Thu. Dec 1st, 2022

    ब्रिटेन में उपचुनाव से पहले प्रचार के दौरान भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर के इस्तेमाल को लेकर हंगामा खड़ा हो गया है। ब्रिटेन की लेबर पार्टी ने अपने चुनाव प्रचार के दौरान इस तस्वीर का इस्तेमाल किया है जिसके बाद प्रवासी भारतीय समूहों ने इसकी निंदा की है। उत्तरी इंग्लैंड में उपचुनाव के लिए एक पार्टी की प्रचार समाग्री पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर का इस्तेमाल किए जाने के बाद प्रवासी भारतीय समूहों ने ब्रिटेन की विपक्षी लेबर पार्टी को ‘विभाजनकारी’ और ‘भारत विरोधी’ करार दिया है।

    लेबर पार्टी पर भड़के भारतीय मूल के लोग

    इस प्रचार सामग्री के वायरल होते ही प्रवासी भारतीय समूहों ने ब्रिटेन की विपक्षी लेबर पार्टी को विभाजनकारी और भारत विरोधी करार दिया। वेस्ट यॉर्कशायर में बाटली और स्पेन में गुरुवार को होने वाले उप-चुनाव के प्रचार के दौरान प्रचार सामग्री (लीफलेट) पर मोदी की 2019 में जी- 7 शिखर सम्मेलन में कंजरवेटिव पार्टी के नेता व प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के साथ हाथ मिलाते हुए तस्वीर छपी है। इसमें टोरी सांसद के बारे में एक संदेश लिखा है कि उन्हें बचकर रहना चाहिये।

    टोरी सांसद ने भी लेबर पार्टी पर साधा निशाना

    कंजरवेटिव नेता और टोरी सांसद रिचर्ड होल्डन ने ट्विटर पर इसकी एक तस्वीर पोस्ट की तो सोशल मीडिया पर उग्र प्रतिक्रियाएं मिलने लगीं। उनसे सवाल किया गया कि क्या इसका मतलब यह है कि लेबर पार्टी के नेता सर कीर स्टार्मर को भारतीय प्रधानमंत्री के साथ हाथ मिलाते हुए नहीं देखा जाएगा।

    लेबर पार्टी पर ब्रिटेन-भारत के रिश्तों में फूट डालने का आरोप

    इस प्रचार सामग्री को लेकर लेबर पार्टी के नेताओं के बीच भी आक्रोश है। लेबर फ्रैंड्स ऑफ इंडिया (एलएफआईएन) ने इसे तत्काल वापस लेने की मांग की। एलएफआईएन ने एक बयान में कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि लेबर पार्टी ने अपनी लीफलेट पर दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र और ब्रिटेन के सबसे करीबी दोस्तों में से एक भारत के प्रधानमंत्री की 2019 के जी-7 सम्मेलन की एक तस्वीर इस्तेमाल की है। लेबर पार्टी के भारतीय मूल के वरिष्ठ सांसद वीरेंद्र शर्मा ने भी इस कदम की निंदा की है।

     

    By आदित्य सिंह

    दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *