Fri. Sep 30th, 2022
    बढ़ती गर्मी और कम बारिश से झूझ रहे इंग्लैंड के कई इलाकें सूखे की चपेट में

    अधिकारियों ने शुक्रवार को इंग्लैंड के बड़े हिस्से को आधिकारिक तौर पर सूखे की स्थिति में घोषित कर दिया और स्थानीय लोगों और व्यवसायों से, 50 वर्षों में सबसे भीषण गर्मी के दौरान, पानी बचाने के लिए आग्रह किया।

    National Drought Group की बैठक के बाद, जिसमें जल प्राधिकरणों, मंत्रालयों और निगमों के प्रतिनिधि शामिल थे, पर्यावरण एजेंसी ने घोषणा की कि इंग्लैंड के दक्षिणी, दक्षिण-पश्चिमी और दक्षिण-पूर्वी हिस्सों के साथ-साथ मध्य और पूर्वी क्षेत्रों में सूखे का सामना करना पड़ रहा है। राजधानी लंदन भी कुछ इलाकों में प्रभावित है।

    पांच महीने लगातार ब्रिटेन को औसत से कम बारिश और २ लगातार गर्मी की लहरों का सामना करना पड़ा । 2021 की शुरुआत के बाद से, केवल दो महीने ही बारिश हुई जो कम से कम औसत के बराबर थी।

    National Drought Group के अध्यक्ष हार्वे ब्रैडशॉ ने कहा, “वर्तमान उच्च तापमान का हम अनुभव कर रहे हैं, जिससे वन्यजीवों और हमारे जल पर्यावरण पर दबाव बढ़ गया है।”

    देश के जल मंत्री स्टीव डबल ने कहा, “देश के कुछ हिस्सों के लिए रिकॉर्ड पर सबसे शुष्क जुलाई के बाद हम वर्तमान में दूसरी गर्मी का अनुभव कर रहे हैं। प्रभावों के प्रबंधन के लिए सरकार और पर्यावरण एजेंसी समेत अन्य भागीदारों द्वारा कार्रवाई की जा रही है।” “सभी जल कंपनियों ने हमें आश्वस्त किया है कि आवश्यक आपूर्ति अभी भी सुरक्षित है, और हमने यह स्पष्ट कर दिया है कि उन आपूर्ति को बनाए रखना उनका कर्तव्य है।”

    हालांकि, सूखा पड़ना केवल इंग्लैंड की ही परेशानी नहीं है। पूरा यूरोपीय संघ इससे पीड़ित है। जुलाई के अंत के आंकड़ों से पता चलता है कि यूरोपीय संघ के 47% देश सूखे की स्थिति के करीब आ रहे है और 17% सतर्क स्तर पर हैं। फ्रांस के जंगल में लगी आग किसी मानव हस्तक्षेप से नहीं परन्तु तीसरी गर्मी की लहर ( third heat wave) के कारण थी। जर्मन राज्य के भविष्यवक्ता डीडब्ल्यूडी ने भी चेतावनी दी है कि कुछ क्षेत्रों में जंगल की आग का बहुत अधिक खतरा है।

    इस सूखे का कारण बनने वाली गर्मी और बारिश की कमी के अलावा, इंग्लैंड और वेल्स अपने बिगड़ते बुनियादी ढांचे में रिसाव के कारण प्रतिदिन लगभग 3.1 बिलियन लीटर पानी खोते जा रहें हैं। विशेषज्ञों और उपभोक्ता वकालत करने वाले संगठनों ने पानी के आपूर्तिकर्ताओं से रिसाव को रोकने के लिए और अधिक प्रयास करने का आग्रह किया है।

    पर्यावरण एजेंसी के अनुसार, जल प्रदाताओं को “रिसाव को कम करना, टपकते हुए पाइपों को यथासंभव शीघ्र ठीक करना, और सरकारी नीतियों के साथ व्यापक कार्रवाई करना” होना।

    इंग्लैंड में कई नदियाँ, विशेष रूप से टेम्स, जो लंदन से होकर बहती हैं, आंशिक रूप से सूख रही हैं। जहां स्तर कम हैं, अधिकारी जलमार्गों को फिर से ऑक्सीजन दे रहे हैं और मछलियों को बचा रहे हैं। जलाशय का जलस्तर भी तेजी से गिर रहा है।

    सूखे की घोषणा पहले 2018 में की गई थी और अधिक गंभीर रूप से 2011 में।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.