Tue. Jul 23rd, 2024
    bulandshahar

    भाजपा के एक विधायक ने गुरुवार को पूर्व नौकरशाहों की आलोचना की जिन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बुलंदशहर हिंसा पर इस्तीफा मांगा था। विधायक ने कहा कि वे केवल दो लोगों के मौत के लिए चिंतित थे, 21 गायों की हत्या के लिए नहीं।

    बुलंदशहर में अनुपशाहर विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले विधायक संजय शर्मा ने यह भी कहा कि केवल लोगों के पास भारी जनादेश के साथ चुने गए मुख्यमंत्री को हटाने की शक्ति है।

    80 से अधिक पूर्व नौकरशाहों ने बुधवार को एक खुला पत्र लिखा था जिसमें बुलंदशहर के स्याना तहसील में 3 दिसंबर को गौहत्या के विरोध में हिंसा भड़क उठी थी, जिसमे भेद द्वारा एक पुलिस अधिकारी की भी हत्या कर दी गई थी।

    पूर्व नौकरशाहों ने आदित्यनाथ पर कट्टरपंथी होने का आरोप लगाया था और हिंसा के दौरान ड्यूटी पर तैनात पुलिस निरीक्षक सुबोध कुमार सिंह और एक नागरिक सुमित कुमार की मौत पर इस्तीफा मांगा था। ”

    विधायक शर्मा ने गुरुवार को अपने खुले पत्र में लिखा “अब आप सभी बुलंदशहर घटना के बारे में चिंतित हैं। आपके कल्पनाशील दिमाग में सुमित और कर्तव्यबद्ध पुलिस निरीक्षक की केवल दो मौतें देख पा रही है। आप देख नहीं सकते कि 21 गायों की भी मृत्यु हो गई है। ”

    उन्होंने लिखा “एक ऐसे राज्य में जहां किसानों पिछले दो वर्षों से अपनी फसलों के नुकसान को सहन कर रहे हैं औरगौ  हत्या रोकने के लिए मुख्यमंत्री का शुक्रिया अदा करते हैं तो फिर हिंदू गाय की हत्या कैसे सहन करेगा? अगर किसी गाय की हत्या नहीं होती, तो ऐसी घटना नहीं होती थी। इसलिए गौ हत्यारों के खिलाफ कारवाई बिलकुल सही है।”

    कुछ ही दिनों पूर्व पुलिस ने गौहत्या के तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया था। इन तीन आरोपियों के खिलाफ स्थानीय बजरंग दल नेता योगेश राज ने पुलिस में एफआईआर दर्ज कराया था। योगेश राज खुद भी पुलिस इन्स्पेक्टर सुबोध कुमार की हत्या का आरोपी है, जो हिंसा में भीड़ के हत्थे चढ़ गए थे।

    हिंसा के बाद पुलिस ने 27 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी और 60 अज्ञात लोगों के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज किया था।

    विधायक शर्मा ने कहा कि “पूर्व सिविल सेवकों ने एक विशेष समुदाय के खिलाफ पूर्वाग्रह का आरोप मुख्यमंत्री पर लगाया है, जबकि उन्होंने खुद एक बड़ी तीन दिवसीय कलीसिया (मुसलमानों का समारोह, जो बुलंदशहर हिंसा वाले स्थान से 50 किलोमीटर दूर हो रहा था) रखने की अनुमति दी थी। यह उसी राज्य में हुआ जहां पिछली सरकार गांवों में रामलीला आयोजित करने की अनुमति नहीं देती थी। अगर कोई पूर्वाग्रह होता, तो सरकार कलीसिया को क्यों अनुमति देगी?”

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *