भाजपा संसदीय दल की बैठक में लगी सांसदों की क्लास : मोदी बोले अनुपस्थिति बर्दाश्त नहीं

भाजपा
क्या इंदिरा राज के कांग्रेस की राह पर है नरेंद्र मोदी की भाजपा

देश की संसद में मानसून सत्र का कार्यकाल चल रहा है। अभी तक का सत्र काफी हंगामे भरा रहा है और विपक्ष की वजह से कार्यवाही में व्यवधान भी पड़ा है। मायावती के इस्तीफे का मामला भी छाया रहा है। इसके अतिरिक्त विपक्ष ने मॉब लिंचिंग, कश्मीर और सीमा विवाद पर भी सरकार को घेरने की कोशिश की है। इन सबसे निपटने और आगे की रूपरेखा तैयार करने के लिए भाजपा के संसदीय दल की बैठक हुई।

मंगलवार को संसद का सत्र शुरू होने से पहले भाजपा के संसदीय दल की बैठक हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इसमें शामिल हुए। उम्मीद है कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज आज संसद में इराक में लापता हुए 39 भारतीयों के मुद्दे पर अपना जवाब दे सकती हैं। गौरतलब है कि सोमवार को कांग्रेस के 6 सांसदों को स्पीकर पर कागज उछालने के आरोप में सुमित्रा महाजन ने लोकसभा से बर्खास्त कर दिया था। आज इस मुद्दे पर भी हंगामा हो सकता है।

अनुपस्थित ना रहे सांसद – मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा सांसदों को फटकार लगाते हुए कहा कि संसद में उनकी अनुपस्थिति बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सरकार को कई जरूरी बिल पास कराने है और सांसदों की अनुपस्थिति की वजह से वो हर बार बीच में ही अटक जा रहे हैं। उन्होंने सांसदों को निर्देश दिया कि वह संसद की कार्यवाही में अपनी उपस्थिति दर्ज कराएं और सदन में सरकार को मजबूती प्रदान करें।

संसदीय दल की बैठक के बाद तुरन्त भाजपा नेता अनंत कुमार ने कहा कि सरकार आजादी के 70 सालों को मनाने के लिए 9 अगस्त से 15 अगस्त तक विशेष कार्यक्रम आयोजित करेगी। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी के भाषण का जिक्र करते हुए कहा कि देश ने 1857 में पहली बार आजादी पाई थी। इस आजादी को 1942 में एक मुकाम हासिल हुआ था। वर्ष 1947 से वर्ष 2017 के बीच देश ने एक नयी ऊँचाई हासिल की और 2022 तक भारत विश्वपटल पर महाशक्ति बनकर उभरेगा।