शनिवार, अप्रैल 4, 2020

ब्रितानी व्यवसायिक जहाज को ईरान द्वारा उत्पीड़ित करने की अमेरिका ने की आलोचना

Must Read

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए।...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

ब्रिटेन के व्यावसायिक जहाज को होरमुज़ जलमार्ग पर परेशान करने की कोशिश की अमेरिका ने गुरूवार को आलोचना की है। हाल ही में ब्रिटेन ने ईरान के तेल टैंकर को सीरिया की तरफ जाने के दौरान जब्त कर लिया था क्योंकि उन्हें इसमें तेल होने की आशंका थी।

अमेरिका के राज्य सचिव माइक पोम्पियो ने ट्वीट किया कि “आईआईजीसी नौसेना द्वारा ब्रिटेन के जहाज को होरमुज़ के बंदरगाह पर शोषित करना की अमेरिका आलोचना करता है। हम राजशाही नौसेना के नौचालन की आज़ादी को सुनिश्चित करने की सराहना करते हैं और हम अपने सहयोगियों के साथ कार्य करना जारी रखेंगे ताकि सुनिश्चित कर सके कि ईरानी शासन समुंद्री सुरक्षा और वैश्विक वाणिज्य में बाधा न पंहुचा सके।”

हाल ही में ईरान की तीन नावो ने ब्रिटेन के व्यवसायिक जहाज को नियंत्रण में लेने की नाकाम कोशिश की थी। नावो ने ब्रितानी हेरिटेज के मांर्ग को बाधित किया था। वांशिगटन ने कहा कि “ब्रितानी टैंकर ने होरमुज़ क्षेत्र के जलमार्ग से  गुजर रहा था , जब तीन ईरानी जहाजो ने उसे घेर लिया था। इस दिन के आखिर में ब्रिटेन ने इसकी पुष्टि की थी।

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने बुधवार को ब्रिटेन को धमकी दी कि उन्हें ईरानी तेल टैंकर को जब्त करने के गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।

अमेरिका और ईरान के बीच सम्बन्ध काफी वक्त से तनावग्रस्त हैं क्योंकि अमेरिका ने साल 2015 में हुई परमाणु संधि से खुद को हटा लिया था। इसके बाद तेहरान पर सभी प्रतिबंधों को वापस थोप दिया था। उन्होंने आरोप लगाया कि ईरान आतंकवाद और संघर्षों का समर्थन करता है।

ईरानी नावो ने इसके बाद ब्रितानी टैंकर को जब्त करने की कोशिश की तो अमेरिका की रॉयल नौसेना टुकड़ी,जो ब्रितानी जहाज के पीछे थी, ने ईरानी सैनिको पर बंदूके तान ली थी। उन्होंने ईरानी नावो को जहाज से वापस जाने का आदेश दिया। एक अमेरिकी एयरक्राफ्ट ने इस सारे दृश्य को रिकॉर्ड कर लिया था।

इस संधि पर पांच देशों ने हस्ताक्षर किये थे, इसमें रूस, अमेरिका, ब्रिटेन, चीन और जर्मनी थे और यूरोपीय संघ था। इसका मकसद ईरान के नागरिक  उर्जा कार्यक्रम पर अंकुश लगाना था और भविष्य में तेहरान को परमाणु हथियारों को विकसित करने से रोकना था।

आईएईए के जांचकर्ताओं ने 1 जुलाई को निरीक्षित किया कि “ईरान का संवर्धन यूरेनियम 202.8 किलोग्राम से अधिक गया है। अभी यह 20 फीसदी से काफी कम है और यूरेनियम हथियारों के निर्माण के लिए 90 प्रतिशत की जरुरत होती है।”

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

एक विलेन 2: दिशा पटानी के बाद, तारा सुतारिया फिल्म से जुड़ी, जॉन अब्राहम और आदित्य रॉय कपूर भी होंगे फिल्म का हिस्सा

यह पहले बताया गया था कि जॉन अब्राहम 2014 की फिल्म, एक विलेन की अगली कड़ी बनाने के लिए बातचीत कर रहे थे। जनवरी...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए। 2 दिन में 16.03 करोड़...

महाराष्ट्र सरकार को कोई खतरा नहीं – कांग्रेस

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बुधवार शाम को अपने सभी विधायकों की बैठक बुलाई है। राकांपा नेताओं ने कहा कि 26 मार्च को होने...

पीएम मोदी, राहुल गांधी ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके 78 वें जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं। पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा,...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -