सोमवार, जनवरी 20, 2020

ब्रितानी व्यवसायिक जहाज को ईरान द्वारा उत्पीड़ित करने की अमेरिका ने की आलोचना

Must Read

इंटरनेट पर सर्वाधिक सर्च किए गए क्रिकेटर विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी

कप्तान विराट कोहली दिसंबर-2015 से लेकर दिसंबर-2019 तक इंटरनेट पर सबसे ज्यादा सर्च किए गए क्रिकेटर रहे हैं। उनके...

मुजफ्फरपुर आश्रय गृह : ब्रजेश ठाकुर का था राजनीति में दखल, तत्कालीन समाज कल्याण मंत्री को देना पड़ा था इस्तीफा

बिहार के बहुचर्चित मुजफ्फरपुर आश्रय गृह मामले में दिल्ली की एक अदालत ने सोमवार को अहम फैसला सुनाते हुए...

रणजी ट्रॉफी : उपेंद्र यादव के ‘दोहरे’ शतक से उत्तर प्रदेश का विशाल स्कोर

उपेंद्र यादव (नाबाद 203) के बेहतरीन दोहरे शतक के दम पर उत्तर प्रदेश ने यहां वानखेड़े स्टेडियम में खेले...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

ब्रिटेन के व्यावसायिक जहाज को होरमुज़ जलमार्ग पर परेशान करने की कोशिश की अमेरिका ने गुरूवार को आलोचना की है। हाल ही में ब्रिटेन ने ईरान के तेल टैंकर को सीरिया की तरफ जाने के दौरान जब्त कर लिया था क्योंकि उन्हें इसमें तेल होने की आशंका थी।

अमेरिका के राज्य सचिव माइक पोम्पियो ने ट्वीट किया कि “आईआईजीसी नौसेना द्वारा ब्रिटेन के जहाज को होरमुज़ के बंदरगाह पर शोषित करना की अमेरिका आलोचना करता है। हम राजशाही नौसेना के नौचालन की आज़ादी को सुनिश्चित करने की सराहना करते हैं और हम अपने सहयोगियों के साथ कार्य करना जारी रखेंगे ताकि सुनिश्चित कर सके कि ईरानी शासन समुंद्री सुरक्षा और वैश्विक वाणिज्य में बाधा न पंहुचा सके।”

हाल ही में ईरान की तीन नावो ने ब्रिटेन के व्यवसायिक जहाज को नियंत्रण में लेने की नाकाम कोशिश की थी। नावो ने ब्रितानी हेरिटेज के मांर्ग को बाधित किया था। वांशिगटन ने कहा कि “ब्रितानी टैंकर ने होरमुज़ क्षेत्र के जलमार्ग से  गुजर रहा था , जब तीन ईरानी जहाजो ने उसे घेर लिया था। इस दिन के आखिर में ब्रिटेन ने इसकी पुष्टि की थी।

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने बुधवार को ब्रिटेन को धमकी दी कि उन्हें ईरानी तेल टैंकर को जब्त करने के गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।

अमेरिका और ईरान के बीच सम्बन्ध काफी वक्त से तनावग्रस्त हैं क्योंकि अमेरिका ने साल 2015 में हुई परमाणु संधि से खुद को हटा लिया था। इसके बाद तेहरान पर सभी प्रतिबंधों को वापस थोप दिया था। उन्होंने आरोप लगाया कि ईरान आतंकवाद और संघर्षों का समर्थन करता है।

ईरानी नावो ने इसके बाद ब्रितानी टैंकर को जब्त करने की कोशिश की तो अमेरिका की रॉयल नौसेना टुकड़ी,जो ब्रितानी जहाज के पीछे थी, ने ईरानी सैनिको पर बंदूके तान ली थी। उन्होंने ईरानी नावो को जहाज से वापस जाने का आदेश दिया। एक अमेरिकी एयरक्राफ्ट ने इस सारे दृश्य को रिकॉर्ड कर लिया था।

इस संधि पर पांच देशों ने हस्ताक्षर किये थे, इसमें रूस, अमेरिका, ब्रिटेन, चीन और जर्मनी थे और यूरोपीय संघ था। इसका मकसद ईरान के नागरिक  उर्जा कार्यक्रम पर अंकुश लगाना था और भविष्य में तेहरान को परमाणु हथियारों को विकसित करने से रोकना था।

आईएईए के जांचकर्ताओं ने 1 जुलाई को निरीक्षित किया कि “ईरान का संवर्धन यूरेनियम 202.8 किलोग्राम से अधिक गया है। अभी यह 20 फीसदी से काफी कम है और यूरेनियम हथियारों के निर्माण के लिए 90 प्रतिशत की जरुरत होती है।”

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

इंटरनेट पर सर्वाधिक सर्च किए गए क्रिकेटर विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी

कप्तान विराट कोहली दिसंबर-2015 से लेकर दिसंबर-2019 तक इंटरनेट पर सबसे ज्यादा सर्च किए गए क्रिकेटर रहे हैं। उनके...

मुजफ्फरपुर आश्रय गृह : ब्रजेश ठाकुर का था राजनीति में दखल, तत्कालीन समाज कल्याण मंत्री को देना पड़ा था इस्तीफा

बिहार के बहुचर्चित मुजफ्फरपुर आश्रय गृह मामले में दिल्ली की एक अदालत ने सोमवार को अहम फैसला सुनाते हुए एक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ)...

रणजी ट्रॉफी : उपेंद्र यादव के ‘दोहरे’ शतक से उत्तर प्रदेश का विशाल स्कोर

उपेंद्र यादव (नाबाद 203) के बेहतरीन दोहरे शतक के दम पर उत्तर प्रदेश ने यहां वानखेड़े स्टेडियम में खेले जा रहे रणजी ट्रॉफी के...

पाकिस्तान : नवाज शरीफ का नाम ईसीएल से हटाने की याचिका पर लाहौर हाईकोर्ट में सुनवाई टली

लाहौर हाईकोर्ट (एलएचसी) ने सोमवार को पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का नाम एक्जिट कंट्रोल लिस्ट (ईसीएल) से हटाने की मांग करने वाली...

भारत दौरे के बाद पाकिस्तान पहुंची अमेरिकी राजनयिक एलिस वेल्स

दक्षिण एशियाई मामलों के लिए अमेरिका की मुख्य राजनयिक एलिस वेल्स भारत और श्रीलंका का अपना दौरा पूरा करने के बाद रविवार को चार...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -