Wed. Oct 5th, 2022

    समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रवासी कर्मचारियों  की घर वापसी के लिए कोई उचित व्यवस्था नहीं की है, जो कोविड-19 के बढ़ते मामले  और  दिल्ली में लगे लॉकडाउन की वजह से बड़े पैमाने पर वापसी कर रहे हैं । अखिलेश यादव के जारी किए गए एक बयान में वह कहते नजर आ रहे हैं की, “भाजपा सरकार की नीतियों में खामियों के चलते और प्रवासी श्रमिकों के प्रति इरादों के कारण स्थिति बिगड़ रही है। अखिलेश यादव ने यह भी आरोप लगाया की उत्तर प्रदेश सरकार दिल्ली और अन्य महानगरों से आने वाले पीड़ित परिवारों और श्रमिकों को उनके घरों में वापस लाने के लिए उचित व्यवस्था करने में असमर्थ है।

    “भाजपा सरकार ने दावा किया था कि पिछले साल उत्तर प्रदेश में आने वाले सभी लोगों को रोजगार मिलेगा,”- अखिलेश यादव 

    भाजपा पर लगाया धोखाधड़ी का आरोप

    समाजवादी पार्टी के प्रमुख ने 2020 में  राष्ट्रीय पर लगे लॉकडाउन के दौरान मुख्य रूप से यूपी और बिहार में प्रवासी श्रमिकों के बड़े पैमाने पर पलायन का जिक्र किया। सरकार ने प्रवासी कामगारों के लिए 1.5 करोड़ नौकरियां पैदा करने का वादा किया था, लेकिन झूठ अब सामने आ गया है, उन्होंने दावा करते हुए कहा कि भाजपा ने अपने लोगों को धोखा देकर बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी की है।

    उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि हजारों मजदूर दिल्ली के आनंद विहार बस स्टेशन, नोएडा और देश के अन्य राज्यों से यूपी आते रहते हैं, जबकि बड़ी संख्या में ट्रेन से भी आते हैं। उन्होंने कहा कि पिछले साल के विपरीत, रास्ते में श्रमिकों को भोजन उपलब्ध कराने के लिए स्वैच्छिक संगठन बड़ी संख्या में आगे नहीं आए हैं और सरकार भी बेकार बैठी है।

    सच्चाई यह है कि भाजपा सरकार केवल चुनावों के बारे में परवाह करती है और मानव जीवन को बचाना नहीं चाहती है। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य के पिछले साल देखी गई राष्ट्रीय पर लगे लॉकडाउन की स्थिति से उत्तर प्रदेश सरकार ने कोई सबक नहीं सीखा है। उन्होंने कहा कि लोगों और प्रवासी मजदूरों के लिए तत्काल उपाय किए जाने चाहिए।

    By दीक्षा शर्मा

    गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली से LLB छात्र

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.