बैडमिंटन विश्व चैम्पियनशिप : सिंधु, प्रणीत के लिए सेमीफाइनल की राह आसान नहीं

0
पीवी सिंधु
bitcoin trading

बासेल (स्विट्जरलैंड), 23 अगस्त (आईएएनएस)| ओलम्पिक रजत पदक विजेता पी.वी. सिंधु और बी.साई प्रणीत ने अपने-अपने मुकाबले जीतकर यहां जारी बीडब्ल्यूएफ बैडमिंटन विश्व चैम्पियनशिप-2019 के क्वार्टर फानल में प्रवेश कर लिए हैं, लेकिन सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए दोनों भारतीयों को कड़ी चुनौती से गुजरना होगा।

दुनिया की पांचवें नम्बर की खिलाड़ी सिंधु ने गुरुवार को महिला एकल के तीसरे दौर में अमेरिका की बेइवन झांग को 21-14, 21-6 से हराया। वर्ष 2017 और 2018 में रजत तथा 2013 व 2014 में कांस्य पदक जीत चुकीं सिंधु ने 34 मिनट में यह मैच समाप्त किया।

सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए सिंधु को अब क्वार्टर फाइनल में दुनिया की दूसरे नंबर की खिलाडी चीनी ताइपे की ताई जू यिंग से भिड़ना है, जिनके खिलाफ पिछले 14 मुकाबलों में सिंधु केवल चार में ही जीत दर्ज कर पाई हैं जबकि 10 में यिंग ने बाजी मारी है।

सिंधु पिछले साल एशियाई खेलों में भी यिंग से शिकस्त खा चुकी हैं। भारतीय खिलाड़ी ने गत वर्ष यिंग के खिलाफ तीन मुकाबले खेले थे और तीनों में उन्हें यिंग के खिलाफ हार मिली थी।

2017 में यिंग और सिंधु के बीच तीन मुकाबले खेले गए थे और तीनों में यिंग ने फतह हासिल की थी। हालांकि सिंधु 2016 में रियो ओलम्पिक में यिंग को मात दे चुकी हैं। 2016 में सिंधु तीन बार यिंग के खिलाफ कोर्ट पर उतरी हैं, जिसमें से एक ही जीती हैं।

पुरुष एकल में प्रणीत ने इंडोनेशिया के एंटोनी सिनीसुका गिटिंग को हराकर चैम्पियनशिप क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया। 16वें सीड प्रणीत ने छठी सीड गिटिंग को 21-19, 21-13 से हरा दिया। प्रणीत ने 42 मिनट में यह मुकाबला जीता।

प्रणीत ने इस जीत के बाद बीडब्ल्यूएफ की वेबसाइट पर कहा कि यह मैच उनके लिए काफी महत्वपूर्ण था और वह इसे जीतने के लिए प्रतिबद्ध थे।

उन्होंने कहा, “ड्रा ज्यादा मुश्किल नहीं था। यह मैच काफी अहम था और मैं इसे जीतने से काफी खुश हूं। मुझे पता था कि मैं अच्छा कर रहा हूं और मैंने इस तेजी के लिए काफी तैयारी की थी। दूसरे गेम में अचानक पीछे हो गया, लेकिन एक बार जब मैंने 14-11 की बढ़त ले ली तो फिर मैंने अपने खेल को पूरा करने का मन बना लिया।”

प्रणीत को क्वार्टर फाइनल में चौथी सीड इंडोनेशिया के जोनाटन क्रिस्टिली से भिड़ना है, जिनके खिलाफ प्रणीत पिछले तीन मुकाबलों में केवल में एक में ही जीत दर्ज कर पाए हैं।

प्रणीत ने 2017 के थाईलैंड ओपन में जोनाटन को हराया था, लेकिन पिछले साल उन्हें दो बार जोनाटन से हार मिली है।

सिंधु और प्रणीत क्वार्टर फाइनल में पहुंच गए, लेकिन सायना नेहवाल, एचएस प्रणॉय और किदाम्बी श्रीकांत हारकर प्रतियोगिता से बाहर हो गए।

वर्ष 2017 में कांस्य और 2015 में रजत पदक जीतने वाली सायना को डेनमार्क की मिया ब्लीकफेल्ड ने 15-21, 27-25, 21-12 से दी शिकस्त दी। सायना एक घंटे 12 मिनट तक चले कड़े और संघर्षपूर्ण मुकाबले में पहला गेम जीतने के बाद अगले दो गेम और मैच हारकर बाहर हो गईं।

प्रणॉय को अपने तीसरे दौर के मुकाबले में दुनिया के नम्बर-1 खिलाड़ी जापान के केंटो मोमोटा ने हराया। टॉप सीड मोमोटा ने एक कड़े मुकाबले में प्रणॉय को 21-19, 21-12 से पराजित किया। नंबर वन मोमोटा ने 56 मिनट में यह मुकाबला जीतकर क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया।

क्वार्टर फाइनल में मोमोटा का सामना 14वीं सीड मलेशिया के ली जी जिया से होगा, जिनके खिलाफ मोमोटा का 2-0 का रिकॉर्ड है।

वहीं, श्रीकांत थाईलैंड के कांटाफोन वांचारोएन की चुनौती से पार नहीं पा सकें। टूनार्मेंट के सातवें सीड श्रीकांत को वांचारोएन ने 40 मिनट में 21-14 21-13 से शिकस्त दी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here