेरिका को पछाड़ेगा भारत :

    प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन के दौरान बताया की भारत सबसे तेज़ बढती अर्थव्यवस्था है और कुछ समय पहले 6ठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन चूका है। अगर वृद्धि दर इसी स्तर से बढती है तो चंद वर्षीं में यह दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन्ने में सक्षम है। स्टैण्डर्ड चार्टर्ड की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था सयुंक्त राज्य अमेरिका को पछाड़ कर बनेगा।

    अनिश्चित वैश्विक आर्थिक माहौल में, भारत ने विश्व अर्थव्यवस्था में जबरदस्त लचीलापन दिखाया है और बताया है की विश्व की सभी अर्थव्यवस्थाओं का यह नेतृत्व करने में सक्षम है।

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *