सोमवार, जनवरी 27, 2020

बिटकॉइन 15000 डॉलर के पार, आरबीआई ने निवेशकों को सतर्क रहने को कहा

Must Read

ताइवान में कोरोनावायरस संबंधी मामले बढ़कर 4 हुए

ताइपे, 27 जनवरी (आईएएनएस)| ताइवान की एक और महिला के कोरोनोवायरस (Corona Virus) से संक्रमित होने की पुष्टि हुई...

अरविंद केजरीवाल के निर्वाचन क्षेत्र के 11 उम्मीदवारों की याचिका पर सुनवाई को हाईकोर्ट सहमत

नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)| दिल्ली हाईकोर्ट नई दिल्ली विधानसभा के लिए नामांकन करने से रोके गए 11 उम्मीदवारों...

आरएसएस का पहला सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में

लखनऊ, 27 जनवरी (आईएएनएस)| राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) द्वारा संचालित पहला सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में इस...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

डिजिटल मुद्रा बिटकॉइन ने आज गुरुवार को 15000 डॉलर का आंकड़ा पार कर लिया है। बिटकॉइन के दामों में इस तेजी को देखते हुए विश्वभर में निवेशक इसमें दिलचस्पी दिखा रहे हैं। जाहिर है कुछ ही दिनों में शिकागो स्थित एक कंपनी बिटकॉइन फ्यूचर का कारोबार शुरू करने जा रही है, जिससे पहले निवेशक बिटकॉइन को लेकर काफी उत्साहित दिख रहे हैं।

बिटकॉइन सम्बन्धी वेबसाइट कॉइनगेको पर बिटकॉइन ने आज का अधिकतम मूल्य 15,340 डॉलर का आंकड़ा छुआ। हालाँकि एक ही दिन में इसकी कीमत में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिला। दिन की न्यूनतम कीमत 12,662 डॉलर पर रही।

इससे पहले बुधवार 6 दिसम्बर को बिटकॉइन ने पहले तो 12000 डॉलर की अधिकतम उंचाई को छुआ और फिर अगले 24 घंटों में ही इसने 14000 डॉलर का आंकड़ा पार कर लिया।

बिटकॉइन की इस रिकॉर्ड उंचाई को सबसे पहले बिटकॉइन व्यापारी वेबसाइट कॉइनबेस पर देखा गया था, जहाँ इसने कल देर रात 14000 डॉलर के आंकड़े को छुआ। बिटकॉइन ने कल हालाँकि अधिकतम 14400 डॉलर की कीमत को छुआ।

कल हालाँकि यह भी देखने को मिला कि कई विभिन्न प्लेटफार्म पर बिटकॉइन की कीमत अलग अलग देखने को मिली। उदाहरण के तौर पर कॉइनडेस्क नामक एक अन्य बिटकॉइन संबधी वेबसाइट पर बिटकॉइन ने देर रात तक 14000 डॉलर का आंकड़ा नहीं छुआ था। हालाँकि बाद में इसे 14000 डॉलर को पार कर लिया था।

आपको बता दें कि पिछले सप्ताह बिटकॉइन में भारी तेजी और गिरावट देखने को मिली थी। इस दौरान पहले तो बिटकॉइन ने 11500 डॉलर के आंकड़े को पार किया, और बाद में गिरकर 9500 भी पहुँच गया था। इसके बाद हालाँकि निवेशकों में मन में संदेह उत्पन्न हो गया था। लेकिन, इस सप्ताह जिस तरह बिटकॉइन में नियंत्रण आया है, निवेशक फिर से बड़ी तेजी से इसकी खरीददारी कर रहे हैं।

पुरे विश्व में इस समय कुल बिटकॉइन की कीमत करीबन 230 बिलियन (अरब) डॉलर हो गयी है। ऐसे में इस समय बिटकॉइन का कुल मूल्य कई बड़े देशों की कुल अर्थव्यवस्था से भी ज्यादा हो गया है।

इस साल जबरदस्त बढ़त

आपको बता दें कि साल 2017 की शुरुआत में एक बिटकॉइन की कीमत 1000 डॉलर के पास थी। सिर्फ एक साल में इसके करीबन 1500% की बढ़त हासिल कर ली है। इतनी तेजी से बिटकॉइन की कीमतों में वृद्धि का मुख्य कारण है, लोगों के बीच इसकी लोकप्रियता।

बिटकॉइन कीमत वृद्धि

बिटकॉइन की कीमतों में वृद्धि को देखते हुए दुनियाभर के कई बैंक और ट्रेडिंग कंपनियां बिटकॉइन का सार्वजानिक रूप से व्यापार करने की सोच रही है। अमेरिका की एक कंपनी तो अगले सप्ताह से बिटकॉइन फ्यूचर का कारोबार शुरू करने जा रही है। इसके बाद अब एक शिकागो स्थित बो ग्लोबल मार्किट नामक एक और कंपनी ने बिटकॉइन के कारोबार की घोषणा कर दी है।

बिटकॉइन की बढती लोकप्रियता के बीच अभी भी कई लोगों का मानना है कि बिटकॉइन में निवेश सही नहीं है। जेपी मॉर्गन चेज के जेमी डिमोन के मुताबिक बिटकॉइन ‘फ्रॉड’ है। उनका कहना है कि बिटकॉइन हमारी जिन्दगी का सबसे बड़ा बबल है, जो बहुत जल्दी फूटने वाला है।

भारतीय रिज़र्व बैंक की चेतावनी

बिटकॉइन में जबरदस्त उछाल के बावजूद भारत के रिज़र्व बैंक ने निवेशकों को इससे सतर्क रहने को कहा है। आरबीआई का कहना है कि विभिन्न कारणों की वजह से बिटकॉइन में निवेश करना एक जोखिमपूर्ण कार्य हो सकता है।

आरबीआई के निर्देश की मुख्य बातें:

  • डिजिटल रूप में होने की वजह से बिटकॉइन जैसी आभासी मुद्राओं को डिजिटल मीडिया में रखा जाता है, जिसे इलेक्ट्रॉनिक वालेट कहा जाता है। ऐसे में किसी तकनीकी समस्या जैसे हैकिंग आदि की वजह से इनमे सेंध का खतरा है। चूंकि कोई भी बड़ी संस्था इसका व्यापार करने की सलाह नहीं देती है, निवेशक इसके खुद जिम्मेदार होंगे।
  • डिजिटल मुद्राओं के द्वारा भुगतान सिर्फ एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति को ही होती है। इसमें बीच में कोई बड़ी संस्था नहीं रहती है। ऐसे में लेन-देन में किसी प्रकार की भी घटना हो सकती है।
  • बिटकॉइन में बड़ी मात्रा में उतार-चढ़ाव यह दर्शाता है कि यह संतुलित नहीं है। ऐसे में यह जोखिम भरा हो सकता है।
  • यह कहा जाता है कि डिजिटल मुद्राओं का प्रयोग ज्यादातर अवैध कार्यों में ही होता है। ऐसे में इसमें निवेश करने वाले लोग क़ानूनी रूप से भी सुरक्षित नहीं हैं।
- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

ताइवान में कोरोनावायरस संबंधी मामले बढ़कर 4 हुए

ताइपे, 27 जनवरी (आईएएनएस)| ताइवान की एक और महिला के कोरोनोवायरस (Corona Virus) से संक्रमित होने की पुष्टि हुई...

अरविंद केजरीवाल के निर्वाचन क्षेत्र के 11 उम्मीदवारों की याचिका पर सुनवाई को हाईकोर्ट सहमत

नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)| दिल्ली हाईकोर्ट नई दिल्ली विधानसभा के लिए नामांकन करने से रोके गए 11 उम्मीदवारों की याचिका पर सुनवाई को...

आरएसएस का पहला सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में

लखनऊ, 27 जनवरी (आईएएनएस)| राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) द्वारा संचालित पहला सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में इस साल अप्रैल में शुरू होगा।...

उत्तर प्रदेश: कानपुर पुलिस ने थाने में कराई प्रेमी युगल की शादी

कानपुर, 27 जनवरी (आईएएनएस)| कानपुर के जूही पुलिस स्टेशन के अंदर रविवार को एक प्रेमी युगल की शादी कराई गई है। इस दौरान शादी...

कांग्रेस ने अदनान सामी को पद्मश्री देने पर सवाल उठाया

नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)| कांग्रेस ने गायक अदनान सामी को पद्म पुरस्कार देने के केंद्र सरकार के फैसले पर सवाल उठाया है। कांग्रेस...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -