गुरूवार, नवम्बर 14, 2019

बेल्ट एंड रोड पर भारत के अध्ययन को चीन ने किया खारिज

Must Read

गन्ने को प्रदेश के औद्योगिक विकास की बुनियाद बनाएंगे : योगी

लखनऊ, 13 नवम्बर(आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यहां कहा कि भविष्य में गन्ना प्रदेश...

शी चिनफिंग ने एक्रोपोलिस संग्रहालय का दौरा किया

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और उनकी पत्नी फंग लीयुआन ने 12 नवंबर को ग्रीस के...

हांगकांग चीन का घरेलू मामला : चीन

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। हांगकांग चीन का हांगकांग है। हांगकांग का मामला चीन का घरेलू मामला है। कोई भी...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

चीन ने नेपाल और पाकिस्तान के द्वारा बीआरआई की परियोजना को दरकिनार करने वाली भारत की रिपोर्ट को खारिज किया है। दोनों राष्ट्रों में हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट और चीनी फंडेड बाँध के निर्माण को रद्द करने की रिपोर्ट को भी खारिज किया है। भारत के एक अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक “बीजिंग की अस्वीकृत शर्तों के कारण काठमांडू और इस्लामाबाद बीआरआई परियोजना से पल्ला झाड़ने की जुगत में हैं।”

बीजिंग के सदाबहार दोस्त पाकिस्तान ने डीअमेर-भाषा बाँध के निर्माण को रद्द कर दिया था और नेपाल ने 750 मेगावाट के हाइड्रोपावर प्रोजक्ट के कार्य को भी रोक दिया था। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा कि “मीडिया में जारी उपरोक्त प्रोजेक्ट के बारे में जानकारी गलत है।”

उन्होंने कहा कि “पाकिस्तान में बाँध प्रोजेक्ट बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव में शामिल नहीं था और नेपाल में हाइड्रोपावर प्लांट पर बातचीत अभी जारी है। चीन की हारबर इंजीनियरिंग कंपनी को ब्लैकलिस्ट करने की खबर भी गलत है। कंपनी द्वारा बांग्लादेश में सरकारी अधिकारीयों को घूस देने की खबर प्रकाशित हुई थी।

चीन ने चीन-पाक आर्थिक गलियारे पर 60 अरब डॉलर का निवेश किया है। भारत इस परियोजना का विरोध करता है क्योंकि यह पाक अधिकृत कश्मीर होकर गुजरेगी। चीनी प्रवक्ता ने कहा कि “सभी प्रोजेक्टों पर बराबर बातचीत चल रही है और कुछ चुनौतियाँ आने से यह तथ्य नहीं बदल जायेगा कि बीआरआई ने आर्थिक विकास में सकारात्मक भूमिका निभाई है।”

उन्होंने कहा कि “हम बाजार के सिद्धांत और अंतर्राष्ट्रीय नियमों का पालन कर रहे हैं, हम कभी अपनी इच्छा दूसरे पर नहीं थोपेंगे और इसमें कोई अस्वीकृत शर्ते शामिल नहीं है।” चीन का मकसद एशिया, यूरोप और अफ्रीका को हाईवे के माध्यम से जोड़ना है। इस प्रोजेक्ट के तहत 65 देशों में एक ट्रिलियन डॉलर का निवेश किया जायेगा। चीन के मुताबिक यह प्रोजेक्ट पूरी तरह आर्थिक है। भारत को भय है कि चीन उसके पडोसी देशों पर कर्ज का बोझ डालकर उन्हें कर के दलदल में फंसा देगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

गन्ने को प्रदेश के औद्योगिक विकास की बुनियाद बनाएंगे : योगी

लखनऊ, 13 नवम्बर(आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यहां कहा कि भविष्य में गन्ना प्रदेश...

शी चिनफिंग ने एक्रोपोलिस संग्रहालय का दौरा किया

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और उनकी पत्नी फंग लीयुआन ने 12 नवंबर को ग्रीस के राष्ट्रपति प्रोकोपिस पावलोपोलोस दंपति के...

हांगकांग चीन का घरेलू मामला : चीन

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। हांगकांग चीन का हांगकांग है। हांगकांग का मामला चीन का घरेलू मामला है। कोई भी विदेशी सरकार, संगठन और निजी...

मोदी हर काम में पादर्शिता चाहते हैं : साध्वी निरंजन ज्योति

नई दिल्ली, 13 नवंबर (आईएएनएस)। ग्रामीण विकास राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चाहते हैं कि हर काम...

बीबी की आदतों से आजिज इंजीनियर पति ने जान दे दी

फरीदाबाद, 13 नवंबर (आईएएनएस)। बीबी से आए-दिन होने वाली चिक-चिक से परेशान इंजीनियर ने जहर खा लिया। उसे गंभीर हाल में अस्पताल में दाखिल...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -